--Advertisement--

बेकाबू ट्रेलर ने टायर बदल रहे बस ड्राइवर, खलासी व यात्री को कुचला

पंचर पहिया बदल रहे ड्राइवर, खलासी और उनकी मदद कर रहे बस यात्री को बेकाबू ट्रेलर ने चपेट में ले लिया।

Danik Bhaskar | Nov 25, 2017, 08:32 AM IST

अजमेर/सराधना. राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 8 पर तबीजी गैस प्लांट आडू के ढाबे के पास शुक्रवार तड़के करीब तीन बजे वीडियो कोच बस का पंचर पहिया बदल रहे ड्राइवर, खलासी और उनकी मदद कर रहे बस यात्री को बेकाबू ट्रेलर ने चपेट में ले लिया। तीनों की मौके पर ही मौत हो गई।
हृदय विदारक हादसे में बस ड्राइवर का शव ट्रोले से कुचल कर मांस के लोथड़ों में तब्दील हो गया, जबकि खलासी ट्रेलर की टक्कर से उछल कर काफी दूर गिरा। हादसे के बाद ट्रक-ट्रोला भी बेकाबू होकर पलटी खा गया। ट्रेलर में प्लाई और लकड़ी का सामान भरा था। उसका ड्राइवर उतरकर भाग गया। गनीमत रही ट्रोला बस से नहीं टकराया, अन्यथा उसमें बैठी सवारियों की जान सांसत में पड़ जाती।
न बस साइड में खड़ी थी, न ही ट्रेलर वाले ने ध्यान दिया
बस हादसे पर परिवहन विभाग के विशेषज्ञों ने जांच की तो सामने आया कि सुबह करीब 3 बजे बस पंचर हुई, तो वह तीसरी लेन में खड़ी की गई और टायर बदले जाने का काम किया जा रहा था। चूंकि यहां सर्विस लेन नहीं थी, इसलिए बस चालक को किसी होटल, ढाबे, फिर पेट्रोल पंप या अन्य खुली जगह पर टायर बदलने का काम करना था। वहीं ट्रेलर चालक को भी इस बात का ध्यान रखना चाहिए था कि आगे बस खड़ी है। संभवतया तेज स्पीड या गलत ओवरटेक के चक्कर में यह हादसा हुआ।

तेज रफ्तार से संभल नहीं पाया ट्रेलर चालक, हादसे के बाद बस यात्रियों में मची चीख पुकार

ट्रेलर चालक की नींद की झपकी हादसे का कारण मानी जा रही है। शुक्रवार तड़के करीब तीन बजे हाइवे पर हल्का कोहरा भी था। तबीजी गैस प्लांट के निकट आडू के ढाबे के पास दिल्ली से अहमदाबाद जा रही वीडियो कोच बस संख्या आरजे 27 पीए 9288 का टायर पंचर हो गया था। बस चालक पाली मस्तान बावड़ी निवासी नारू राम बंजारा, खलासी डूंगरपुर निवासी शंकर मीणा बस को सड़क के साइड में खड़ी कर पहिया बदल रहे थे। बस में सवार अहमदाबाद बोपल निवासी विकास उप्पल पुत्र अनिल कुमार भी नीचे उतर कर उनके पास खड़ा हो गया। इसी दौरान जयपुर की तरफ से तेज गति से आ रहे ट्रेलर आरजे 14 जी एच 2771 ने बस के ड्राइवर-खलासी और विकास को चपेट में ले लिया। प्रत्यक्षदर्शी बस के एक अन्य ड्राइवर भैरू ने बताया कि ट्रेलर काफी तेज गति में था। रात्रि गश्त में तैनात एएसआई विजय सिंह व एएसआई जितेंद्र कुमार मय जाप्ते के घटना स्थल पर पहुंचे। मौके पर बस में सवार लोगों में चीख-पुकार मची हुई थी। पुलिस ने ट्रेलर जब्त कर लिया। आरोपी ट्रेलर ड्राइवर के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस ने नारू राम व शंकर और विकास के परिजनों को सूचित कर दिया। नारू राम और विकास के शव का पोस्टमार्टम कराया गया, जबकि शंकर का शव परिजनों के इंतजार में अस्पताल में सुरक्षित रखा गया है।

यह हैं हाइवे पर लेन के कायदे

-डिवाइडर के पास वाली पहली लेन

- ओवर टेक करने वाले वाहनों के लिए।

-डिवाइडर से दूसरी लेन | कार या सवारी वाहनों के लिए।

-डिवाइडर से तीसरी लेन | भारी वाहनों ट्रक, ट्रेलर या टैंकर के लिए।

सावधान... यह गलतियां करते हैं ड्राइवर

- ट्रक या ट्रेलर चालक कई बार नशे में वाहन चलाते हैं।
- ट्रक चालक अपनी लेन को छोड़ रात में तेज गति से किसी भी लेन में ओवर टेक कर लेते हैं।
- भारी वाहनों में स्पीड गवर्नर जरूरी है, कई चालक तेज गति के लिए इसका कनेक्शन तोड़ देते हैं।
{अधिकांश भारी वाहन नेशनल परमिट के होते हैं, इनमें कायदे के अनुसार दो चालक होने चाहिए। मगर तनख्वाह बचाने के लिए मालिक एक ही ड्राइवर रखते हैं। एक ही ड्राइवर हजार किमी से ज्यादा तक वाहन चला लेते हैं, कई बार नींद के कारण दुर्घटना होती है।