• Home
  • Rajasthan News
  • Alwar News
  • राठौड़ी में जांच करने पहुंची पुलिस, मुनीम ने वीडियो बनाया तो थाने में पीटा, अलवर रैफर
--Advertisement--

राठौड़ी में जांच करने पहुंची पुलिस, मुनीम ने वीडियो बनाया तो थाने में पीटा, अलवर रैफर

शाहजहांपुर की एक कंपनी में पूछताछ करने पहुंचे पुलिसकर्मियों ने वीडियो बनाने पर कंपनी के मुनीम की थाने ले जाकर...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:10 AM IST
शाहजहांपुर की एक कंपनी में पूछताछ करने पहुंचे पुलिसकर्मियों ने वीडियो बनाने पर कंपनी के मुनीम की थाने ले जाकर पिटाई कर दी। पिटाई से युवक घायल हो गया। उसे शाहजहांपुर अस्पताल ले जाया गया जहां से नीमराना, बहरोड़ और फिर अलवर अस्पताल के लिए रैफर किया गया है। कंपनी प्रबंधन का कहना है कि बानसूर निवासी युवक गोपाल शर्मा ने आरटीआई लगाई थी, इसके कारण पुलिस उसे परेशान कर रही थी। जबकि पुलिस ने थाने में पिटाई से इनकार करते हुए कहा है कि युवक को पूछताछ के लिए थाने लाया गया था। इससे वह घबरा गया और अचेत हो गया। बहरोड़ अस्पताल में युवक की पीठ पर चोट के निशान नजर आए।

घायल युवक गोपाल ने बहरोड़ अस्पताल में बताया कि वह शाहजहांपुर के रीको क्षेत्र में संचालित गणपति कैमिकल्स कंपनी में कार्यरत है। रविवार को कंपनी के पुराने मुनीम नीतेश श्रीवास्तव के साथ एक एएसआई और पुलिसकर्मी पहुंचे। वह कार्रवाई का वीडियो बनाने लगा तो पुलिसकर्मी भद्दी गालियां निकालते हुए उसे जीप में पटक ले गए। थाने तक जीप में उसकी पिटाई की और थाने के भीतर ले जाकर जूते खुलवाकर तलवों में बेरहमी से पीटा गया। इससे वह बेहोश हो गया तो उसे शाहजहांपुर अस्पताल ले जाया गया। वहां से नीमराना के सचखंड और फिर बहरोड़ सीएचसी लाया गया। उसके साथ आए कंपनी के प्रबंधक ने बताया कि यहां भी चिकित्सकों ने देखने के बाद इलाज नहीं करके अलवर रैफर कर दिया। पिटाई से युवक सहमा हुआ था और उसकी पीठ पर चोट के गहरे निशान थे।

निगेटिव न्यूज सेक्शन

िसर्फ वह ही नकारात्मक खबर, जो आपको जानना जरूरी है

बहरोड़. रैफरल अस्पताल में घायल मुनीम को लेकर आते परिजन।

कैमिकल्स कंपनी मालिक ने कहा-तीन लाख रुपए मांगता है थानेदार

गणपति कैमिकल्स के मालिक सतीश शर्मा ने बताया कि थानाधिकारी सुरेन्द्र मलिक एक मार्च को पुलिस के साथ बगैर रिपोर्ट दर्ज किए उसकी कंपनी में जांच करने पहुंचा। कंपनी के रिकार्ड, स्टॉक व कैमिकल्स में कोई कमी नहीं मिली। इसे लेकर शर्मा ने एक मार्च को थानाधिकारी से आरटीआई से जानकारी मांगी तो थानाधिकारी ने कहा-अलवर एसपी ऑफिस से ले लो। इसलिए उसने अलवर एसपी कार्यालय में आरटीआई लगा दी। शर्मा ने आरोप लगाया कि उसे अलवर से जानकारी तो नहीं मिली, लेकिन थानाधिकारी उसे तब से परेशान कर रहा है। हटाए गए मुनीम नीतेश से राजीनामा और पूरा विवाद सुलटाने के लिए थानेदार 3 लाख रुपए मांग रहा है।

आरटीआई लगाकर मांगी थी जानकारी

शर्मा ने आरोप लगाया कि पुलिस थानाधिकारी ने रीको में संचालित प्रतिस्पर्धी कंपनी, पुराने मुनीम नीतेश श्रीवास्तव पर मिलीभगत का आरोप लगाया। नीतेश पहले गणपति कैमिकल्स में काम करता था और प्रतिस्पर्धी ने उसे दुर्भावनावश नौकरी पर रख लिया। उसके बाद थानाधिकारी के साथ मिलकर 1 मार्च को उसकी कंपनी पर सर्च कार्रवाई करवाई। जिसकी जांच कार्रवाई के लिए एसपी कार्यालय में आरटीआई लगाने से थानाधिकारी को नाराज हाे गया।