• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • Ajmer News Rajasthan News After The Abhishek At 12 At Night People Came To See The Love Of Bhajan Kirtan Krishna Sudama And Radha Krishna In The Temples

रात 12 बजे अभिषेक के बाद मंदिरों में भजन-कीर्तन कृष्ण-सुदामा व राधा-कृष्ण का प्रेम देखने उमड़े लोग

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रंग बिरंगी लाइटों व डीजे साउंड के बीच हर एक काे अपनी अाेर आकर्षित करता शिव तांडव व कालिया वध का सजीव चित्रण, मैदान के चाराें गाेल घेरे में घूमते हुए अट्टहास करता बीस फीट का दानव काफी रोमांचकारी था। रंग बिरंगी रोशनी के बीच जयश्री कृष्ण के नाम से गुंजायमान हाेता पांडाल। मौका था श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व के मौके पर नगर निगम प्रशासन द्वारा आजाद पार्क में आयोजित कृष्ण जन्मोत्सव कार्यक्रम का। यहां सर्जिकल स्ट्राइक काे प्रदर्शित करने वाली झांकियां देशभक्ति का जज्बा जगाती रहीं। यहां बीस से अधिक झांकियां पांडाल में सजाई गई। दाे दिनों से आजाद पार्क में झांकियों काे सजाने का कार्य चल रहा था। निजी स्कूलों के अलावा सामाजिक संस्थाओं ने भी झांकियां सजाई। शाम सात बजे नगर निगम महापौर धर्मेंद्र गहलोत ने भगवान श्रीकृष्ण की आरती कर कार्यक्रम की शुरुआत की। दिल्ली के कलाकारों ने नृत्य की प्रस्तुति देकर समां बांध दिया।

निंबार्क काेट में जन्माष्टमी उत्सव धूमधाम से मनाया गया। श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर्व प्रभात फेरी परिवार संन्यास आश्रम के सानिध्य में सुंदरविलास स्थित गर्ग भवन में विविध कार्यक्रम अायाेजित किए गए। उमेश गर्ग ने बताया कि इस अवसर पर भजन, संकीर्तन एवं बांसुरी की मधुर धुनों के साथ भगवान का पंचामृत अभिषेक, पूजन आरती की गई। अशोक तोषनीवाल ने जन्मोत्सव एवं बधाई के भजन एवं पद गाए।

गाओ-दीप जलाओ, आज कन्हैया घर आए हैं : निम्बार्कगोपीजन वल्लभ मंदिर निम्बार्क कोट मंदिर में शनिवार को जन्माष्टमी महोत्सव भजनों का गायन किया गया। प्रवक्ता आनंद भंसाली ने बताया कि महोत्सव में भजन गायक अशोक तोषनीवाल एवं मंडल न भजनों का गायन किया। इस अवसर पर ठाकुरजी का वृन्दावन से मंगवाए पुष्पों का से फूल बंगला मंदिर पुजारी रविशंकर दाधीच ने सजाया अाैर ठाकुर जी का नयनाभिराम शृंगार किया। भजन संध्या में रमेश अग्रवाल, शिव शंकर फतेहपुरिया, डॉ. दीपक शर्मा, डॉ. योगी झाला, डॉ. मनमोहन अग्रवाल, श्यामसुन्दर उपस्थित रहे।

स्वामी बसन्तराम दरबार में जन्माष्टमी पर्व स्वामी ब्रम्हानन्द शास्त्री के सान्निध्य में मनाया गया। अध्यक्ष किशोर विधानी ने बताया कि दरबार में कृष्ण भगवान की झांकी सजाई गई। इस अवसर पर रमेश लालवानी, राधा विधानी, प्रिया सोनी, हाशू आसवानी शामिल थे। वैशालीनगर स्थित श्री झूलेलाल मंदिर में श्री झूलेलाल सेवा मंडली द्वारा कृष्ण बनो प्रतियोगिता एवं राधा कृष्ण नृत्य प्रतियोगिता का शुभारंभ मंदिर अध्यक्ष प्रकाश जेठरा, जीडी वरिन्दानी व ईश्वरदास जेसवानी किया। कार्यक्रम में 98 बच्चे राधा,कृष्ण, सुदामा का रूप धारण कर अाए। हरि ओम कालोनी विकास समिति चंद्रवरदाई नगर द्वारा सर्वेश्वर महादेव मन्दिर में कृष्ण जन्माष्टमी पर कृष्ण बनकर आए बच्चों को सम्मानित किया। सचिव सागर मीणा ने बताया है कि इस अवसर पर हरि ओम कॉलोनी विकास समिति के चन्द्राराम गुर्जर, ओम प्रकाश शर्मा, रमेश लालवानी, सुमित तंवर उपस्थित थे। पर्वतपुरा बाईपास अजमेर स्थित गहलोत फोर्ड में जन्माष्टमी का आयोजन किया गया, जिसमें छोटे छोटे बच्चे राधा-कृष्ण की वेशभूषा पहनाकर अाए। उनके साथ भगवान कृष्ण का जन्मदिन मनाया गया। सिटी स्टार्स क्लब की ओर से मूक-बधिर, दृष्टिहीन आवासीय विद्यालय, अपना घर, कोटड़ा में जन्माष्टमी के उपलक्ष्य में स्कूल के बच्चों काे भोजन कराया गया। विद्यालय परिसर में वृक्षारोपण किया। कार्यक्रम में क्लब के विपुल अग्रवाल, जयन्त कंदोई, लक्ष्य वर्मा, अमन ओझा, धर्मेश त्रिपाठी, अविनाश उपाध्याय सहित मौजूद रहे। प्रगति नगर कोटरा बी ब्लॉक में स्थित सर्वेश्वर धाम मंदिर पर भव्य झांकी सजाई गई। महिला मंडल द्वारा भजन प्रस्तुत किए। झांकी को बनाने में उमेश गुप्ता, नरेंद्र गौतम एवं अतुल पांडे का सहयोग रहा।

