सिंध के भारत में विलय के बिना हमारा राष्ट्र अधूरा: महामंडलेश्वर

Ajmer News - विश्व की सर्वाधिक प्राचीन सिंधु सभ्यता व संस्कृति आज संकट में है। सिंधु सभ्यता को बचाए रखने के लिए सिंध प्रांत को...

Oct 22, 2019, 06:41 AM IST
विश्व की सर्वाधिक प्राचीन सिंधु सभ्यता व संस्कृति आज संकट में है। सिंधु सभ्यता को बचाए रखने के लिए सिंध प्रांत को भारत में सम्मिलित करने पर बल देते हुए महामण्डलेश्वर स्वामी हंसराम उदासी ने कहा कि सिंध के बिना हमारा राष्ट्रगान भी अधूरा है क्योंकि सिंधु को छोड़कर राष्ट्रगान में उच्चारित समस्त राज्य भारत के अंग हैं। पाकिस्तान में हो रहे अल्पसंख्यक हिंदुओं के ऊपर जबरन धर्मांतरण का भी सनातन सेवा समिति की बैठक में पुरजोर विरोध करते हुए आक्रोश जताया तथा गंभीर चिंता व्यक्त की गई।

चिंतन के दौरान यह बात सामने आई कि पाकिस्तान अल्पसंख्यकों के लिए नर्क बन गया है, वहां की हिन्दू कन्याओं का बड़ी संख्या में अपहरण कर उनका बलात धर्म परिवर्तन कर निकाह करवाए जा रहे हैं। इस विषय पर अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने भी पाकिस्तान की कड़ी भर्त्सना की है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना