• Hindi News
  • Rajasthan
  • Alwar
  • होलिका दहन का श्रेष्ठ मुहुर्त आज शाम 7.41 बजे, कल धुलंडी
--Advertisement--

होलिका दहन का श्रेष्ठ मुहुर्त आज शाम 7.41 बजे, कल धुलंडी

Alwar News - इस बार फाल्गुन शुक्ल पूर्णिमा पर एक मार्च को शाम 7.41 बजे होलिका दहन होगा। होलिका दहन के समय कन्या लग्न और प्रदोष काल...

Dainik Bhaskar

Mar 01, 2018, 04:10 AM IST
होलिका दहन का श्रेष्ठ मुहुर्त आज शाम 7.41 बजे, कल धुलंडी
इस बार फाल्गुन शुक्ल पूर्णिमा पर एक मार्च को शाम 7.41 बजे होलिका दहन होगा। होलिका दहन के समय कन्या लग्न और प्रदोष काल का श्रेष्ठ संयोग बन रहा है। इसके अगले दिन शुक्रवार को धुलंडी मनाई जाएगी। पं. यज्ञदत्त शर्मा ने बताया कि गुरुवार सुबह 8.58 से शाम 7.40 बजे तक भद्रा है। भद्राकाल में होलिका दहन वर्जित माना गया है। इसलिए इस बार होलिका दहन का श्रेष्ठ मुहूर्त शाम 7.41 बजे का है।

प्रदोष काल व कन्या लग्न में होलिका दहन राष्ट्र व समाज के लिए कल्याणकारी, क्षेमकर्ता सिद्ध होगा, पूर्णिमा तिथि का क्षय राष्ट्र के शत्रुओं का पराभव करेगा। वहीं प्रदोषकाल की कुंडली में देवगुरु बृहस्पति द्वितीय कोष में विराजमान होने से राष्ट्र की अर्थव्यवस्था के सुदृढ़ होने का योग बनता है। चतुर्थ भाव में लोह पद में शनि होने से भारत को विश्व पटल पर अधिक मजबूती का योग बनता है।

अलवर. होली पर बुधवार को सजी मुखौटों की दुकान।

रंग, गुलाल और मुखौटों की खरीदारी, सजी दुकानें

होली पर घंटाघर, पंसारी बाजार, नगर परिषद के सामने, तांगा स्टैंड के पास व कलाकंद मार्केट में रंग व गुलाल वालों की दुकान सजी हुई हैं। सेंट व एसेंस वाली गुलाल व हर्बल रंग, विभिन्न प्रकार मुखौटे, विग, टोपी, पगड़ी बाजार में बेची जा रही हैं। बुधवार को लोगों ने रंग, गुलाल की खरीदारी की। कई लोगों ने तिलक होली मनाने के लिए रेडीमेड चंदन खरीदा। बच्चों के लिए बाजार में तरह-तरह की पिचकारियां हैं।

रंगों के अनुसार अलग-अलग राशि वालों के लिए आती है सुख समृद्धि

शर्मा का कहना है कि राशियों के अनुसार गुलाल, रंग व फूलों से होली खेलते समय रंगों का प्रयोग राशि के आधार पर किया जाए तो ऊर्जा व उत्साह का प्रवाह होने से सुख समृद्धि का योग बनता है।

मेष व वृश्चिक : इन राशियों का स्वामी मंगल है। इन राशि के व्यक्तियों को लाल, गुलाबी रंग की गुलाल, फूल से होली खेलने से प्रतिष्ठा बढ़ती है। अविवाहितों के विवाह में आ रहे अवरोध दूर होंगे।

वृष व तुला : इन राशि का स्वामी शुक्र है। शुक्रदेव सफेद रंग का प्रतिनिधित्व करते हैं। इन राशि वाले व्यक्तियों को सफेद रंग के कपड़े पहनकर पीले और आसमानी रंग की गुलाल व रंग से होली खेलनी चाहिए। इससे उन्हें शांति, धन और सुख मिलेगा।

मिथुन व कन्या : इन राशि का स्वामी बुध है। इन राशि वाले व्यक्तियों को हरे रंग की गुलाल व रंग से होली खेलनी चाहिए। इससे ज्ञान की प्राप्ति होती है। बुध बुद्धि का स्वामी है।

कर्क : इस राशि का स्वामी चंद्रमा है। चंद्रमा धन और मन का कारक ग्रह है। इन्हें पीले, केसरिया या हरे रंग से होली खेलनी चाहिए। इससे उन्हें शांति, धन और सुख की प्राप्ति होगी।

सिंह : इस राशि पर सूर्य का प्रभुत्व है। समस्त ग्रह सूर्य के इर्द गिर्द घूमते हैं। इस राशि वालों को लाल, पीला, महरुन, नारंगी रंग व गुलाल से होली खेलनी चाहिए।

धनु व मीन : इन राशियों का स्वामी गुरु है। गुरु धन, पुत्र और विद्या का प्रदाता है। इन राशि वालों को पीले रंग से होली खेलनी चाहिए।

मकर व कुंभ : इन राशियों का स्वामी शनि है। शनि न्यायप्रिय है। धर्म-कर्म करने वालों पर सदैव इनका आशीर्वाद बना रहता है। इन्हें नीले, काले व भूरे रंग से होली खेलनी चाहिए।

X
होलिका दहन का श्रेष्ठ मुहुर्त आज शाम 7.41 बजे, कल धुलंडी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..