Hindi News »Rajasthan »Alwar» 15 करोड़ की सड़क पैदल चलने से उखड़ी, विरोध के बाद अब फिर बनेगी

15 करोड़ की सड़क पैदल चलने से उखड़ी, विरोध के बाद अब फिर बनेगी

टपूकड़ा से मिलकपुर तुर्क तक 15.77 करोड़ रुपए की लागत से बन रही सड़क के शुरुआत में ही घटिया निर्माण सामग्री इस्तेमाल को...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 02:15 AM IST

15 करोड़ की सड़क पैदल चलने से उखड़ी, विरोध के बाद अब फिर बनेगी
टपूकड़ा से मिलकपुर तुर्क तक 15.77 करोड़ रुपए की लागत से बन रही सड़क के शुरुआत में ही घटिया निर्माण सामग्री इस्तेमाल को लेकर शनिवार को ग्रामीणों ने हंगामा कर दिया। मामले में अधिकारियों की मिलीभगत का आरोप लगाते हुए काम भी रुकवा दिया। मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने गुणवत्तापूर्ण सामग्री लगाने व बनाए हुए रोड़ को हटाने के आदेश दिए। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र योजना बोर्ड द्वारा वित्त पोषित योजना के तहत टपूकड़ा से मिलकपुर तुर्क तक करीब साढ़े सात किलोमीटर सड़क का कार्य सार्वजनिक विभाग अलवर की देख रेख में शुरु हुआ है। शुक्रवार को मीठियावास ग्राम पंचायत के गांव धोली पहाड़ी के पास पढेनिया की ढाणी में 100 मीटर सीसी रोड़ का निर्माण कार्य कराया। शनिवार को जब ग्रामीण 24 घंटे बाद ही सड़क का ये हाल हो गया कि लोगों के पैदल चलने से ही गिट्टियां उखड़ गईं। ग्रामीणों ने मीठियावास सरपंच रामसिंह को सूचना दी।

टपूकड़ा.घटिया निर्माण कार्य को लेकर हंगामा करते ग्रामीण।

ना बेस डाला, ना गुणवत्तापूर्ण ऊपरी परत

सरपंच मौके पर पहुंचे तो रोड़ निर्माण में ना तो नीचे बेस सही तरीके से बना मिला और न ही ऊपरी परत में गुणवत्तापूर्ण सामग्री थी। ग्रामीणों के असंतोष को देखते सरपंच ने पीडब्ल्यूडी अधिशाषी अभियंता सुरेश यादव को सूचना दी। जिस पर उन्होंने एजेंसी की डाली रोड हटाकर मानकों के अनुसार पुन: काम कराने के निर्देश दिए गए। ग्रामीणों ने करोड़ों की लागत से बनने वाले रोड़ में अधिकारियों की मिली भगत का आरोप लगाते हुए रोड़ निर्माण के दौरान जांच एजेंसी से लगातार जांच कराने की मांग की।

लोग बोले तो हुई कार्रवाई

मौके पर जमा ग्रामीणों का गुस्सा इस बात को लेकर था कि आखिर ग्रामीणों के सजग होने के बाद ही अधिकारियों को घटिया रोड़ होने का पता चलता है। इससे पहले क्यों कोई जांच एजेंसी या अधिकारी कार्यवाही नहीं करता। जिम्मेदार सहायक अभियंता, कनिष्ठ अभियंता और अधिकारियों की फौज क्यों चुप्पी साधे रहती है। मौके पर विभाग का जेईएन-एईएन क्यों नहीं तैनात रहता।

टपूकड़ा.मौके पर निर्माण कार्य की जानकारी देता बोर्ड।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Alwar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×