Hindi News »Rajasthan News »Ajmer News» Aditi Kalyani Became Writer In Young Age

बिल्लियों को खेलते देख की दोस्ती, 9 की उम्र में स्टाेरी बुक लिख बनी राइटर

अतुल सिंह | Last Modified - Nov 06, 2017, 08:07 AM IST

द एडवेंचर्स ऑफ ट्यूबी एंड हर फ्रैंड्स’ नाम की किताब को बाकायदा इंटरनेशनल स्टेंडर्ड बुक नंबर भी मिला है।
  • बिल्लियों को खेलते देख की दोस्ती, 9 की उम्र में स्टाेरी बुक लिख बनी राइटर
    +1और स्लाइड देखें
    दोस्त बनी बिल्लियों की कहानियां बनाकर किताब रच डाली 9 साल की अदिति ने।
    अजमेर.घर के बाहर एक हैंडपंप, जहां रोज 5 बिल्लियां खेलने आती थीं। वो उन्हें खेलते देखती, धीरे-धीरे सभी बिल्लियों के नाम रख दिए और उनकी हरकतों को उसने कागज पर उकेरना शुरू कर दिया। जो उम्र उसकी कहानियां सुनने की थी, उस उम्र में उसने एक नहीं बल्कि 11 कहानियां उन बिल्लियों पर गढ़ दीं, उन कहानियों को एक साथ पिरोकर किताब का नाम रखा “द एडवेंचर्स ऑफ ट्यूबी एंड हर फ्रेंड्स’। अजमेर की इस नन्ही लेखिका का नाम है अदिति कल्याणी और उम्र है महज 9 साल। इंटरनेशनल स्टेंडर्ड बुक नंबर (आईएसबीएन) तक मिला है...

