• Hindi News
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • शिक्षा विभाग से ऑनलाइन कनेक्ट होंगे संस्था प्रधान
--Advertisement--

शिक्षा विभाग से ऑनलाइन कनेक्ट होंगे संस्था प्रधान

Ajmer News - शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी ने कहा है कि पिछले चार वर्षों में राजस्थान में स्कूली शिक्षा में क्रांतिकारी...

Dainik Bhaskar

Mar 04, 2018, 07:15 AM IST
शिक्षा विभाग से ऑनलाइन कनेक्ट होंगे संस्था प्रधान
शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी ने कहा है कि पिछले चार वर्षों में राजस्थान में स्कूली शिक्षा में क्रांतिकारी रूप से सकारात्मक बदलाव हुआ है। राजस्थान शिक्षा के क्षेत्र में 18वें से तीसरे स्थान पर आ गया है और बहुत ही शीघ्र हम पूरे देश में अव्वल होंगे। प्रदेश की यह सफलता हमारे योग्य शिक्षकों के बल पर है। हम इस परिवर्तन को और गति देंगे, ताकि हमारे विद्यार्थी पूरे देश में सबसे आगे रहें। वर्तमान युग सूचनाओं के तेजी से आदान-प्रदान का युग है। राजस्थान के सभी संस्था प्रधान अब विभाग से ऑनलाइन भी कनेक्टेड होंगे।

शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी ने शनिवार को अजमेर से प्रदेश के सभी प्रधानाध्यापक एवं प्रधानाचार्यों को टेबलेट वितरण योजना का शुभारंभ किया। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि उन्होंने कहा कि टेबलेट वितरण से संस्था प्रधान सीधे शिक्षा विभाग से संपर्क में रहेंगे। सूचना के आदान-प्रदान में तेजी आएगी। शैक्षिक गुणवत्ता के लिए हमने कक्षा एक से 8 तक विद्यालयों में लर्निंग लेवल तय किए हैं। राजस्थान प्राथमिक शिक्षा परिषद और रमसा को एकीकृत करके प्रदेश में शिक्षा का और अधिक प्रभावी विकास किया जाएगा।

टेबलेट वितरित करते शिक्षा राज्यमंत्री देवनानी।

85 हजार करोड़ रुपए व्यय हुआ

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने पिछले चार वर्षों में नवाचारों को अपनाते हुए गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए प्रतिबद्ध रहते हुए 85 हजार करोड़ रुपए बजट व्यय कर प्रदेश को शिक्षा क्षेत्र में अग्रणी राज्य बनाने की पहल की है। इसी से हाल के आए राष्ट्रीय सर्वे में कभी 18 वें स्थान पर रहने वाला राजस्थान आज शिक्षा क्षेत्र में तीसरे स्थान पर आ गया है।

नई शुरुआत से शैक्षिक उन्नयन

देवनानी ने कहा कि प्रारंभिक शिक्षा में पंचायत स्तर पर सुदृढ़ मॉनिटरिंग के लिए पंचायत एलीमेंट्री एजुकेशन ऑफिसर लगाए गए हैं। देशभर में स्टार्टिंग पैटर्न की सराहना हुई है। चरणबद्ध तरीके से प्रदेश में प्री प्राइमरी स्कूल की शुरुआत की गई, जिसके तहत 11500 आंगनबाड़ी केंद्रों को स्कूलों से एकीकृत किया गया। विद्यालयों के विकास के लिए विद्यालय सलाहकार समितियों का गठन किया गया। मातृ शक्ति से शैक्षिक उन्नयन के लिए पहली बार ‘मदर-टीचर्स’ बैठकों का आयोजन किया गया। इस अवसर पर शिक्षा विभाग के अधिकारी सीताराम शर्मा एवं अन्य जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।

X
शिक्षा विभाग से ऑनलाइन कनेक्ट होंगे संस्था प्रधान
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..