--Advertisement--

कश्मीर के पहलगाम में सीआरपीएफ पैट्रोलिंग पार्टी पर आतंकी हमला, राजस्थान के दो सपूत शहीद

राजस्थान के तीन वीर सपूताें के शहीद होने से शोक की लहर

Danik Bhaskar | Jul 14, 2018, 11:29 AM IST
जम्मू आतंकी हमले में शहीद हुए थे झालावाड़ के मुकुट बिहारी मीणा। जम्मू आतंकी हमले में शहीद हुए थे झालावाड़ के मुकुट बिहारी मीणा।

अनंतनाग/ राजस्थान. जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में शुक्रवार को आतंकियों ने सीआरपीएफ की एक पैट्रोलिंग पार्टी पर हमला कर दिया। आतंकियों ने अचाबल चौक के पास सीआरपीएफ पार्टी पर अंधाधुंध फायरिंग की। हमले में सीआरपीएफ के असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर मिश्रीलाल मीणा (48) व कांस्टेबल संदीप सिंह (26) शहीद हो गए। शहीद मिश्रीलाल मीणा राजस्थान के टोंक जिले के राजमहल के रहने वाले थे। जबकि कांस्टेबल संदीप सिंह अलवर के बानासूर इलाके की ढाणी गुर्जरावाली के निवासी थे। इस हमले में एक जवान व एक आम नागरिक भी घायल हुआ है। आतंकी हमले के बाद भाग निकले। उनकी तलाश में सेना का सर्च अभियान जारी है। लश्कर प्रवक्ता ने ईमेल जारी कर इस हमले की जिम्मेदारी ली है। जबकि खराब मौसम के चलते जयपुर से शहीद मुकुट बिहारी मीणा का पार्थिव शरीर शुक्रवार शाम झालावाड़ नहीं पहुंच सका। राजस्थान के तीन वीर सपूतों के शहीद होने पर शोक की लहर है।

टोंक निवासी थे मिश्रीलाल, बानासूर के थे संदीप: मिश्रीलाल के परिवार में पीछे पत्नी, एक बेटा और दो बेटियां हैं। वे 8 फरवरी 2018 को ही दोनों बेटियों की शादी करके ड्यूटी पर गए थे। उधर, संदीप सिंह 2011 में सीआरपीएफ में कांस्टेबल पद पर भर्ती हुए थे। उन्होंने कहा कि अमरनाथ यात्रा खत्म होने पर वापस घर आएंगे। संदीप के परिवार में पत्नी मनीषा, दो बच्चे आशीष व अक्षत हैं। दोनों शहीदों का अंतिम संस्कार संभवतया शनिवार को किया जाएगा।

मार्च में ही छुट्‌टी पूरी कर ड्यूटी पर गए थे मिश्रीलाल

राजमहल (टोंक). पहलागाम आतंकी हमले में राजमहल के सपूत सीआरपीएफ के सेक्शन कमांडर मिश्री लाल मीणा के शहीद होने की खबर मिलने के बाद उनके घर शोक की लहर छा गई है। उनका अंतिम संस्कार सैनिक सम्मान के साथ संभवतया शनिवार शाम तक इनके पैतृक गांव में किया जाएगा। परिजनों के मुताबिक आखिरी बार मिश्रीलाल की बात गुरुवार को मोबाइल पर उनके भाई हंसराज से बात हुई थी। शुक्रवार को सीआरपीएफ में एएसआई के पद पर कार्यरत सेंक्शन कमाण्डर 8-10 जवानों को साथ श्रीनगर क्षेत्र के अच्छाबल अनन्तनाग में पहलगाम रोड पर गश्त कर रहे थे। इस दौरान इनके दल पर आतंकियों ने हमला कर दिया। हमले में मिश्री लाल मीणा के दो गोलियां लगी। एक गोली गर्दन पर व दूसरी गोली सीने पर लगी।

अमरनाथ यात्रा पूरी होते ही घर लौटने वाले थे संदीप

बानसूर(अलवर). जिले के बानसूर इलाके की ग्राम पंचायत हाजीपुर अंतर्गत ढाणी गुर्जरावाली निवासी एवं अनंतनाग जम्मू कश्मीर में सीआरपीएफ में कांस्टेबल के पद पर कार्यरत शहीद(26) संदीप पुत्र बनवारी लाल यादव का शव शनिवार को दोपहर तक उनके पैतृक गांव में पहुंचेगा। हाजीपुर सरपंच सुनीता सुरेला ने बताया शुक्रवार दोपहर डेढ बजे जम्मू कंट्रोल रूम से फोन पर सूचना मिली थी कि ढाणी गुर्जरावाली तन हाजीपुर निवासी संदीप अमरनाथ यात्रा में चैक पोस्ट पर डयूटी के दौरान सुबह 11 बजे गोली लगने से वह शहीद हो गया। शहीद संदीप 2011 में सीआरपीएफ में कांस्टेबल के पद पर भर्ती हुए थे। दो माह पहले गांव मे छुट्‌टी काटकार वापस ड्‌यूटी पर चले गए और यह कहकर गए थे कि अमरनाथ यात्रा समाप्त होते ही मैं जल्दी वापस घर आऊंगा। शहीद के परिवार में पिता बनवारी लाल यादव खेतीबाड़ी का कार्य करते हैं। माता कृष्णा देवी गृहिणी है। दो भाइयों में संदीप बड़ा है।

इधर, मौसम खराब होने से हवाईपट्टी तक नहीं पहुंची शहीद की पार्थिव देह

जयपुर/झालावाड़. शहीद मुकुट बिहारी मीणा का पार्थिव शरीर शुक्रवार शाम झालावाड़ नहीं पहुंच सका। शनिवार को जयपुर से सड़क मार्ग से पार्थिव देह लाई जाएगी। उसके बाद राजकीय सम्मान के साथ अंत्येष्टि होगी। शुक्रवार को पार्थिव देह लाने के दौरान कोलाना हवाईपट्टी से कुछ किमी दूरी पर मौसम खराब होने के चलते हेलिकॉप्टर आगे नहीं बढ़ सका। इसके चलते वापस जयपुर रवाना होना पड़ा।

राजमहल के सपूत सीआरपीएफ के सेक्शन कमांडर मिश्री लाल मीणा। राजमहल के सपूत सीआरपीएफ के सेक्शन कमांडर मिश्री लाल मीणा।
संदीप सिंह 2011 में सीआरपीएफ में कांस्टेबल पद पर भर्ती हुए थे। संदीप सिंह 2011 में सीआरपीएफ में कांस्टेबल पद पर भर्ती हुए थे।