व्यष्टि को समष्टि से जोड़ने का माध्यम है योग : जैन

Ajmer News - अजमेर | व्यक्तिगत चेतना जब समष्टि रूप में हो जाती है, तब वह परमेष्टि के रूप में संपूर्ण विश्व का मार्गदर्शन करने को...

Nov 11, 2019, 06:31 AM IST
अजमेर | व्यक्तिगत चेतना जब समष्टि रूप में हो जाती है, तब वह परमेष्टि के रूप में संपूर्ण विश्व का मार्गदर्शन करने को प्रवृत्त होती है। यह रूपांतरण केवल योग के द्वारा ही संभव है। सुदूर दक्षिण में वह शिला जिस पर विवेकानंद स्मारक बना हुआ है, वह अपनी आध्यात्मिक चेतना को प्रत्येक भारतवासी के हृदय में जाग्रत कर रही है। यही भाव विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी अपनी अजमेर शाखा द्वारा नियमित योग वर्गों के माध्यम से जाग्रत कर रहा है।

विवेकानंद केंद्र के संस्थापक एकनाथजी राना डे द्वारा स्थापित यह प्रकल्प आज देश के लाखों युवक-युवतियों के माध्यम से अपनी विशिष्ट कार्य पद्धति जिसमें शिक्षा, चिकित्सा, पर्यावरण संरक्षण, योग, स्वाध्याय एवं संस्कार द्वारा मनुष्य निर्माण से राष्ट्र पुनरुत्थान का कार्य नित्य निरंतर कर रहा है। सुभाष उद्यान में मासिक योग संगम के आयोजन के अवसर पर ये विचार राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के महानगर संघचालक सुनील दत्त जैन ने व्यक्त किए। विशिष्ट अतिथि अजमेर दक्षिण की विधायक अनिता भदेल थी। संचालन रामकृष्ण विस्तार के शिवाजी पार्क योग वर्ग द्वारा किया गया।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना