Hindi News »Rajasthan »Alwar» उद्यमियों ने छोटे प्लॉट में लगाए पाइप उद्योग, भीतर जगह नहीं इसलिए सड़क पर रखा स्टॉक

उद्यमियों ने छोटे प्लॉट में लगाए पाइप उद्योग, भीतर जगह नहीं इसलिए सड़क पर रखा स्टॉक

औद्योगिक क्षेत्र के फेज एक की मुख्य सड़क उद्योगों के सामने स्टॉक किए काले पाइपों के बंडलों से बाधित हो गई है। हाल...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 17, 2018, 05:35 AM IST

औद्योगिक क्षेत्र के फेज एक की मुख्य सड़क उद्योगों के सामने स्टॉक किए काले पाइपों के बंडलों से बाधित हो गई है। हाल ये हो गया है कि रोड से वाहन निकल पाना तो दूर राहगीरों के लिए भी जगह नहीं बचती। उद्यमियों की खींचतान एवं रीको की अनदेखी से अतिक्रमण की समस्या और बढ़ती जा रही है। बहरोड़ औद्योगिक क्षेत्र में सीमेंट व प्लास्टिक पाइप की काफी फैक्ट्रियां संचालित हैं। यहां लगे उद्योगों ने काम तो शुरू कर दिया, लेकिन प्लांट के लिए जगह अपर्याप्त ली गई। इससे उत्पादित माल का स्टॉक रखने को भीतर जगह ही नहीं होती। उद्यमियों ने सड़क पर पाइपों का स्टॉक जमा कर दिया। अन्य कंपनियों ने भी इन्हें देख सड़क के दोनों ओर अपना सामान पटक रखा है। इससे रोड के नाला-नालियों की साफ-सफाई नहीं हो पाती। उद्यमियों ने बताया कि आपसी प्रतिस्पर्धा के कारण अतिक्रमण बढ़ा है। उद्यमियों ने ग्राहकों के लुभाने के लिए अपनी-अपनी ईकाइयों के सामने पाइपों के बंडल डाले हुए हैं। यह पहला मौका नहीं है, जब सड़क पर अतिक्रमण किया गया हो। उद्यमियों के द्वारा प्रतिवर्ष सीजन के दिनों में यही हाल किया जाता है। हालांकि गत वर्ष की तुलना में इस बर अतिक्रमण अधिक है। कुछ उद्यमियों के द्वारा इसकी शिकायत रीको अधिकारियों से की गई। लेकिन जिम्मेदार अधिकारी भी बेपरवाह बने हुए हैं।

अतिक्रमियों को नोटिस देकर इन्हें हटाने को कहेंगे। एक सप्ताह में नहीं हटाते हैं तो रीको खुद अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई करेगा। -एसआई हसन, रीजनल मैनेजर, रीको बहरोड़

बहरोड़. औद्योगिक क्षेत्र में फैक्ट्रियों के बाहर सड़कों पर रखा फैक्टियों का सामान।

प्रतिवर्ष करते हैं अतिक्रमण, रीको के नोटिस बेअसर

सड़क पर पाइपों के बंडल डालकर अतिक्रमण करने का पहला मामला नहीं है। उद्यमी गर्मियों के सीजन में तीन-चार माह लगातार सड़कों पर अतिक्रमण कर लेते हैं। क्योंकि रबी एवं खरीफ फसल कटाई के बाद किसान अपने नलकूपों एवं बोरिंगों से पाइप दबाकर दूसरी जगह लेकर जाते हैं या फव्वारा पाइप खरीद करते हैं। जिससे ग्राहकों को अपनी और लुभाने के लिए यह सब किया जाता है। खबर प्रकाशित होने के बाद रीको अधिकारियों का ध्यान अतिक्रमण की तरफ आकर्षित किया जाता है। जिसके बाद रीको विभाग के जिम्मेदार अधिकारी अतिक्रमियों को अतिक्रमण का सामान जप्त करने के नोटिस देने के बाद भी अतिक्रमण बना रहता है।

पड़ोसी उद्योगों से सीखने की जरूरत

बहरोड़ से करीब 15 किमी नीमराना व सोतानाला औद्योगिक क्षेत्रों में यह समस्या नहीं है। वहां सड़कों पर अतिक्रमण नहीं किया गया, बल्कि उद्योगों के बाहर पेड़-पौधे लगाकर साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। अपेक्स ट्यूब, अरुण मैन्युफैक्चरिंग, फेस दो स्थित ग्रीन लैम, मिकासा, ड्यूरा लाईन, जीएसपी दवा बनाने वाली कंपनी, 132 पॉवर हाउस, एयूटेनियम सहित अन्य उद्योग है। जिनके सामने हरियाली होने से लोगोें को सुविधा से जोड़ा गया है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Alwar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×