Hindi News »Rajasthan »Ajmer» ये जोखिमभरे रास्ते हैं शहर के, चलना पड़ेगा संभल-संभल कर...

ये जोखिमभरे रास्ते हैं शहर के, चलना पड़ेगा संभल-संभल कर...

शहर के व्यस्ततम रास्तों में भी जानलेवा ब्लेक स्पॉट हैं। सावधानी हटते ही इन पाइंट पर दुर्घटना होती हैं। हजारी बाग...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 01, 2018, 03:15 AM IST

ये जोखिमभरे रास्ते हैं शहर के, चलना पड़ेगा संभल-संभल कर...
शहर के व्यस्ततम रास्तों में भी जानलेवा ब्लेक स्पॉट हैं। सावधानी हटते ही इन पाइंट पर दुर्घटना होती हैं। हजारी बाग तिराहा, मार्टिंडल ब्रिज, सीआरपीएफ ब्रिज और रीजनल कालेज तिराहा जोखिम भरे ट्रैफिक पाइंट हैं। जिले में पुलिस की ओर से चिन्हित किए गए 52 ब्लैक स्पॉट में शामिल इन जगहों पर हर महीने दस से ज्यादा हादसे होते हैं।

पिछले एक साल में इन जगहों पर सड़क हादसों में पांच लोगों की जान जा चुकी है और कई लोग जख्मी हुए हैं। उल्लेखनीय है कि अजमेर जिले में पिछले दो साल में सड़क हादसों में 1198 लोगों की जान गई हैं। इस साल पुलिस का टारगेट है कि सड़क हादसों में दस फीसदी कमी की जाए। पुलिस ने जो 52 ब्लैक स्पॉट चिन्हित किए हैं, इन जगहों पर कहीं ट्रैफिक इंजीनियरिंग फेल हो रही है, तो कहीं पर लोग ट्रैफिक नियमों की अनदेखी कर हादसों का शिकार हो रहे हैं।

जिले में पिछले दो साल के दौरान सड़क हादसों में 1198 लोगों की जान गई, पुलिस की ओर से चिह्नित किए गए 52 ब्लैक स्पॉट, इन जगहों पर हर महीने दस से ज्यादा हादसे

हजारी बाग तिराहा

ब्यावर रोड पर रेलवे अस्पताल से जीसीए चौराहे के बीच हजारी बाग तिराहे का यह इलाका लंबे समय से डेंजर पाइंट बना हुआ है। कारण साफ है इस जगह पर प्राइवेट टैक्सी वाहन और बसे सड़क के दोनों तरफ खड़ी रहती है, इससे हादसे होते हैं। जीसीए चौराहे से हजारी बाग तक सड़क पर अतिक्रमण कारी काबिज है। दूसरा कारण हजारी बाग की ओर से आने वाले वाहन मेन रोड पर हादसे का शिकार होते हैं।

लव-कुश तिराहा

रीजनल कालेज तिराहे को गलफत तिराहा भी कहा जाए तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी, क्योंकि यह पाइंट लंबे समय से डेंजर बना हुआ है। मित्तल अस्पताल से वैशाली नगर नई चौपाटी की तरफ जाने वाले वाहन, वैशालीनगर से पुष्कर की ओर तथा मित्तल अस्पताल की ओर जाने वाले वाहन व पुष्कर की ओर से वैशाली नगर की ओर मुड़ने वाले वाहन दिन में कई बाद गलफत में हादसे का शिकार होते हैं।

मार्टिंडल ब्रिज ट्रैफिक पाइंट

मार्टिंडल ब्रिज पर बना ट्रेफिक पाइंट ब्लेक स्पॉट बना हुआ है, कारण यह है कि स्टेशन रोड से ब्यावर रोड भुजा पर जाने वाले वाहन, श्रीनगर रोड और नसीराबाद रोड से ब्यावर रोड या फिर स्टेशन रोड भुजा पर जाने वाले वाहन आपस में भिड़ते हैं, क्योंकि वाहन चालक गलफत में टर्न लेते समय राँग साइड में आते हैं। स्टेशन रोड से तेजी से चढ़ने वाले वाहन तो कई बार इस स्पॉट पर सर्किल या डिवाइडर से टकराते हैं।

ब्लेक स्पॉट पर होगा सुधार

पुलिस मुख्यालय ने इस साल की पुलिस प्राथमिकताओं में सड़क हादसों में जन हानि का आंकड़ा दस फीसदी कम करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। इसमें लिए प्रदेश भर में सभी थानों को दस-दस हजार रुपए का बजट आवंटित किया गया है, पुलिस इस बजट का उपयोग घोषित ब्लेक स्पॉट पर लोगों को जागरूक करने के लिए संकेतक बोर्ड, फ्लेक्स और हादसे रोकने के अन्य उपायों पर करेगी। एसपी राजेंद्र सिंह चौधरी के अनुसार सार्वजनिक निर्माण विभाग और सेफ्टी से जुड़ी एजेंसियों के साथ मिलकर ट्रेफिक इंजीनियरिंग को सुधारने के लिए भी कार्रवाई की जा रही है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Ajmer News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: ये जोखिमभरे रास्ते हैं शहर के, चलना पड़ेगा संभल-संभल कर...
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Ajmer

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×