• Home
  • Rajasthan News
  • Alwar News
  • सरकार ने एक हाथ से छूट दी, दूसरे हाथ से जेब से निकाला पैसा
--Advertisement--

सरकार ने एक हाथ से छूट दी, दूसरे हाथ से जेब से निकाला पैसा

पहली अप्रेल से सरकार ने निजी चौपहिया वाहनों को टोल टैक्स में छूट दी, लेकिन दूसरी ओर पेट्रोल-डीजल के दाम एक माह में...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 04:15 AM IST
पहली अप्रेल से सरकार ने निजी चौपहिया वाहनों को टोल टैक्स में छूट दी, लेकिन दूसरी ओर पेट्रोल-डीजल के दाम एक माह में सवा दो रुपए तक बढ़ा 4 साल के उच्चतम स्तर पर पहुंचा दिए। अलवर में रविवार को इंडियन ऑयल की पेट्रोल की दरें 76.80/85 तक और डीजल 69.20-26 रुपए तक रहेंगी। पेट्रोल की कीमत 28 फरवरी 2018 के मुकाबले करीब 1.95 पैसे तक और डीजल 2.25 रुपए तक ज्यादा होने के साथ सितंबर 2013 के बाद सबसे अधिक भी हैं। गौरतलब है कि पेट्रो ईंधनों की दरों में पारदर्शिता और वाहन चालकों को राहत के नाम पर सरकार ने जुलाई 2017 से हर रोज इनमें बदलाव शुरू किया था, लेकिन गत एक माह में दरें लगातार बढ़ी हैं।

आज पेट्रोल-डीजल 4 साल में सबसे महंगा

डीजल महंगा होने से मालभाड़े पर पड़ेगा असर

बढ़ी डीजल की दरों को सीधा असर बाजार में महंगाई पर पड़ रहा है। अब पहली अप्रेल से ई-वे बिल व्यवस्था भी लागू हो गई है। ऐसे में टैक्स चोरी और ओवरलोड कर मालभाड़े की लागत बचाने की व्यवस्था कम होगी। कारोबारी यह भरपाई ग्राहकों से ही करेंगे।

टोल पर सिर्फ राजस्थान में पंजीकृत वाहनों को छूट देते रहे

पहली अप्रेल को मध्यरात्रि से ही राज्य उच्च मार्ग और मेगा हाइवे पर निजी वाहनों को टोल में छूट तो शुरु हुई, लेकिन टोलकर्मियों ने केवल राजस्थान में पंजीकृत वाहनों को लाभ दिया। इससे बहरोड़ व भिवाड़ी क्षेत्र में हरियाणा और दिल्ली नंबर के स्थानीय वाहनों के मालिकों को परेशानी हुई। सीमावर्ती क्षेत्र होने से बड़ी संख्या में दूसरे राज्यों के वाहन भी यहां लोगों के पास हैं। अहम बात यह है कि सार्वजनिक निर्माण विभाग की ओर से जारी सूचना में छूट को केवल राज्य के वाहनों तक सीमित होने का कहीं जिक्र नहीं है।