• Home
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • टोल इंचार्ज से मंथली Rs.40 हजार लेते चारभुजा एसएचओ गिरफ्तार
--Advertisement--

टोल इंचार्ज से मंथली Rs.40 हजार लेते चारभुजा एसएचओ गिरफ्तार

पाली | राजसमंद जिले के चारभुजा थाना प्रभारी महेश जोशी को पाली एसीबी ने Rs.40 हजार रिश्वत लेते गिरफ्तार किया। यह राशि...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 03:15 AM IST
पाली | राजसमंद जिले के चारभुजा थाना प्रभारी महेश जोशी को पाली एसीबी ने Rs.40 हजार रिश्वत लेते गिरफ्तार किया। यह राशि आरोपी एसएचओ ने पाली-उदयपुर वाया गोमती मेगा हाईवे पर स्थित टोल वसूली करने वाली फर्म के इंचार्ज राजेंद्रसिंह से ली थी। आरोपी एसएचओ ने मंथली बंधी के रुप में टोल इंचार्ज से पहले 15 हजार रुपए की डिमांड की, लेकिन बाद में मासिक बंधी के रूप में 10 हजार रुपए में सौदा तय हुआ। एसएचओ महेश जोशी को चारभुजा थाने में लगे हुए 4 माह हुए है, जिसके चलते उसने टोल इंचार्ज से 10 हजार रुपए प्रतिमाह के हिसाब से चार माह के 40 हजार रुपए बतौर रिश्वत ली। एसीबी के एएसपी कैलाशचंद्र जुगतावत ने बताया कि पाली से गोमती मेगा हाईवे पर सोनाई मांजी, नारलाई व चारभुजा के पास अजमेर के भाजपा नेता भंवरसिंह पलाड़ा की कंपनी ने टोल वसूली का ठेका ले रखा है। सोनाई मांजी व नारलाई का टोल प्लाजा पाली जिले की सीमा में है, जबकि चारभुजा का टोल राजसमंद जिले की सीमा में है।

पटवार संघ जिलाध्यक्ष ‌Rs.1 लाख घूस मांगने के आरोप में गिरफ्तार : श्रीगंगानगर | राजस्थान पटवार संघ के जिलाध्यक्ष दिनेश यादव निवासी लखूवाली हैड हनुमानगढ़ को एसीबी ने एक लाख की रिश्वत की मांग के आरोप में गिरफ्तार किया। आरोपी पटवारी को मंगलवार को एसीबी की विशेष अदालत में पेश किया जाएगा। एसीबी अधिकारियों ने बताया कि आरोपी पटवारी पर सादुलशहर तहसील के चक 15 केएसडी धिंगतानिया निवासी परिवादी राजेंद्र कुमार जाट ने जुलाई 2016 में शिकायत की थी। शिकायत के सत्यापन के बाद कार्रवाई की गई।

नहर भूमि आवंटन घोटाला कर ‘जमींदार’ बना उपायुक्त का पीए : जोधपुर | इंदिरा गांधी नहर के आसपास की हजारों बीघा जमीन घोटाले के आरोपी उपनिवेशन विभाग के तत्कालीन पीए सुआलाल विजय के पास 10 करोड़ की अचल प्रॉपर्टी मिली है। एसीबी ने मोहनगढ़, सीकर, बीकानेर व जयपुर में उनके ठिकानों पर तलाशी ली थी, जिसमें सुआलाल के पास जयपुर की विभिन्न कॉॅलोनी में 8 प्लॉट व एक अपार्टमेंट के कागजात मिले हैं तथा नाचना में भी उसने 2 मुरब्बे ले रखे थे। उनके जयपुर व लक्ष्मणगढ़ के दोनों मकान बंद होने के कारण वहां की तलाशी नहीं हो पाई।