वृद्धाश्रम में गूंजे भजन : वृद्धाश्रम में झांकियां सजाई गईं। शीला शर्मा ने वृद्धाश्रम अावासियाें के साथ मिलकर भजन प्रस्तुत किए। इस माैके पर कृष्ण बनाे प्रतियाेगिता अायाेजित की गई। समिति सचिव घनश्याम दास कारबार ने बताया कि कार्यक्रम में विशेष सहयाेग महेंद्र मड़ावरा, नवीन शर्मा, अमित शर्मा, गाेपीचंद अग्रवाल व शीला शर्मा ने किया। इस माैके पर अारसी माहेश्वरी प्रबंधक, जेएे शर्मा, सुरेंद्र सिंह, रामकिशाेर चतुर्वेदी, सत्या देवी खन्ना, डाॅ. भगवन्तसिंह बारठ अादि माैजूद थे।

आजाद पार्क में सजी झांकी।

बजरंग गढ़ अंबे माता मंदिर।

नृत्य, रास अाैर कृष्ण लीलाअाें का मंचन

इस्काॅन अजमेर सेंटर
की अाेर भागचंद की काेठी पर जन्माष्टमी पर्व अध्यक्ष मितेश प्रभु के सानिध्य में मनाया गया। इस अवसर पर शीश महल में उपस्थित बड़ी संख्या में साधक व श्रद्धालु राधा माधव अाैर शीलप्रभु पाद के दर्शन कर अभिभूत हुए। रात 11.30 बजे से 12 बजे तक भागवान के अभिषेक किए गए। इस दाैरान भागचंद की काेठी कृष्णमय हाे गई। अांगन में भक्तों नृत्य, रास व भगवान की लीलाएं प्रस्तुत की। भक्तों ने कृष्ण लीला की प्रस्तुति दी। वहीं वृंदावन अाैर मायापुर धाम से अाए भक्तों ने नाचते गाते हरेकृष्णा महामंत्र कीर्तन किया। इस मौैके पर सभी भक्तों के लिए भाेजन प्रसाद की व्यवस्था की गई। इसमें भागचंद काेठी अध्यक्ष सतीष अराेड़ा व प्रशासन का सहयाेग रहा।

पुष्कर : मंदिरों में गूंजे झालर-टंकोरे

पुष्कर| तीर्थ नगरी पुष्कर कृष्ण के जन्मोत्सव के रंग में डूबी रही। जगह-जगह बाल रूपी भगवान कृष्ण की मनमोहक झांकियां सजाई गई व मंदिरों में झालर-टंकारे गूंजते रहे। शनिवार को तीर्थ नगरी के नए व पुराने रंगजी मंदिर समेत अधिकांश राधा-कृष्ण मंदिर, आश्रम एवं मठों में कृष्ण जन्मोत्सव श्रद्धा एवं उल्लास के साथ मनाया गया। मंदिरों में शाम को सजावट की गई तथा राधा-कृष्ण का मनमोहक शृंगार कर झांकियां सजाई गईं। रात 12 बजे तीर्थ नगरी में झालर-टंकोरे की गंूज के बीच कृष्ण जन्मोत्सव की आरती की गई। सूरजकुंड में दो दिवसीय कृष्ण जन्मोत्सव के पहले दिन शनिवार की शाम भजन संध्या का आयोजन किया गया तथा रात को कृष्ण जन्मोत्सव की आरती की गई। मंदिर प्रबंधक व पुजारी महावीर प्रसाद वैष्णव ने बताया कि रविवार को मंदिर में सालाना मेला भरेगा। ब्रह्मा मंदिर में शुक्रवार की रात कृष्ण जन्मोत्सव की आरती उतारी गई।

मध्य पुष्कर में गायत्री परिवार ने पहली बार मनाई जन्माष्टमी

पुष्कर| सालों से उपेक्षित मध्य पुष्कर तीर्थ में गायत्री परिवार की ओर से शनिवार को पहली बार जन्माष्टमी पर्व मनाया गया। इस मौके पर मध्य पुष्कर स्थित प्राचीन मंदिर में स्थापित विष्णु भगवान एवं लक्ष्मी जी की प्रतिमाओं का पंचगव्य से सिंचित कर दशविध स्नान व मृतिका गोमूत्र दुग्ध दधि मधु को कुशोदक सर्वोषधि स्नान वैदिक विधान से कराया गया। ग्राम वासियों के प्रतिनिधि के रूप में लक्ष्मण सिंह, विक्रम सिंह, शेखी सिंह, पूनम सिंह रावत आदि ने पंडित रतन लाल उपाध्याय के आचार्यत्व में पूजन किया। पंडित रुपेंद्र पाठक ने रुद्राभिषेक किया गया। इस अवसर पर घनश्याम पालीवाल, जसवीर सिंह, देवराज गुप्ता, फलेंद्र पटेल, लक्ष्मीकांत आदि उपस्थित थे।

दादीधाम में धूमधाम से मनाया नंदोत्सव

श्रीहरि के जन्म से पूर्व जिस प्रकार वातावरण में नव ऊर्जा आती है, उसी प्रकार भक्तों के मन में भगवान के बाल स्वरूप की झांकी सृजित हो जाती है। उक्त वाक्य दादीधाम में आयोजित चातुर्मासीय श्रीमद‌भागवत कथा के दौरान श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए उत्तमराम शास्त्री ने कहे। इस दौरान दादीधाम परिसर में नंदोत्सव का भव्य रूप से मनाया गया।

खबरें और भी हैं...