Hindi News »Rajasthan »Ajmer» Fraudster Company Fraud With Several

पिनकॉन ग्रुप के रीजनल ऑफिस ने 30 Cr. ठगे, ज्यादा मुनाफे का लालच दे फांसा

एसओजी ने एलआरएन यूनिवर्स प्रोड्यूसर कंपनी के ऑफिस से जब्त की फाइलें

Bhaskar News | Last Modified - Nov 05, 2017, 09:29 AM IST

पिनकॉन ग्रुप के रीजनल ऑफिस ने 30 Cr. ठगे, ज्यादा मुनाफे का लालच दे फांसा
अजमेर.ज्यादा मुनाफा देने का झांसा देकर देशभर में निवेशकों काे करोड़ों की चपत लगाने वाले ग्रुप पिनकॉन की एलआरएन यूनिवर्स प्रोड्यूसर कंपनी के कचहरी रोड स्थित रीजनल आफिस को शनिवार को एसआेजी टीम ने खंगाला। एडिशनल एसपी पवन मीणा ने ऑफिस से निवेशकों से संबंधित सभी फाइलें जब्त की। मीणा के अनुसार पिनकोन ग्रुप ने अजमेर स्थित इस ऑफिस के माध्यम से करीब ढाई सौ निवेशकों से करीब तीस करोड़ रुपए बटोरे हैं।
- अजमेर ऑफिस को रीजनल स्तर का घोषित किया गया था आैर हर महीने औसतन चालीस लाख रुपए का निवेश इस ऑफिस से हुआ। पांच साल में इस ऑफिस से करीब तीस करोड़ रुपए से ज्यादा राशि पिनकॉन ग्रुप ने अर्जित की है। ऑफिस से बरामद दस्तावेजों की जांच से महाठगी के इस कारोबार के बारे में कई चौकाने वाले खुलासे होने की उम्मीद है। एसओजी मुख्यालय इस मामले की गहनता से जांच कर रहा है।
विभिन्न राज्यों में 3 लाख निवेशकों से 1600 करोड़ रुपए का निवेश कराया, पूरी रकम हजम
- देश के विभिन्न राज्यों में 3 लाख निवेशकों से 1600 करोड़ रुपए निवेश करवाकर पैसा हजम करने वाली पिनकॉन ग्रुप का राजस्थान में रीजनल ऑफिस अजमेर में था। कंपनी के चेयरमैन मनोरंजन दास ने 6 अन्य कंपनियां भी बनाई। अजमेर में उन कंपनियों को एक ही दफ्तर से संचालित किया जा रहा था।
- अजमेर के इंडिया मोटर चौराहे स्थित इंडियन हाइट्स मॉल के तीसरे माले पर एलआर यूनिवर्स प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड के दफ्तर को एसओजी ने दो दिन पहले सीज किया था। इसके बाद आज एसओजी ने दफ्तर को खोला और निवेशकों और कंपनी के बीच हुई लेनदेन के रिकॉर्ड को खंगाला। 500 से अधिक फाइलें एसओजी को मिली हैं।
- एसओजी की माने तो 250 से अधिक निवेशक अजमेर के कंपनी में अपनी पूंजी निवेश कर चुके थे। पांच वर्ष से संचालित कंपनी के दफ्तर में महीने के 40 लाख रुपये निवेशकों से कंपनी को मिलते थे। अजमेर एसओजी पवन मीणा के नेतृत्व में कंपनी के दफ्तर में कार्रवाई की गई है।
- पिनकॉन ग्रुप का प्रदेश में रीजनल अाफिस कचहरी रोड पर पिछले पांच साल से संचालित किया जा रहा था। आईजी दिनेश एमएन ने बताया कि तफ्तीश में सामने आया है कि अजमेर में ही ठगी का कारोबार मुख्य तौर पर किया जा रहा था।
- निवेशकों को ज्यादा मुनाफा देने का झांसा देकर कंपनी के लोग एक्सिस बैंक में कंपनी के खाते में रुपए जमा करवाते थे। इस राशि को बाद में पिनकॉन ग्रुप के खातों में ट्रांसफर किया जाता था। एसओजी की टीम बैंक खातों की भी गहनता से जांच कर रही है।
मुख्यालय भेजी जाएंगी जब्त फाइलें-
-एसओजी के एडिशनल एसपी पवन मीणा ने बताया कि मुख्यालय के आदेश पर शनिवार को उन्होंने दल के साथ कंपनी के दफ्तर से करीब पांच सौ दस्तावेज जब्त किए हैं। इन फाइलों के आधार पर गहन तफ्तीश की जाएगी। -अब तक की तफ्तीश में सामने आया है कि अजमेर स्थित कंपनी का यह ऑफिस रीजनल स्तर का था। यहां प्रदेश भर के निवेशकों की फाइलें संधारित की गई थी। उल्लेखनीय है कि अजमेर के निवेशक संदीप घोष की शिकायत पर ही एसओजी मुख्यालय ने ठगी के इस गोरखधंधे का खुलासा किया है।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ajmer

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×