राजस्थान / पुष्कर मेले में दिखा लंबी मूंछों का क्रेज, विदेशी कपल ने एक दूसरे को पहनाया साफा



Pushkar Fair 2019 Fifth Day Rajasthan
Pushkar Fair 2019 Fifth Day Rajasthan
Pushkar Fair 2019 Fifth Day Rajasthan
Pushkar Fair 2019 Fifth Day Rajasthan
Pushkar Fair 2019 Fifth Day Rajasthan
Pushkar Fair 2019 Fifth Day Rajasthan
Pushkar Fair 2019 Fifth Day Rajasthan
Pushkar Fair 2019 Fifth Day Rajasthan
X
Pushkar Fair 2019 Fifth Day Rajasthan
Pushkar Fair 2019 Fifth Day Rajasthan
Pushkar Fair 2019 Fifth Day Rajasthan
Pushkar Fair 2019 Fifth Day Rajasthan
Pushkar Fair 2019 Fifth Day Rajasthan
Pushkar Fair 2019 Fifth Day Rajasthan
Pushkar Fair 2019 Fifth Day Rajasthan
Pushkar Fair 2019 Fifth Day Rajasthan

  • पंचतीर्थ स्नान के लिए श्रद्धालुओं के पहुंचने का सिलसिला जारी
  • विभिन्न समुदायों के साधु संतों ने यहां मठ, मंदिर व आश्रमों में अपने पड़ाव डाल लिए
  • पुष्कर मेले के चलते नगर पालिका की ओर से पुष्कर सरोवर किनारे लाइटों की रोशनी की विशेष सजावट की गई

Dainik Bhaskar

Nov 08, 2019, 05:14 PM IST

पुष्कर (भीकम शर्मा). अंतराष्ट्रीय पुष्कर मेले का पांचवा दिन धार्मिक स्नान के साथ शुरू हुआ। जिसके बाद शुक्रवार को मेला स्टेडियम में विभिन्न खेलकूद एवं पशु प्रतियोगिता आयोजित हुई। सबसे पहले मूंझ प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें प्रदेशभर से आए लोगों ने अपनी मूंछों का प्रदर्शन किया। वहीं विदेशी कपल के लिए साफा बांध और तिलक प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें विदेशी महिला ने अपने साथी पुरुष को साफा बांधकर तिलक लगाया। 

 

धार्मिक मेले की हुई शुरुआत

इससे पहले शुक्रवार सुबह पुष्कर के धार्मिक मेले का शुभारंभ हुआ। सबसे पहले आध्यात्मिक यात्रा निकाली गई। जो गुरुद्वारे से आरंभ होकर नया रंगजी मंदिर, वराह घाट, गऊघाट, ब्रह्म चौक, ब्रह्मा मंदिर से कपालेश्वर महादेव तिराहे होते हुए मेला ग्राउंड पहुंची। यात्रा का विभिन्न संगठनों व नगर वासियों की ओर से जगह-जगह पुष्पवर्षा कर स्वागत किया गया। इस दौरान अलग-अलग झांकियां भी सजाई गई। राजस्थानी लोक कलाकार लोक नृत्य व भजन मंडलियां रामधुनी, भजन कीर्तन करते हुए चलेगी। 

 

साधु-संतों ने डाला पड़ाव
पंचतीर्थ स्नान के लिए श्रद्धालुओं के पहुंचने का सिलसिला जारी है। वहीं विभिन्न समुदायों के साधु संतों ने यहां मठ, मंदिर व आश्रमों में अपने पड़ाव डाल लिए हैं। इसके अलावा नागा समाज व अन्य संप्रदायों के साधुओं ने सरोवर किनारे व धार्मिक स्थलों पर अपना डेरा जमा रखा है। साधु संत विदेशी पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं। 

 

2 हजार महिलाओं ने एक साथ किया घूमर

गुरुवार को पुष्कर मेले में घूमर का वर्ल्ड रिकॉर्ड बना। यहां 2 हजार महिलाओं ने एक साथ घूमर की प्रस्तुति दी। इसे इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज किया। पुष्कर के कलेक्टर विश्व मोहन शर्मा को इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड के भानु प्रताप ने रिकॉर्ड का प्रमाण पत्र सौंपा। खास बात यह रही कि बारिश होने के बावजूद भी महिलाएं लगातार घूमर करती रहीं। 

 

मेले में आज के कार्यक्रम


5 बजे : गीर व शंकर पशु प्रदर्शनी का उद्घाटन।
शाम 6 बजे : महाआरती।
7 बजे : संगीतकार दिनेश व राघव पाराशर की प्रस्तुति।
7 बजे : मामे खान लाइव कंसर्ट।
7.30 बजे : पुराने रंगजी मंदिर में शास्त्रीय नृत्य। 

 

लौटने लगे मवेशी, खाली होने लगे दड़े
बीते दस दिनों से परवान छू रहा पशु मेला धीरे-धीरे सिमटने लग गया है तथा धोरे खाली होने लग गए हैं। बताया गया है कि मेले में गुरुवार की शाम तक कुल 6843 पशु आए हैं। इनमें से 660 ऊंट व 953 अश्व समेत कुल 1614 मवेशियों की खरीद-फरोख्त हुई है। जिससे पशुपालकों के बीच 3 करोड़ 89 लाख 54 हजार 50 रुपए का लेनदेन हुआ है। अधिकतम 3 लाख 30 हजार रुपए कीमत की घोड़ी बिकी है। 

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना