• Hindi News
  • Rajya
  • Rajasthan
  • Alwar
  • Alwar News rajasthan news three times write a letter to the police administration i am trapped in the clutches of the mafia gang after five days i got poisoned

3 बार पुलिस-प्रशासन को पत्र लिख कहा-माफिया गिरोह के चंगुल में फंसा हूं, पांच दिन बाद जहर खाकर जान दी

Alwar News - शहर के हाउसिंग बोर्ड सेक्टर एक में रहने वाले यादव समाज भिवाड़ी के पूर्व अध्यक्ष राजमुकट यादव ने लेनदेन के एक मामले...

Bhaskar News Network

Jul 17, 2019, 07:35 AM IST
Alwar News - rajasthan news three times write a letter to the police administration i am trapped in the clutches of the mafia gang after five days i got poisoned
शहर के हाउसिंग बोर्ड सेक्टर एक में रहने वाले यादव समाज भिवाड़ी के पूर्व अध्यक्ष राजमुकट यादव ने लेनदेन के एक मामले को लेकर सोमवार रात िवषाक्त पदार्थ का सेवन कर लिया। बाद में उनकी इलाज के लिए रेवाड़ी ले जाते समय रास्ते में मौत हो गई। मामले को लेकर आक्रोशित यादव समाज के लोगों ने मंगलवार सुबह करीब चार-पांच घंटे तक आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर पोस्टमार्टम नहीं होने दिया। बाद में समझाइश के बाद लोग पोस्टमार्टम के लिए राजी हुए। मामले को लेकर मृतक की जेब से मिले एक सुसाइड नोट में तीन जनों पर आत्महत्या के लिए मजबूर करने की बात कही गई है। 10 जुलाई को आत्महत्या के लिए वो हरिद्वार भी गए बताए। उनके जेब में मिला सुसाइड नोट भी 10 जुलाई का है। आरोप है कि मृतक ने आत्महत्या से पूर्व पुलिस एवं प्रशासन को तीन बार पत्र लिख माफिया गिरोह के चंगुल में फंसने की बात कही थी। इसके बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई। उधर, पुलिस का कहना है कि राजमुकट को थाने में बुलाकर उनके व आरोपियों के मोबाइल की सीडीआर की पड़ताल करने व आवश्यक दस्तावेज उपलब्ध कराने के लिए कहा था। साथ ही उन्हें संतुष्ट करके वहां से भेजा और शाम को आवश्यक कागजात साथ लेकर आने के लिए बुलाया, लेकिन वह नहीं आए। वही, घटना को लेकर मृतक के पुत्र सुधीर यादव ने तीनों आरोपियों के खिलाफ उसके पिता को आत्महत्या के लिए मजबूर करने का मामला दर्ज कराया है।

भिवाड़ी के हाउसिंग बोर्ड सेक्टर एक निवासी राजमुकट यादव (65) पुत्र हरिकिशन यादव की सोमवार रात करीब साढ़े आठ बजे भिवाड़ी के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। सूचना पर भिवाड़ी पुलिस भी मौके पर पहुंची। जहां राजमुकट यादव ने आत्महत्या के लिए तीन जनों पर आरोप लगाते हुए पर्चा बयान दर्ज कराया। बाद में इलाज के लिए रेवाड़ी ले जाते समय उनकी रास्ते में मौत हो गई। पुलिस ने रात में ही उनके शव को भिवाड़ी सीएचसी की मोर्चरी में रखवा दिया। मौैके पर पहुंचे आक्रोशित समाज के लोगाें ने आरोपियों की शीघ्र गिरफ्तारी को लेकर पोस्टमार्टम की कार्रवाई अटका दी। मौके पर भिवाड़ी सीओ देवेन्द्र सिंह सहित अन्य पुलिस अधिकारियों ने काफी समझाइश की। लेकिन लाेग जिला पुलिस अधीक्षक को मौके पर बुलाने की बात पर अड़े रहे। बाद में सीओ के आश्वासन के बाद लोग शांत हो गए। जिसके बाद शव का पोस्टमार्टम हो सका।

