• Home
  • Rajasthan News
  • Alwar News
  • डॉक्टरों की एप्रिन पहनकर की थी हत्या, नौकर समेत चार गिरफ्तार
--Advertisement--

डॉक्टरों की एप्रिन पहनकर की थी हत्या, नौकर समेत चार गिरफ्तार

पुलिस ने खैरथल के व्यापारी मुकेश अग्रवाल के बहुचर्चित हत्या प्रकरण का शनिवार को औपचारिक खुलासा कर दिया। इसमें...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 02:15 AM IST
पुलिस ने खैरथल के व्यापारी मुकेश अग्रवाल के बहुचर्चित हत्या प्रकरण का शनिवार को औपचारिक खुलासा कर दिया। इसमें एसपी राहुल प्रकाश ने उन सभी बातों की पुष्टि की, जो शनिवार को दैनिक भास्कर में प्रकाशित की गई थी। पुलिस ने व्यापारी की हत्या के आरोप में उसके नौकर धर्मेंद्र उर्फ छोटू सहित 4 लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस को व्यापारी की हत्या की गुत्थी सुलझाने में 22 दिन लगे। व्यापारी की हत्या 9 मार्च की रात करीब साढ़े आठ बजे खैरथल में की गई थी। हत्याकांड के विरोध में खैरथल व अलवर के बाजार एवं जिले की कई मंडियां बंद रही थीं।

व्यापारी की हत्या की साजिश उसके नौकर धर्मेंद्र ने रची थी। मौके पर 3 बदमाशों में से धर्मेंद्र के चचेरे भाइयों लालचंद व कुलदीप ने व्यापारी को गोली मारी थी। इन बदमाशों ने डॉक्टरों की ड्रेस एप्रिन पहन रखी व मास्क लगा रखा था। पुलिस ने व्यापारी की हत्या में उसके नौकर खैरथल के रायपुर मेवान निवासी धर्मेंद्र उर्फ छोटू पुत्र शिवलाल मेघवाल और उसके चचेरे भाई लालचंद उर्फ लालू पुत्र दयाराम उर्फ दुल्ली मेघवाल एवं अलावा कुलदीप उर्फ मोटा पुत्र टेकचंद उर्फ टिंकल मेघवाल तथा इनके रिश्तेदार हरियाणा के पुन्हाना थानांतर्गत डीडोली बड़ा निवासी सुनील पुत्र रोहिताश मेघवाल को गिरफ्तार किया है। एसपी राहुल प्रकाश ने बताया कि धर्मेंद्र उर्फ छोटू ने अपने चचेरे भाई लालचंद व कुलदीप को करीब ढाई माह पहले बताया कि सेठ मुकेश के मोटी कमाई है। वह रोज शाम को दुकान से लाखों रुपए बैग में घर ले जाता है। धर्मेंद्र, लालचंद व कुलदीप ने आर्थिक तंगी दूर करने की बात कहकर हाल गांव रायपुर में रहने वाले रिश्तेदार सुनील मेघवाल को साथ मिलाकर व्यापारी को लूटने की साजिश रची। इसके बाद सुनील ने कुलदीप को पिस्टल व लालचंद को देशी कट्टे एवं कारतूस दिए। ये तीनों बदमाश 9 मार्च की शाम 7.30 बजे एक बाइक पर व्यापारी की दुकान के पास पहुंचे और व्यापारी का इंतजार करने लगे। रात करीब 8.30 बजे व्यापारी मुकेश जैसे ही दुकान बढ़ाकर रुपए से भरा बैग लेकर स्कूटर की ओर बढ़ा, तो लालचंद व कुलदीप ने उससे बैग छीनने की कोशिश की। मुकेश ने विरोध किया तो लालचंद ने कट्टे से फायर कर उससे बैग छीन लिया। इस दौरान व्यापारी ने लालचंद को पहचान कर कहा कि तू कब से यह काम करने लगा है। इस पर कुलदीप ने व्यापारी पर पिस्टल से फायर कर दिया। इससे व्यापारी की मौत हो गई। वारदात के बाद तीनों बदमाश रुपए से भरा बैग छीनकर बाइक से भाग गए।

संबंिधत अन्य खबरें-पेज 13

अलवर. व्यापारी की हत्या मामले का शनिवार को खुलासा करते एसपी राहुल प्रकाश। उनके साथ बदमाशों को पकड़ने में सहयोग करने वाली पुलिस टीम।