• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Alwar News
  • इंग्लिश प्रीमियर लीग के क्लबों ने जनवरी में खिलाड़ियों के ट्रांसफर पर खर्च किए 3900 करोड़ रु., पिछले
--Advertisement--

इंग्लिश प्रीमियर लीग के क्लबों ने जनवरी में खिलाड़ियों के ट्रांसफर पर खर्च किए 3900 करोड़ रु., पिछले रिकॉर्ड से 91 फीसदी ज्यादा

इंग्लिश प्रीमियर लीग (ईपीएल) को दुनिया की टॉप-3 फुटबॉल लीग में से एक माना जाता है। इसका सबूत जनवरी के ट्रांसफर विंडो...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 05:45 AM IST
इंग्लिश प्रीमियर लीग (ईपीएल) को दुनिया की टॉप-3 फुटबॉल लीग में से एक माना जाता है। इसका सबूत जनवरी के ट्रांसफर विंडो से भी मिलता है। इस एक महीने में लीग की टीमों ने कुल 430 मिलियन पाउंड (करीब 3911 करोड़ रुपए) खर्च किए हैं। यह जनवरी के ट्रांसफर विंडो में खर्च की गई अब तक की सबसे बड़ी राशि है। पिछला रिकॉर्ड 225 मिलियन पाउंड (करीब 2049 करोड़ रुपए) का था जो, 2011 में बना था। ये आंकड़े स्पोर्ट्स बिजनेस ग्रुप डेलोइटे की एक रिपोर्ट में बताए गए हैं। जनवरी विंडो बुधवार को बंद हुई। इस आखिरी दिन ही 1365 करोड़ रुपए खर्च किए गए। यह भी एक रिकॉर्ड है। रिपोर्ट के मुताबिक अब 2017-18 सीजन का कुल खर्च 1.9 बिलियन पाउंड (करीब 17310 करोड़ रुपए) तक पहुंच गया है। यह भी नया रिकॉर्ड है। पिछला रिकॉर्ड एक सीजन पहले ही बना था। तब 1.4 बिलियन पाउंड (करीब 12753 करोड़ रुपए) खर्च किए गए थे।

जनवरी विंडो में ईपीएल के कई खिलाड़ी विदेशी लीगों की टीमों द्वारा भी खरीदे गए। लिवरपूल के फिलिपे कोटिन्हो को बार्सिलोना ने 142 मिलियन पाउंड (1293 करोड़ रुपए) में खरीदा। जहां तक इंग्लैंड से बाहर के क्लबों के साथ डील की बात है तो ईपीएल के क्लबों ने 260 मिलियन पाउंड खर्च किए, जबकि उन्हें 185 मिलियन पाउंड मिले। देखने में ईपीएल क्लबों द्वारा खर्च की गई राशि बहुत ज्यादा लग सकती है, लेकिन यह उन्हें होने वाली आय की तुलना में अब भी बहुत कम है। एक रिपोर्ट के मुताबिक ईपीएल क्लबों को इस सीजन में जो आमदनी होगी उसकी तुलना में खिलाड़ियों के ऊपर पूरे साल में हुआ खर्च महज 17 फीसदी ही है।

इस बार की जनवरी विंडो में टॉप-10 की टीमों ने बॉटम-10 की टीमों की तुलना में ज्यादा रकम खर्च की है। यह भी नया ट्रेंड है। आम तौर पर नीचे की टीमें इसलिए ज्यादा पैसे खर्च करती हैं, ताकि वे अच्छे खिलाड़ी हासिल कर प्वाइंट्स टेबल में स्थिति सुधार सकें।

ईपीएल की टीमों ने जनवरी के विंडों में 2011 में खर्च किए थे 2046 करोड़ रुपए, 7 साल का रिकॉर्ड टूटा

पिछले आठ सालों में जनवरी विंडो का लेखा-जोखा

500

400

300

2046

200

100

आंकड़े करोड़ रुपए में।

0

1091

545

2010-11

2011-12

1182

2012-13

1182

2013-14

1591

2014-15

3911

1955

2015-16

2016-17

2017-18

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..