आत्महत्या करने के लिए हरिद्वार भी गए थे

राजमुकट यादव

भिवाड़ी. सीएचसी में लोगों से समझाइश करते पुलिस अधिकारी।

बदमाशों ने अपहरण कर करा लिया था जमीन का एग्रीमेंट

मृतक के पुत्र की ओर से दर्ज कराई गई रिपोर्ट में बताया है कि 18 जून को आरोपी सुतेश शर्मा उसके बेटे भारत शर्मा व लीलाराम यादव निवासी शेरपुर (कोटकासिम) ने हथियारबंद बदमाशों के सहयोग से उसके पिता का अपहरण कर जबरन डरा धमकाकर मांजरी गांव स्थित उनकी जमीन का एग्रीमेंट करा लिया। सौदा 20 लाख रुपए में करने और नकदी प्राप्त करने के फर्जी स्टांप पर भी जबरन हस्ताक्षर करा लिए। उसके पिता से बीस लाख रुपए के चैक भी लिए। इस मामले को लेकर उसके पिता ने 23 जून को जिला कलेक्टर, जिला पुलिस अधीक्षक सहित संबंधित थानों को भी शिकायत की थी। आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई तो फिर 28 जून को फिर से शिकायत की। फिर भी सुनवाई नहीं हुई तो 2 जुलाई को एसपी के नाम लिखे पत्र में आखिरी बार प्रार्थना करने की बात कहते हुए आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई न होने पर आत्महत्या करने की मजबूरी का भी हवाला दिया था। 15 जुलाई को उन्होंने हताश होकर आरोपियों के डर से विषाक्त पदार्थ खाकर आत्महत्या कर ली।

यह लिखा सुसाइड नोट में

राजमुकट यादव आरोपियों के दबाव की वजह व परिवार पर हमले की आशंका के चलते बेहद तनाव में थे। उन्होंने अपने परिवार को भी इस सब वाकये से अपहरण की घटना के 18 दिन बाद अवगत कराया था। परिजनों से छिपाकर ही वो पुलिस-प्रशासन को शिकायती पत्र भेज रहे थे। 10 जुलाई को आत्महत्या के लिए वो हरिद्वार भी गए बताए। उनके जेब में मिला सुसाइड नोट भी 10 जुलाई का है। जिसमें उन्होंने अपने दोनों बेटों को संबोधित करते हुए लिखा है कि मैं इस माफिया गिरोह के चंगुल में बुरी तरह उलझ गया था, इससे निकल पाना बहुत मुश्किल था। माफिया गिरोह के तीनों सदस्य सुतेश शर्मा, भारत शर्मा व लीलाराम यादव के दबाव की वजह से आत्महत्या कर रहा हूं। सुसाइड नोट में उक्त गिरोह से सतर्क रहने व जीवन में कभी बेइमानी नहीं करने की अंतिम इच्छा भी जाहिर की गई है। नोट में स्वयं को अभागा पिता लिखते हुए राजमुकट यादव ने दोनों बेटों से अपनी मां व बहन का ख्याल रखने और उनको माफ कर देने की बात कही है।

पुलिस बोली-परिवाद मिलने के बाद ही कार्रवाई शुरू की

मामले को लेकर फूलबाग थाना प्रभारी बालाराम चाैधरी का कहना है कि 23 जून को लिखा गया पत्र उन्हें 3 जुलाई को डाक से मिला। 6 जुलाई को इसी मामले का एक पत्र और मिला। जिसकी जांच एक हैडकांस्टेबल को दी गई थी। जिसने उन्हें बुलाया तो राजमुकट ने थाने न आकर एक वकील से बात करा दी। बाद में एक और परिवाद 7 जुलाई को एसपी कार्यालय से डाक से मिला। जिनकी जांच भिवाड़ी मोड चौकी प्रभारी को दी गई। जिन्होंने 10 व 12 जुलाई को पीड़ित को बुलाने के लिए फोन किया लेकिन बात नहीं हो सकी। फिर उनके बेटे से फोन पर बात हुई, जिसने बताया कि वह अपने पिता को लेने हरिद्वार आया हुआ है। पुलिस ने उनको लेकर थाने आने और बयान दर्ज कराने के लिए बुलाया। जिसके बाद राजमुकट यादव 3-4 लाेगाें के साथ 15 जुलाई की सुबह करीब 11 बजे पुलिस के पास पहुंचे। पुलिस ने पूरा मामला समझ, उनके व आरोपियों के मोबाइल की सीडीआर की पड़ताल करने व उनसे आवश्यक दस्तावेज उपलब्ध कराने की बात कही। साथ ही उन्हें संतुष्ट करके वहां से भेजा और शाम को आवश्यक कागजात साथ लेकर आने के लिए बुलाया। लेकिन वो शाम को नहीं आए और रात में उनके विषाक्त सेवन की सूचना मिली।


Alwar News - rajasthan news three times write a letter to the police administration i am trapped in the clutches of the mafia gang after five days i got poisoned
X
Alwar News - rajasthan news three times write a letter to the police administration i am trapped in the clutches of the mafia gang after five days i got poisoned
Alwar News - rajasthan news three times write a letter to the police administration i am trapped in the clutches of the mafia gang after five days i got poisoned
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना