उस्मान से हथियार के फर्जी लाइसेंस लेने वालाें पर एटीएस कसेगी शिकंजा

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
एटीएस फर्जी हथियार लाइसेंस प्रकरण के मास्टरमाइंड अजमेर अानासागर लिंक राेड निवासी माेहम्मद उस्मान पुत्र वली माेहम्मद के बयान के अाधार पर उससे फर्जी लाइसेंस लेने वाले लाेगाें पर शिकंजा कसेगी।

इस मामले में एटीएस पूर्व में उस्मान के पुत्र जुबेर सहित 53 अाराेपियाें काे पहले गिरफ्तार कर चुकी है। अाराेपी उस्मान ने पूछताछ में अजमेर, जयपुर, नागाैर अाैर भीलवाड़ा के कई लाेगाें के नाम उगले हैं। बयान के अाधार पर एटीएस जांच कर रही है। अाराेपी उस्मान से रिमांड के दाैरान गहनता से पूछताछ की जा रही है। उल्लेखनीय है साेमवार काे जयपुर से एटीएस टीम काे कार्रवाई के लिए अजमेर भेजा गया था। टीम ने अाराेपी उस्मान काे गेगल इलाके में दबाेचा था। उससे पूछताछ की जा रही है कि फरारी के दाैरान उसकी मदद करने वाले काैन-काैन लाेग हैं।

आरोपी उस्मान।

दाे साल पहले एटीएस ने किया था गिराेह का भंडाफाेड़
उल्लेखनीय है कि फर्जी हथियार लाइसेंस बनाकर लाखाें की कमाई करने वाले गिराेह का एटीएस ने 2017 में भंडाफाेड़ किया था। एटीएस के तत्कालीन अाईपीएस विकास कुमार के नेतृत्व में देशभर में इस गिराेह से जुड़े 53 लाेगाें काे गिरफ्तार किया गया था। अजमेर में क्रिश्चियनगंज थाना इलाके में अानासागर लिंक राेड निवासी वली माेहम्मद के पुत्र माेहम्मद उस्मान अाैर उसका पुत्र जुबेर की इस गिराेह के संचालन में मुख्य भूमिका सामने अाई थी। मामले का खुलासा हाेने के बाद से ही उस्मान फरार हाे गया था। एटीएस ने अब तक गिराेह के जुबेर अाैर माेहम्मद जफर खान, राहुल ग्राेवर, सुनील शर्मा, विशाल अाहूजा, दीपक गुलाटी के खिलाफ 8 दिसंबर 2017 काे काेर्ट में चार्जशीट पेश की है। गिरफ्तार अभियुुक्त माेहम्मद उस्मान के खिलाफ भी शीघ्र चार्जशीट पेश की जाएगी।

खबरें और भी हैं...