Hindi News »Rajasthan »Ajmer» एडीए ने गत वर्ष से 151 करोड़ कम का बजट पेश किया

एडीए ने गत वर्ष से 151 करोड़ कम का बजट पेश किया

अजमेर विकास प्राधिकरण ने सोमवार को वर्ष 2018-19 का सालाना बजट पेश किया है। खास बात यह है कि यह बजट पिछले साल 2017-18 की तुलना...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 01, 2018, 03:10 AM IST

एडीए ने गत वर्ष से 151 करोड़ कम का बजट पेश किया
अजमेर विकास प्राधिकरण ने सोमवार को वर्ष 2018-19 का सालाना बजट पेश किया है। खास बात यह है कि यह बजट पिछले साल 2017-18 की तुलना में 151 करोड़ रुपए कम का है। पिछला बजट 5 अरब 55 करोड़ 3 लाख 75 हजार रुपए का पारित किया था।

ताजा बजट 4 अरब 4 करोड़ 72 लाख 18 हजार रुपए का है। चुनावी वर्ष में सत्तारूढ़ भाजपा के नेता दावे कर रहे हैं कि अजमेर में विकास की गंगा बह रही है, लेकिन बजट के आंकड़े साफ करते हैं कि एडीए ने पूरे वर्ष विकास कार्यों पर केवल 19 करोड़ 15 लाख रुपए ही खर्च किए हैं। प्राधिकरण के पिछले कई बजट संकेत करते हैं कि ये हवाई बन रहे हैं। इस बजट से भी यही संकेत मिल रहे हैं। बोर्ड बैठक में साल 2018-19 के लिए पारित बजट में मंदी के इस भीषण दौर में भी प्राधिकरण अनुमान लगा रहा है केवल जमीन बेचकर ही 270 करोड़ रुपए की आय होगी। कुछ ऐसा ही अनुमान पिछली बार भी था जो धराशायी हो गया। वास्तविक आय-व्यय 134 करोड़ 72 लाख रुपए का रहा। एडीए पर भाजपा का कब्जा है और राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त शिव शंकर हेड़ा इसके अध्यक्ष हैं। हेड़ा का यह तीसरा बजट है।

इस साल 404 करोड़ का पेश किया बजटहकीकत : डवलपमेंट पर खर्च 19.15 करोड़ रुपए

साल भर में 19 करोड़ 15 लाख के 104 विकास कार्य

एडीए का बजट भले ही अरबों का रहता हो लेकिन धरातल पर विकास कार्य पर खर्च होने वाली रकम वास्तविक रूप से नाम मात्र ही होती है यह पिछले बजट के इस साल पेश हुए लेखे-जोखे से साफ हो जाता है। पिछले साल के अनुमानित 5 अरब 55 करोड़ रुपए के बजट पर वास्तविक आय-व्यय करीब बीस प्रतिशत ही रहा लेकिन विकास कार्यों पर खर्च हुई राशि का आकड़ा ज्यादा चौंकाने वाला है। 1 अप्रेल 2017 से 31 मार्च 2018 तक एडीए ने योजना व गैर योजना क्षेत्र में 104 विकास के कार्य करवाए जिसकी कुल राशि 19 करोड़ 15 लाख रुपए है वहीं वास्तविक रूप से वर्क आर्डर 17 करोड़ 3 लाख रुपए का ही दिया गया है।

