• Home
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • 26वें रोजे को कुरान शरीफ का दौर मुकम्मल होगा और चांद रात तक अदा होगी तरावीह
--Advertisement--

26वें रोजे को कुरान शरीफ का दौर मुकम्मल होगा और चांद रात तक अदा होगी तरावीह

रमजान के मुबारक महीने का चांद गुरुवार को नजर आ गया। इसके साथ ही इबादत के मुबारक महीने की शुरुआत हो गई। इस मुबारक...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 04:15 AM IST
रमजान के मुबारक महीने का चांद गुरुवार को नजर आ गया। इसके साथ ही इबादत के मुबारक महीने की शुरुआत हो गई। इस मुबारक मौके पर दरगाह में शादियाने बजाए गए और बड़े पीर साहब की पहाड़ी से तोप के गोले दागे गए। रात को मुस्लिमों ने तरावीह की विशेष नमाज के साथ इस मुबारक महीने का इस्तकबाल किया। इस विशेष नमाज में कुरान शरीफ के दौर की शुरुआत हुई। पहला रोजा शुक्रवार को होगा।

शहर काजी मौलाना तौंसीफ अहमद सिद्दीकी ने मगरिब की नमाज के बाद रमजान के मुबारक महीने के चांद दिखाई देने का ऐलान किया। इसके साथ ही लोगों ने एक-दूसरे को चांद की मुबारकबाद दी और यह माह मुल्क व दुनिया में अमन व सलामती लाए, इसकी दुआ की। चांद के ऐलान के साथ ही मुस्लिम मोहल्लों में खुशी की लहर दाैड़ गई।

इबादत और राेजे का महीना रमजान शुरू, तरावीह की विशेष नमाज अदा

पहला रोजा जुमे को और ईद की चांद रात भी जुमे को होगी

इस बार रोजों की शुरुआत जुमे के दिन से हो रही है। इस महीने में कुल पांच जुमे आएंगे। दूसरा जुमा 8 वें रमजान को, तीसरा जुमा 15वें रमजान, चौथा जुमा 22 रमजान को होगा। पांचवां और आखरी जुमा 29वें रमजान यानी चांद रात को होगा। इस दिन चांद दिखाई देने पर 16 जून को ईद उल फित्र मनाई जाएगी। अन्यथा 17 ईद उल फित्र मनाई जाएगी।

तरावीह में उमड़े अकीदतमंद

दरगाह स्थित शाहजहांनी मस्जिद, संदल खाना मस्जिद, अकबरी मस्जिद के साथ ही मोती कटला मस्जिद, कलेक्ट्रेट के पास स्थित मस्जिद मुए मुबारक, क्लॉक टावर मस्जिद के साथ ही रातीडांग, नौसर, ऊंटड़ा, गेगल, गगवाना समेत विभिन्न क्षेत्रों में स्थित मसाजिद में इशा की नमाज के साथ ही तरावीह की विशेष नमाज अदा की गई। मौलाना बशीरुल कादरी के मुताबिक तरावीह की नमाज में कुरान शरीफ का दौर शुरू हुआ है। 26वें रोजे को कुरान शरीफ का दौर मुकम्मल होगा। बड़ी संख्या में अकीदतमंद तरावीह की नमाज अदा करने पहुंचे। तरावीह रमजान के पूरे महीने यानी चांद रात तक जारी रहेगी। इधर, घराें में महिलाओं और बच्चियों ने भी नमाज अदा की। पहले रोजे की सेहरी के लिए भी इंतजाम किए जाने लगे।