• Home
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • पत्नी को ट्रेन के आगे छलांग लगाते देखा, पति घर गया और फांसी लगाकर दे दी जान
--Advertisement--

पत्नी को ट्रेन के आगे छलांग लगाते देखा, पति घर गया और फांसी लगाकर दे दी जान

शादी के छह साल बाद भी संतान सुख से वंचित विवाहिता ने डिप्रेशन की हालत में रविवार रात ट्रेन के आगे छलांग लगा ली, घटना...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 03:15 AM IST
शादी के छह साल बाद भी संतान सुख से वंचित विवाहिता ने डिप्रेशन की हालत में रविवार रात ट्रेन के आगे छलांग लगा ली, घटना का दर्दनाक पहलू यह है कि प|ी को मृत समझ कर पति ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली, जबकि ट्रेन की चपेट में आने से प|ी गंभीर रूप से जख्मी हालत में जेएलएन अस्पताल में जीवन-मौत के बीच संघर्ष कर रही है। ह्रदय विदारक घटना इलाके में चर्चा का विषय बनी हुई है। प्रारंभिक तौर पर सामने आया है कि नि:संतान दंपत्ति नाते-रिश्तेदारों की तानाकशी से बेहद दुखी था। अस्पताल में भर्ती विवाहिता की हालत सामान्य होने पर पुलिस उसके बयान दर्ज करेगी। फिलहाल उसके पति के शव का पोस्टमार्टम कर परिजनों को सौंप दिया गया है।

प|ी की हालत गंभीर, अस्पताल में भर्ती, हालत सामान्य होने पर पुलिस दर्ज करेगी बयान, शव परिजन को सौंपा

बचाने के लिए पीछे-पीछे गया था पति, ट्रेन के अागे कूदते देखा तो होश खो बैठा

अलवर गेट थाना इलाके में रहने वाले हिम्मत सिंह और उसकी प|ी के बीच रविवार रात कहासुनी के बाद झगड़ा हुआ था। गुस्से में प|ी रेनू घर से यह कहते हुए बाहर निकली थी कि वह ट्रेन के आगे कूदकर जान दे देगी। हिम्मत सिंह प|ी रेनू को समझाने के लिए उसके पीछे-पीछे रेलवे स्टेशन तक गया था, लेकिन अचानक रेनू ने जयपुर-भोपाल ट्रेन के आगे छलांग लगा दी। रेनू को गिरने देख हिम्मत सिंंह होश खो बैठा और वह उल्टे पैर घर लौट आया और कमरे में बंद होकर उसने फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली, जबकि उधर ट्रेन ड्राइवर की समझदारी से रेनू की जान बच गई। छलांग लगाने से वह गंभीर रूप से घायल जरूर हुई लेकिन मौत के मुंह से बच गई। जीआरपी थाना पुलिस ने उसे जेएलएन अस्पताल में भर्ती करवा दिया।

औलाद नहीं होने का दुख

मृतक हिम्मत सिंह की प|ी रेनू के भाई गुर्जर धरती, नगरा निवासी हेमन्त के अनुसार उसकी बहन रेनू की शादी छह साल पहले हिम्मत सिंह से हुई थी, उसके बाद से ही रेनू व हिम्मत सिंह संतान सुख से वंचित थे। दोनों ने कई चिकित्सकों से काफी इलाज भी कराया था, लेकिन संतान नहीं होने के कारण वे डिप्रेशन में थे। अलवर गेट थाना पुलिस ने बताया कि मृतक हिम्मत सिंह का शव का सोमवार सुबह जवाहर लाल नेहरू अस्पताल से पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजन को सौंप दिया। दूसरी ओर जीआरपी थाना पुलिस ने बताया कि ट्रेन की चपेट में आकर जख्मी हुई रेनू प|ी हिम्मत सिंह का उपचार जवाहर लाल नेहरू अस्पताल में जारी है, वह फिलहाल बयान देने की हालत में नहीं है। इस कारण उससे पूछताछ नहीं की जा सकी।