    - दो साल पहले से कहानियां लिखने का सिलसिला शुरू हुआ। घर के बाहर बिल्लियों को खेलते देख अदिति रोज नई-नई कहानियां बनाती आैर मम्मी-पिता को सुनाती। बिल्लियों का नाम दे दिए गए, उनकी हरकतों को शब्दों में आैर उसके तरह-तरह स्कैच को जब कागज पर उकेरना शुरू किया तो कहानियां बनती चली गईं।
    - “द एडवेंचर्स ऑफ ट्यूबी एंड हर फ्रैंड्स’ शीर्षक से प्रकाशित हुई यह किताब को बाकायदा इंटरनेशनल स्टेंडर्ड बुक नंबर (आईएसबीएन) तक मिला है।
    - कॉन्वेंट स्कूल की यह नन्ही कहानीकार अदिति कल्याणी से उसकी लिखी कहानियां आप सुनेंगे तो चौंक जाएंगे। इतनी छोटी उम्र में जो शब्दावली उसने अपनी पुस्तक में इस्तेमाल की है, वो किसी सधे हुए कहानीकार से कम नहीं। अदिति अब अपनी किताब की प्रतियां निशुल्क अपनी कक्षा में तो बांटेगी ही, साथ ही बाल दिवस पर सभी स्कूलों की लाइब्रेरी को भी भेंट करेगी।
    राज्य की सबसे कम उम्र की कहानीकार
    - अदिति की लिखी कहानियों की किताब की कीमत 100 रुपए रखी गई है। अदिति के माता-पिता एडवोकेट पवन कल्याणी आैर राजकीय महिला इंजीनियरिंग कॉलेज की असिस्टेंट प्रो. विजयलक्ष्मी कल्याणी का दावा है कि अदिति राज्य की सबसे कम उम्र की कहानीकार है। नेशनल आैर इंटरनेशनल रिकॉर्ड की लिए आवेदन किए गए हैं।
    - विश्व में 6 साल की लेखिका डोर्थी स्ट्रेट की “हाउ द वर्ल्ड बिगन’, 6 साल उम्र के ही क्रिस्टोफर बैले की “दिस एंड लास्ट सीजन एक्सक्यूरिसन’ आैर 15 साल के लेखक क्रिस्टोफर पाआेलिनी की “इनहेरिटेन्स’ शीर्षक से लिखी किताबें प्रसिद्धि पा चुकी हैं।
    - यही नहीं एलिक ग्रेवेन, मेटी स्टीपानैक, गुप्तारा ट्विंस, एलेक्जेंडर पोपे, जैक मारकोनिटे, नैंसी यीफेन आैर फैलाविया बुजोर भी सबसे यंग ऑथर की गिनती में आते हैं। वहीं भारत में सिरसा हरियाणा के 8 साल के रुझान चौधरी की “नन्हे पंखों की उड़ान’ आैर हैदराबाद की संजीवनी आईके की “लवली बर्ड्स’ पब्लिश हो चुकी हैं। यशवर्धन शुक्ला, निहारिका चौपड़ा आैर रोनिन चटर्जी भी यंग ऑथर्स की गिनती में आते हैं।
    जैसा लिखा, स्कैच बनाया...वैसा का वैसा पब्लिश
    - अदिति के पेरेंट्स ने बताया कि जैसा उसने लिखा आैर स्कैच बनाए ठीक वैसा ही बुक में प्रिंट किया गया है। कहीं किसी तरह की कोई कांट-छांट नहीं है। बुक में कुल 11 कहानियां हैं आैर हर कहानी काे पढ़ने का अपना अलग एक मजा है।
    - अदिति ने हिंदी आैर इंग्लिश दोनों भाषाओं को मिक्स करके अपनी कहानियां लिखी हैं। लिखने के अलावा अदिति डांस, सिंगिंग, स्वीमिंग आैर टेबल टेनिस में भी उमदा प्रदर्शन कर रही है। अदिति की कहानियां आप जल्द ही https://aditikalyani.jindo.com पर पढ़ सकेंगे। उसकी कहानियां इंडिया स्टार बुक ऑफ रिकॉर्ड, मिरेकल बुक ऑफ रिकॉर्ड आैर लिमका बुक ऑफ रिकॉर्ड के लिए भेजी जा चुकी हैं।
    खुश होकर बोली अदिति - सबको दूंगी मेरी बुक, ताकि मेरी बिल्लियों को सब देखें-पढ़ें
    काॅन्वेंट गर्ल्स स्कूल की प्राचार्य सिस्टर शीना सहित सभी शिक्षिकाओं ने अदिति की पीठ थपथपाकर उत्साह बढ़ाया। अदिति ने बताया कि वे अपनी बेस्ट फ्रैंड गर्विता, अविता, काक्षी, हिमांगी आैर स्टेफी को अपनी बुक उपहार के तौर पर देगी। साथ ही पूरी क्लास को भी निशुल्क यह बुक दी जाएगी। यही नहीं, शहर के सभी स्कूलों की लाइब्रेरी में भी एक-एक कॉपी दी जाएगी।
    खूबसूरत अंदाज, आखिरी पेज पर लिखा थैंक्यू मम्मा
    - “द एडवेंचर्स ऑफ ट्यूबी एंड हर फ्रैंड्स’ यह बुक पांच बिल्लियों पर आधारित है। जिनका नाम टा, पू, ऑरेंज, चितकबरी आैर ट्यूबी है। ट्यूबी टीम लीडर है, जो काफी समझदार है। इसे ब्लैक गोगल्स लगाना पसंद है।
    - जबकि, अन्य बिल्लियों में टा बिल्ली को अपने पंजों में घुंघरू बांधना पसंद है, वहीं पू बिल्ली अपनी स्टाइल से सबको आकर्षित करती है, अपनी दुम को हमेशा सजाकर रखती है। ऑरेंज बिल्ली मोटी, आलसी आैर सुस्त है। चितकबरी बिल्ली चितकबरी है, अदिति यही सोचकर खुश है। बुक में सपोर्टिंग केरेक्टर्स के तौर पर दो चूहे हंपी-डंपी, आंटी, जे पांडा सहित अन्य शामिल हैं।
  • बिल्लियों को खेलते देख की दोस्ती, 9 की उम्र में स्टाेरी बुक लिख बनी राइटर
    +1और स्लाइड देखें
    अदिती की ‘द एडवेंचर्स ऑफ ट्यूबी एंड हर फ्रैंड्स’ शीर्षक से प्रकाशित हुई किताब।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Ajmer News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Aditi Kalyani Became Writer In Young Age
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From Ajmer

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×