Hindi News »Rajasthan »Alwar» वसुंधरा राजे खेमे का इसी सप्ताह में प्रदेशाध्यक्ष बनेगा- सीताराम त्रिपाठी

वसुंधरा राजे खेमे का इसी सप्ताह में प्रदेशाध्यक्ष बनेगा- सीताराम त्रिपाठी

अंतर्राष्ट्रीय ज्योतिष विज्ञान शोध संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं भविष्य वक्ता महर्षि डॉ. सीताराम त्रिपाठी...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 18, 2018, 04:25 AM IST

वसुंधरा राजे खेमे का इसी सप्ताह में प्रदेशाध्यक्ष बनेगा- सीताराम त्रिपाठी
अंतर्राष्ट्रीय ज्योतिष विज्ञान शोध संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं भविष्य वक्ता महर्षि डॉ. सीताराम त्रिपाठी ने कहा कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के खेमे का प्रदेश अध्यक्ष इसी सप्ताह नियुक्त होगा , लेकिन राजस्थान विधानसभा चुनाव के बाद कांग्रेस की सरकार बनने के प्रबल संयोग बने रहे हैं। पं. त्रिपाठी गुरुवार को अपनी सौवीं हिमालय यात्रा के लिए जाते समय यहां रूके। जहां विशेष बातचीत के दैारान उन्हींने प्रदेश की राजनीति, मौसम विभाग का पूर्वानुमान, साधु- संतों पर भी अपनी प्रतिक्रिया देते हुए खूब कटाक्ष किए। डॉ त्रिपाठी ने राजस्थान में आगामी चुनाव को लेकर भविष्यवाणी करते हुए कहा कि विधानसभा चुनाव में भाजपा को कम बहुमत मिलेगा। अबकी बार राजस्थान की राजनीति में फेरबदल होगा । उन्होंने कहा कि मैंने मौसम विभाग से पहले पूर्वी-उत्तर भारत में मानसून और बर्फ बारी तथा आंधी-तूफान की पहले ही भविष्यवाणी कर चेतावनी दे दी थी। कर्नाटक में चुनाव होने से पहले भाजपा की सरकार बनने की भविष्यवाणी की थी। भाजपा के द्वारा प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने के सवाल पर कहा कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के खेमे का कोई व्यक्ति इसी सप्ताह के अंदर ही प्रदेश अध्यक्ष बन जाएगा। प्रदेश में बारिश के मानसून को लेकर कहा कि पूर्वी-उत्तरी राजस्थान में बारिश अधिक होगी, जबकि पश्चिमी व दक्षिणी राजस्थान में बारिश कम होने के आसार हैं। उन्होंने बातचीत के दौरान हिमालय से 33 साल से लगाव को बताते हुए कहा कि अबकी बार उनकी 100वीं यात्रा पूरी हाेगी। उन्होंने जगतगुरू शंकराचार्य द्वारा बनाए गए ज्योतिष मठ पर रहकर साधना एवं तपस्या करना बताया। जिसमें उन्होंने शुरुआती यात्रा में संकल्प लिया कि वह अपनी 100 यात्राएं पूरी करेंगे। उन्होंने कहा कि अभी तक 53 से अधिक हिमालय की यात्रा कांई व्यक्ति नहीं कर पाया।

सीताराम त्रिपाठी

आगामी लक्ष्य संजीवनी बूटी की खोज

उन्होंने कहा कि हिमालय से समुद्र दुनिया के इतिहास में शंख विज्ञान को खोजा और दावा किया। विश्व ही नहीं भारत में पहली बार शंख निधि पद्धति को बाहर निकाला। अमेरिका की नासा स्पेशल एजेंसी ने भी माना कि शंख में शक्ति है। उन्होंने शंख विज्ञान के जनक विश्व के इतिहास में प्रथम खोज का दावा नकली साबित करने वाले व्यक्ति को 1 करोड़ रुपए इनाम देने की घोषणा की हुई है। उन्होंने बताया कि आगामी लक्ष्य रहेगा कि 101 वीं यात्रा के दौरान 10 सदस्यों का दल का गठन कर संजीवनी बूटी की खोज की जाएगी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Alwar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×