अजमेर विकास प्राधिकरण को इस वित्तीय वर्ष के लिए भी जमीन से मोटी रकम की अास

इस वित्तीय वर्ष के लिए भी बड़ी आय का स्त्रोत हमेशा की तरह जमीन के बेचान से मिलने वाली राशि को माना गया है। एडीए को उम्मीद है कि इस वित्तीय वर्ष में जमीन बेचने से 2 अरब 70 करोड़ रुपए की आय हासिल होगी। पिछले साल यह अनुमान 3 अरब 55 करोड़ से ज्यादा था। लेकिन एडीए काे जमीन बेचने से मिले केवल 16 करोड़ 38 लाख 68 हजार रुपए। इससे पिछले साल का आंकड़ा देखे तो 3 अरब 22 करोड़ से ज्यादा की आय जमीन बेचान के जरिए हासिल करने का लक्ष्य रखा था, लेकिन एडीए को 61 करोड़ 65 लाख 68 हजार की ही आय हुई थी। इस साल पहले से भी बुरे हालात रहे।

दावा :अजमेर में विकास की गंगा बहा दी

अजमेर विकास प्राधिकरण की बजट बैठक में उपस्थित अध्यक्ष हेड़ा व अन्य अधिकारी।

इस बार हम लक्ष्य को प्राप्त करेंगे

यह सही है कि प्रस्तावित बजट बड़ी राशि का होता है और वास्तविक आय-व्यय उससे काफी कम रहता है। पिछले साल के बजट में हमने बजट में जिन योजनाओं का हवाला देते हुए उनके आधार पर आय-व्यय का अनुमान लगाया था और इन योजनाओं में किन्हीं कारणों से काम नहीं हो पाए। लेकिन इस साल इन योजनाअों पर काफी हद तक काम शुरू हो चुका है और उम्मीद है कि अनुमानित बजट के आंकड़े वास्तविकता में साकार होंगे यही नहीं हो सकता है कि बजट अनुमान संशोधित करना पड़े। -शिवशंकर हेड़ा, अध्यक्ष, अजमेर विकास प्राधिकरण

इस सोच के साथ बनाया है बजट

...अगर यहां से आएगा पैसा

भूखंडों की नीलामी से अनुमानित अाय : 100 करोड़ रु

संस्थाओं को आवंटन से आय : 50 करोड़ रुपए

विजयाराजे सिंधिया नगर से आय : 50 करोड़ रुपए

होकरा फार्म हाउस, स्प्रिचुअल हब और स्वास्तिक सिटी पुष्कर से आय : 45 करोड़ रुपए

मुख्यमंत्री जन आवास योजना से आय : 25 करोड़ रुपए

...तो यहां होगा खर्च

योजनाओं पर भुगतान और कार्मिकों के वेतन : 206 करोड़

मुख्यमंत्री जन आवास योजना पर खर्च : 45 करोड़ रुपए

जन सुविधाओं यानी बिजली पानी पर व्यय : 20 करोड़ रुपए

सड़कों व नालियों की मरम्मत का कार्य : 15 करोड़ रुपए

सार्वजनिक पार्कों के पुनरुद्धार पर व्यय : 15 करोड़ रुपए

सामुदायिक भवनों की मरम्मत एवं विकास पर व्यय : 10 करोड़

स्वास्तिक सिटी पर व्यय : 8 करोड़ रुपए

स्प्रिच्युअल हब पर व्यय : 8 करोड़ रुपए

कन्वेंशन सेंटर पर व्यय : 10 करोड़ रुपए

गैर योजनाओं पर व्यय : 81 करोड़ रुपए

गैर योजना में यह शामिल : पुष्कर व अजमेर के बीच सुरंग, महर्षि दयानंद सरस्वती स्मारक, अस्पताल, विद्यालय, सड़क-नाली मरम्मत, जयपुर रोड़ सिक्स लेन प्रोजेक्ट, श्मशान-कब्रिस्तान जीर्णोद्धार, पार्क, सड़क सुरक्षा, मेडीसिटी।

पुष्कर के सर्वांगीण विकास पर अनुमानित खर्च : 15 करोड़ ।

किशनगढ़ में विकास कार्य : 10 करोड़ रुपए।

ट्रैफिक मैनेजमेंट पर : 2 करोड़ रुपए

प्लॉट काट कर बेचे : पढ़ें पेज | 16

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ajmer

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×