भगवान की भक्ति पापों का नाश करती है: शास्त्री

Ajmer News - अजमेर. भक्ति सिद्ध करने के लिए त्याग और वैराग्य की आवश्यकता होती है परंतु जीव को समर्पण भाव से चाहता है परमात्मा की...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 06:36 AM IST
Ajmer News - rajasthan news devotion to god destroys sins shastri
अजमेर. भक्ति सिद्ध करने के लिए त्याग और वैराग्य की आवश्यकता होती है परंतु जीव को समर्पण भाव से चाहता है परमात्मा की भक्ति में भाव प्रदान होता है परमात्मा मात्र भाव के भूखे रहते हैं प्रभु की भक्ति में तल्लीनता होनी चाहिए। रूचि लगाओ सागर में र| मिलते ही हैं। संसार में प्राप्त समस्त वस्तुओं का प्रभु श्री के चरणों में समर्पित कर देना ही पूर्ण भागवत धर्म है। निम्बार्क कोट मंदिर में चल रही श्रीमद् भागवत कथा के अंतिम दिन शुक्रवार काे पंडित पवन कुमार शास्त्री में कहा कि कलयुग गुणों से भरा हुआ समय है इस युग में दूसरों को कष्ट कीर्तन से ही दूर किया जा सकता है भगवान की भक्ति का भगवान की भक्ति पापों का नाश करती है। भगवान में इंद्रिय निग्रह भगवत प्राप्ति का साधन सुलभ करता है जिसकी कृपा से जी भरतार हो जाता है फिर भी यही करते हैं सुदामा चरित्र दत्तात्रेय के 24 गुरु की कथा, नवयुग संवाद, परीक्षित मोक्ष तथा रात्रिकालीन सत्र मे रास लीला के अंतर्गत पुष्पों से हाली खेली। निम्बार्क कोट मंदिर में भग्वत जयंती पर निम्बार्काचार्य श्रीजी महाराज का पदार्पण हुअा।

X
Ajmer News - rajasthan news devotion to god destroys sins shastri
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना