Hindi News »Rajasthan »Alwar» अाज की श्रद्धांजलि सभा पर प्रशासन ने लगाई रोक

अाज की श्रद्धांजलि सभा पर प्रशासन ने लगाई रोक

अनुसूचित जाति, जनजाति, अल्पसंख्यक, अन्य पिछड़ा वर्ग अधिकार मंच ने मंगलवार को जगन्नाथ मंदिर मेला परिसर में...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 01, 2018, 03:25 AM IST

अनुसूचित जाति, जनजाति, अल्पसंख्यक, अन्य पिछड़ा वर्ग अधिकार मंच ने मंगलवार को जगन्नाथ मंदिर मेला परिसर में श्रद्धांजलि सभा आयोजित करने की घोषणा की थी, जिस पर प्रशासन ने रोक लगा दी है। यह सभा 2 अप्रैल को दलित समाज के भारत बंद के दौरान खैरथल में मारे गए पवन जाटव एवं देश के अन्य हिस्सों में पुलिस फायरिंग में मारे गए दलित समाज के लोगों को श्रद्धासुमन अर्पित करने के लिए रखी गई थी। इससे पहले मंच की ओर से 25 अप्रैल को अंबेडकर सर्किल पर धरना देने पर भी प्रशासन ने रोक लगा दी थी।

सभा स्थल के पास स्कूल होने एवं भविष्य में सांप्रदायिक सौहार्द बिगड़ने की आशंका को देखते हुए नहीं दी अनुमति

अनुमति नहीं देने के पीछे ये तीन कारण

1. एडीएम सिटी महेंद्र मीणा की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि मंच के सह संयोजक अशोक मीणा की ओर से श्रद्धांजलि सभा के लिए आवेदन किया गया। इस पर एसपी से रिपोर्ट मांगी गई। इसकी जांच डीएसपी व थाना प्रभारी से कराई गई। जांच अधिकारियों ने रिपोर्ट दी है कि सभा में शेर मोहम्मद, सूरजमल कर्दम, मोहनलाल वर्मा, कासम खां मेवाती, जल्ला राम जाटव सहित करीब दो से ढाई हजार लोग शामिल होंगे। कार्यक्रम स्थल के पास स्कूल है। सभा से बच्चों की पढ़ाई बाधित होगी।

2. दूसरा तर्क यह दिया कि कार्यक्रम मंदिर प्रांगण में है। इसमें विभिन्न सांप्रदायिक के लोग शामिल होंगे। अगर कोई अव्यवस्था होती तो भविष्य में सांप्रदायिक सौहार्द बिगड़ सकता है।

3. प्रशासन ने अनुमति नहीं देने के पीछे तीसरा तर्क दिया कि अनुमति लेने वाले अशोक मीणा के खिलाफ राजगढ़ थाने में मुकदमा दर्ज है। उसका सामाजिक स्तर पर कोई विशेष प्रभाव नहीं है। ऐसे में आयोजन की अनुमति दिया जाना उचित नहीं है।

प्रशासन के कहने पर फायर ब्रिगेड व एंबुलेंस का पैसा जमा करा दिया था। कार्यक्रम स्थल पर टैंट भी लगा दिए थे। प्रशासन से स्वीकृति की कॉपी मांगी गई तो उन्हें सुबह 10 से शाम 6 बजे तक अधिकारी मौखिक आश्वासन देते रहे। शाम को स्वीकृति नहीं देने का पत्र दे दिया। - सूरजमल कर्दम एवं शेर मोहम्मद, मंच के पदाधिकारी

एंबुलेंस व फायर ब्रिगेड का पैसा पहले ही जमा हो जाता है। ऐसा कुछ नहीं है। पुलिस की जांच रिपोर्ट देरी से मिली। इस कारण अनुमति लेने वालों को बताने में देरी हुई। -महेंद्र मीणा, एडीएम सिटी

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Alwar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×