चुनाव से पहले दहशत का खेल, मतदान केंद्र पर बदमाशों ने हथियार लहराते हुए लोगों को पीटा, नाबालिग तक ऑटोमेटिक गन लेकर तालिबानी स्टाइल में करते दिखे मारपीट

राजस्थान न्यूज: घटना का वीडियो वायरल कर फैला रहे हैं दहशत, व्हाट्सएप ग्रुप का नाम जख्मी फरारी 

Bhaskar News

Mar 16, 2019, 03:47 PM IST
Alwar Rajasthan News in Hindi: Game of bullying before voters in polling booth by naughty

अलवर (राजस्थान)। बहरोड़ क्षेत्र और समीपवर्ती हरियाणा के गांवों में अपराध के हालात बिहार जैसे होते जा रहे हैं। दोनों इलाकों में अवैध हथियारों से लैस बदमाश गिरोह फिरौती के धंधे में वर्चस्व के लिए न केवल भिड़ रही हैं बल्कि बेखौफ वीडियो बनाकर वायरल कर रही हैं। लोकसभा चुनाव से ठीक पहले जहां पुलिस भयमुक्त मतदान के दावे कर रही है। वहीं बहरोड़ से सटे हरियाणा के गोठडी सरकारी स्कूल के मतदान केंद्र में सशस्त्र बदमाशों द्वारा चार युवकों की बेरहमी से पिटाई का वीडियो सामने आया है। भास्कर ने पड़ताल की तो पता चला कि घटना दो गिरोहों के बदमाशों के बीच वर्चस्व दिखाने के लिए हुई। मामले पर दोनों ही राज्यों की पुलिस ने 48 घंटे बाद भी साफ नजर आ रहे किसी बदमाश पर शिकायत नहीं मिलने का हवाला देकर कोई कार्रवाई नहीं की।

व्हाट्सएप ग्रुप का नाम जख्मी फरारी

सोशल मीडिया पर जख्मी फरारी नाम के ग्रुप पर आए वीडियो में गोठड़ी के सरपंच का प्रतिनिधि वीरेंद्र और उसके साथी गांव के सरकारी स्कूल भवन में 4 युवकों को मुर्गा बनाकर बेरहमी से डंडों से पिटाई करते हुए दिखे हैं। युवकों को महाकाल की टी-शर्ट पहनने के कारण पीटना बोला जा रहा है। वीडियो में करीब मारपीट करने वाले 6 से ज्यादा बदमाशों के साथ 20 से ज्यादा युवक मौजूद हैं। इनमें कई नाबालिग व किशोर ऑटोमेटिक गन लहराते बेखौफ घूम रहे हैं। नीले शॉर्ट में नजर आ रहा युवक भी जेब में पिस्टल रख मारपीट करता दिख रहा है।

भास्कर पड़ताल: चुनाव से पहले वोटरों को धमकाने का खेल

सूत्रों का कहना है कि बदमाशों के ये गिरोह मुख्यत: फिरौती, लूट व मारपीट आदि वारदातों में लिप्त रहते हैं, लेकिन जब भी कोई चुनाव आता है तो ये लोग वीडियो वायरल कर अपनी दहशत वोटरों में बैठाने का प्रयास करते हैं। करीब 6 माह पहले भी विधानसभा चुनाव से पहले ऐसे करीब आधा दर्जन वीडियो पूरे राठ इलाके में वायरल किए गए। अब लोकसभा चुनाव आते ही फिर से वीडियो वायरल होने का सिलसिला शुरु हो गया है। घटना हरियाणा की है लेकिन वीडियो बहरोड़ के ग्रुपों में स्पष्ट चेहरे दिखाते हुए डाला गया है, ताकि यहां तक गिरोह के लोगों डर बैठ जाए। जानकारी के मुताबिक- चुनाव के दौरान जिस गैंग की दहशत ज्यादा होती है उन्हें कुछ राजनीतिक लोग अच्छा-खासा पैसा ऑफर करते हैं और जरूरत पड़ने पर इस्तेमाल भी किया जाता है।


लोकल होने से मजबूर लोग, गांव में हथियारों का जखीरा

भास्कर की पड़ताल में यह भी सामने आया कि ये गिरोह लोकल होने से वोटरों को उनकी बात माननी पड़ती है। क्योंकि उन्हें डर रहता है कि चुनाव प्रक्रिया निपटने के बाद पुलिस और प्रशासन तो लौट जाता है। तब उक्त लोग उन्हें छोड़ेंगे नहीं। हथियारों से लैस रहने के कारण कोई उनसे विवाद मोल नहीं लेना चाहता। कई बदमाश तो जनप्रतिनिधियों के परिवारों से हैं। उनकी सरपरस्ती में बड़ी संख्या में अवैध हथियार इन गांवों में जमा किए हुए है। पुलिस भी किसी हद तक डरी होने से कार्रवाई नहीं करती

पीड़ित पक्ष की ओर से अभी तक पुलिस थाने में कोई मुकदमा दर्ज नहीं करवाया गया है। बदमाशों के द्वारा मारपीट करने और दहशत फैलाने का वीडियो आज मिला है। जिसकी जांच की जा रही है। लोकसभा चुनाव को मद्देनजर बदमाशों के द्वारा फैलाई जा रही दहशत से उच्च अधिकारियों को अवगत कराया गया है। पुलिस की ओर से भी मामला दर्ज किया।

-संतोष कुमार, थानाधिकारी, नांगल चौधरी, हरियाणा

फिलहाल मैं मेला ड्यूटी में सीकर हूं, लेकिन अगर ऐसी वारदातें हो रही हैं तो हम हरियाणा पुलिस के साथ समन्वय कर बदमाशों पर कार्रवाई करेंगे। चुनाव में दहशत बनाने वाले कामयाब नहीं होंगे।

- रामजीलाल चौधरी, डीएसपी बहरोड़

X
Alwar Rajasthan News in Hindi: Game of bullying before voters in polling booth by naughty
COMMENT

Recommended News

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना