--Advertisement--

शर्मनाक व डरावनी / गर्भवती तड़पती रही, ट्रॉली तक नहीं मिली, टूटी व्हीलचेयर पर ही प्रसव



Pregnant gave birth to a newborn on a wheelchair in ajmer
X
Pregnant gave birth to a newborn on a wheelchair in ajmer

Dainik Bhaskar

Oct 14, 2018, 06:08 AM IST

हैल्थ रिपोर्टर | अजमेर 
नागौर निवासी मंदा देवी को प्रसव पीड़ा होने पर परिजन उसे लेकर संभाग के सबसे बड़े जनाना अस्पताल में पहुंचे। यहां गर्भवती ने रिसेप्शन पर बैठे स्टाफ को ट्रॉली दिए जाने की बात कही। स्टाफ ने उसके दर्द को दरकिनार कर दिया। गर्भवती को वार्ड या ऑपरेशन थियेटर तक नहीं पहुंचाया गया। ट्रॉली की बजाए गर्भवती को वहां रखी टूटी व्हीलचेयर पर ही बैठा दिया। इसी दौरान गर्भवती ने व्हीलचेयर पर ही नवजात को जन्म दे दिया। अचानक आउटडोर में प्रसव हो जाने के कारण वहां मौजूद स्टाफ सकते में आ गया। आनन-फानन में प्रसूता को अंदर कमरे में ले जाया गया। जहां पर उसकी देखरेख करने के बाद उसके लिए ट्रॉली मंगवाने की बजाए उसे उसी व्हीलचेयर पर वार्ड में ले गए। नवजात को भी तौलिए में लपेट परिजन को सौंपा।

 

यह तस्वीर बदलनी चाहिए : दैनिक भास्कर ने इसी माह 5 अक्टूबर के अंक में प्रसूताओं को ट्रॉली या व्हीलचेयर नहीं मिलने की खबर प्रमुखता से प्रकाशित की थी। इसके बाद कुछ दिनों तक अस्पताल में स्थिति कुछ सही रही, लेकिन वही स्थिति एक बार फिर हो गई। इससे पहले भी जनाना अस्पताल में अव्यवस्थाओं की शिकायत प्रसूताओं और परिजनों द्वारा की जा चुकी है लेकिन कोई सुधार नहीं हुआ।

 

इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। अभी तो मैं घर पर हूं। कल अस्पताल पहुंचने के बाद मामले की जानकारी ली जाएगी। -कांति मेहरड़ा, अधीक्षक रा.जनाना चिकित्सालय अजमेर

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..