अजमेर / डेयरी बूथ के लिए पुलिस की एनओसी जरूरी, कलेक्ट्रेट-बस स्टैंड के सामने अब नो-पार्किंग

Dainik Bhaskar

Jun 14, 2019, 12:06 PM IST



steps towards better infrastructure in ajmer 2019 rajasthan
X
steps towards better infrastructure in ajmer 2019 rajasthan

  • 15 दिन में ई-रिक्शा के लिए स्टैंड निर्धारित करने के लिए एडीए को निर्देश

अजमेर |कलेक्ट्रेट में गुरुवार शाम टीएमसी यानी ट्रेफिक मैनेजमेंट कमेटी की मीटिंग में कई अहम फैसले लिए गए। यातायात में कई जगह बाधक बने डेयरी बूथों को देखते हुए तय किया गया अब ट्रेफिक पुलिस की एनओसी के बिना डेयरी बूथ आवंटित नहीं होंगे। 
कलेक्ट्रेट और बस स्टेंड के बाहर नो पार्किंग जोन होंगे। कुकुरमुत्तों की तरह पैदा हुए ई रिक्शा की गंभीर समस्या को देखते हुए एडीए को निर्देश दिए गए हैं कि इनके स्टेंड के लिए 15 दिन में जमीन चिन्हित की जाए। कलेक्टर विश्वमोहन शर्मा की अध्यक्षता में बैठक हुई। 
कमेटी सचिव आरटीओ अर्जुन सिंह ने ट्रेफिक के संबंधित महत्त्वपूर्ण स्ताव रखे। दैनिक भास्कर ने 12 जून को इस संबंध में शीर्षक...शहर की रफ्तार को चाहिए स्मार्ट ट्रेफिक मैनेजमेंट.. से समाचार प्रकाशित किया था, जिनमें फॉयसागर से जनाना अस्पताल तक रूट खोलने और अवैध वाहनों की बे रोकटोक आवाजाही के मुद्दे खासतौर पर उठाए गए थे। 

 

ये हुए खास फैसले 

  • अजमेर-पुष्कर सिटी बस लिमिटेड के तहत 5 नए नगरीय मार्ग खोलेंगे। 
  • नसीराबाद, पुष्कर और किशनगढ़ के परमिट से चल रहे अजमेर शहर में चले ऑटो रिक्शा की परिवहन विभाग और ट्रेफिक पुलिस संयुक्त रूप से जांच कर कार्रवाई करेंगे। 
  • जेएलएन अस्पताल के बाहर अवैध रूप से पार्क होने वाली एम्बुलेंस के लिए नई पार्किंग एडीए चिन्हित करेगा। 
  • एडीए यातायात पुलिस को एक बड़ी क्रेन उपलब्ध करवाएगा। 
  • कलेक्ट्रेट एवं बस स्टेंड के सामने नो पार्किंग जोन घोषित किया जाएगा। 
  • किशनगढ़ के पुराने बस स्टेंड के बाहर रोडवेज एवं प्राइवेट बसों के खड़े रहने पर रोक लगाई जाएगी। 
  • बिना हेलमेट, सीट बेल्ट एवं वाहन चलाते समय मोबाइल का उपयोग करने वाले चालकों के खिलाफ अभियान चलाकर कार्रवाई की जाए। 
COMMENT