Hindi News »Rajasthan »Alwar» दो महीने से नहीं हो रही कैमरों से रोडवेज बसों की मॉनिटरिंग

दो महीने से नहीं हो रही कैमरों से रोडवेज बसों की मॉनिटरिंग

अलवर आगार की बसों में लगे कैमरों से रोडवेज बसों की मॉनिटरिंग बंद हो गई है। करीब दो साल पहले अलवर आगार की 84 बसों में...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 02, 2018, 04:10 AM IST

अलवर आगार की बसों में लगे कैमरों से रोडवेज बसों की मॉनिटरिंग बंद हो गई है। करीब दो साल पहले अलवर आगार की 84 बसों में कैमरे लगवाए गए थे। वर्तमान में अलवर आगार के बेड़े में शामिल 130 में से 64 बसों में कैमरे लगे हुए हैं। कैमरों को जीपीएस से जोड़ा गया था। अलवर आगार की वर्कशॉप में कंट्रोल रूम स्थापित किया गया था। ऑन रूट के दौरान होने वाली प्रत्येक गतिविधि पर नजर रखने के लिए जिस कंपनी की ओर से बसों में कैमरे लगाए गए, उसी कंपनी के कर्मचारी को लगाया गया। पिछले करीब दो महीने से कंट्रोल रूम में लगे कर्मचारी के नहीं आने के कारण कैमरों के माध्यम से बसों की जाने वाली मॉनिटरिंग का कार्य भी बंद हो गया है। जिससे स्थानीय रोडवेज अधिकारियों को बसों के ऑन रूट के दौरान होने वाली गतिविधियों की जानकारी मिलना बंद हो गई है। बस में लगे कैमरे जीपीएस से जुड़े होने के कारण कंट्रोल रूम पर लगे कंप्यूटर सिस्टम पर ऑन रूट बस की लोकेशन, बस की स्पीड व अंदर की नियमित फोटो भेजी जाती है। जिससे बस में होने वाली प्रत्येक हलचल का पता चलता है। रोडवेज प्रबंधन की ओर से बसों में कैमरे लगाने का उद्देश्य यह था कि प्रत्येक मूवमेंट पर नजर रखी जा सके। बस में आपराधिक घटना होने पर सही जानकारी मिल सके।

पिछले दो महीने से कंट्रोल रूम के कर्मचारी के नहीं आने के कारण बसों की मॉनिटरिंग का कार्य बंद हो गया। आगे की कार्रवाई के लिए रिपोर्ट बनाकर रोडवेज मुख्यालय व कैमरे लगाने वाली कंपनी को भेज दी गई है। - गिर्राज सैनी, एमओ अलवर आगार।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Alwar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×