पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Alwar News Nomination Opportunity Only For Bsp Candidates To Get New Date In Ramgarh

रामगढ़ में नई तिथि आने पर केवल बसपा प्रत्याशी को ही मिलेगा नामांकन का मौका

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अलवर जिले की रामगढ़ विधानसभा सीट से बसपा प्रत्याशी 64 वर्षीय लक्ष्मण सिंह का गुरुवार सुबह हृदय गति रुक जाने से निधन हो गया। रिटर्निंग अधिकारी पंकज शर्मा ने रामगढ़ में विधानसभा चुनाव स्थगित करने की घोषणा कर दी है। रिटर्निंग अधिकारी के अनुसार नगर परिषद अलवर द्वारा जारी लक्ष्मण सिंह के मृत्यु प्रमाण पत्र के बाद रामगढ़ विधानसभा सीट के लिए 7 दिसंबर काे होने वाले मतदान काे आगामी घोषित की जाने वाली तारीख तक के लिए स्थगित कर दिया गया है। नियमानुसार चुनाव की नई तारीख की घोषणा निर्वाचन आयोग द्वारा की जाएगी। इस बीच बसपा को दुबारा नामांकन भरने व प्रत्याशी घोषित करने का अवसर दिया जाएगा। शेष सभी प्रक्रियाएं यथावत रहेंगी। शेष पेज 14

परिजनों से मिली सूचना के अनुसार लक्ष्मण सिंह बुधवार की रात चुनाव दाैरे के बाद एमआईए स्थित चौधरी चरण सिंह काॅलेज स्थित अपने निवास पर थे। गुरुवार सुबह वे अपने समर्थकों से मोबाइल पर बात कर रहे थे। अचानक उन्हें सांस लेने में परेशानी हुई। करीब 8 बजे परिजन उन्हें गीतांजलि अस्पताल लेकर गए। जहां डाॅक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। गुरुवार दाेपहर दाे बजे बाद उनका अंतिम संस्कार किया गया।

यथावत रहेंगे अन्य प्रत्याशी : उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री याेगी आदित्यनाथ की चुनावी सभा के बाद रामगढ़ विधानसभा क्षेत्र में चुनावी हलचल ने तेजी पकड़ी थी। गुरुवार काे बसपा प्रत्याशी के निधन के बाद चुनाव स्थगित हाेने की सूचना से प्रत्याशियाें सहित समर्थकों का जाेश ठंडा पड गया है। रिटर्निंग अधिकारी पंकज शर्मा के अनुसार अायाेग शीघ्र ही चुनाव की आगामी तारीख तय कर सकता है। दिसंबर में ही स्थगित चुनाव की संभावना काे देखते हुए दिवंगत बसपा प्रत्याशी के स्थान पर संबंधित पार्टी चाहेगी ताे दूसरे प्रत्याशी का नामांकन भरवा सकेगी। इसके लिए पार्टी काे नाेटिस देते हुए सात दिवस का समय दिया जाएगा। शेष सभी पार्टियां व निर्दलीयों के नामांकन यथावत रहेंगे।

लक्ष्मण सिंह चौधरी

निधन का समाचार मिला तो पार्टियों ने कार्यालय बंद करने की तैयारी कर ली।

चुनाव स्थगित होने के मायने क्या, वह सब कुछ जो आप जानना चाहते हैं
रामगढ़ में अब क्या होगा?

चुनाव स्थगित होने के बाद भारत निर्वाचन आयोग द्वारा नई तिथियों की घोषणा की जाएगी।

क्या सभी प्रत्याशी दुबारा नामांकन दाखिल करेंगे?

नहीं केवल बसपा प्रत्याशी को नामांकन करने का अवसर दिया जाएगा।

क्या अभी नामांकन किया जा सकता है?

नहीं, बसपा प्रत्याशी के नामांकन भरने के बाद निर्वाचन प्रक्रिया के तहत नामांकन वापस के लिए भी इंतजार किया जाएगा। मतलब वो सभी प्रक्रियाएं सिर्फ एक प्रत्याशी के लिए होंगी।

कुल कितना समय लगेगा?

इस पूरी प्रक्रिया में लगभग एक महीना लगना संभावित है।

प्रत्याशियों को किन परेशानियों का सामना करना पड़ेगा?

ऐसे में इसका प्रभाव क्षेत्र में चुनाव लड़ रहे प्रमुख दलों के प्रत्याशियों पर पड़ेगा। मतदाताओं को एक महीने तक रोके रखना और एकजुट रखना दोनों ही प्रत्याशियों के लिए चुनौती रहेगा।

इस स्थिति में चुनावी बजट पर क्या असर पड़ेगा?

क्षेत्र में आने वाले स्टार प्रचारक व अन्य नेताओं की अगुवानी सहित अन्य खर्चे अतिरिक्त होंगे, इससे प्रत्याशी का बजट गड़बड़ा सकता है।

किसकी मुश्किलें बढ़ेंगी?

सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण यह कि 11 दिसंबर को चुनाव परिणामों में जिस भी दल की प्रदेश में सरकार बनेगी तो विपरीत पार्टी से चुनाव लड़ रहे प्रत्याशी के लिए बड़ी मुश्किलें सामने आएंगी।

रामगढ़ में थम गया चुनावी शाेर
गुरुवार सुबह जैसे ही बसपा प्रत्याशी लक्ष्मण सिंह के निधन की सूचना रामगढ़ विधानसभा सीट पर चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियाें सहित अाम लाेगाें काे मिली ताे लाेग हतप्रभ रह गए। भाजपा प्रत्याशी सुखवंत सिंह ने शाेक में अपने चुनावी कार्यालय काे एक दिन के लिए बंद करवा दिया। कांग्रेस कार्यालय शाम चार बजे बाद समर्थकों द्वारा खाेल दिया गया। रामगढ़ विधानसभा क्षेत्र में प्रचार के लिए दाैड़ रहे वाहनों के पहिये थम गए व प्रत्याशियाें ने वाहनों काे वापस ट्रांस्पोर्टरों के सुपुर्द कर दिया।

जाट समाज की बैठक में शामिल होने वाले थे
समर्थकों के अनुसार गुरुवार काे लक्ष्मण सिंह के समर्थन काे लेकर जाट समाज की बैठक हाेनी थी, लेकिन उनके आकस्मिक निधन की सूचना के बाद प्रस्तावित बैठक काे निरस्त कर दिया गया।

खबरें और भी हैं...