पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • छात्रा से छेड़छाड़ व अश्लील मैसेज भेजने में जूनियर फादर की जमानत अर्जी खारिज

छात्रा से छेड़छाड़ व अश्लील मैसेज भेजने में जूनियर फादर की जमानत अर्जी खारिज

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अलवर | विशिष्ट न्यायाधीश अजा/अजजा (अत्याचार निवारण) प्रकरण जगेंद्र कुमार अग्रवाल ने नाबालिग स्कूली छात्रा से छेड़छाड़ करने, अश्लील मैसेज भेजने व धर्मांतरण के लिए उकसाने के आरोप में न्यायिक अभिरक्षा में जेल में बंद सेंट एंसलम स्कूल के जूनियर फादर रहे जार्जिस ब्रिटो की ओर से पेश जमानत अर्जी खारिज करते हुए जमानत का लाभ देने से इनकार कर दिया। विशिष्ट लोक अभियोजक कुलदीप कुमार जैन ने बताया कि मामले में जूनियर फादर रहे कन्याकुमारी निवासी जार्जिस ब्रिटो की ओर से पेश प्रार्थनापत्र में खुद को झूठा फसाने तथा 10-11 दिन से न्यायिक अभिरक्षा में बंद होने का आधार बताते हुए जमानत की मांग की गई थी। इस पर विशिष्ट लोक अभियोजक जैन ने जमानत प्रार्थनापत्र का विरोध करते हुए अदालत के समक्ष दलील दी कि आरोपी स्कूल का वाइस प्रिंसिपल है, उसने स्कूल की नाबालिग छात्रा से बार-बार छेड़छाड़ की। छात्रा के मोबाइल पर अश्लील मैसेज भेज गए। पीड़ित छात्रा पर धर्म परिवर्तन के लिए दबाव डाला गया तथा आरोपी द्वारा पीड़ित छात्रा को अपने गांव कन्याकुमारी ले जाने का प्रयास भी किया गया। घटना के बाद आरोपी का मौके से भाग जाना भी उसके आपराधिक कृत्य को दर्शाता है। न्यायाधीश अग्रवाल ने दोनों पक्षों की दलील सुनने व केस डायरी का अवलोकन करने के बाद मामले में लगे आरोपों में स्कूल के उप प्राचार्य द्वारा ही स्कूल की अव्यस्क छात्रा से किए गए इस तरह के कृत्य को देखते हुए अभियुक्त को जमानत का लाभ दिया जाना उचित नहीं मानते हुए प्रार्थनापत्र खारिज कर दिया।

खबरें और भी हैं...