Hindi News »Rajasthan »Balotra» अब गांवाई नालों में बजरी खनन का कार्य शुरू, दिन में खुलेआम हो रहा है अवैध खनन

अब गांवाई नालों में बजरी खनन का कार्य शुरू, दिन में खुलेआम हो रहा है अवैध खनन

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद जिले में बजरी का अवैध खनन कर परिवहन किया जा रहा है। कार्रवाई के अभाव में बेखौफ लोग...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 02:15 AM IST

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद जिले में बजरी का अवैध खनन कर परिवहन किया जा रहा है। कार्रवाई के अभाव में बेखौफ लोग अब दिनदहाड़े खनन कर बजरी का परिवहन कर रहे है। रोक के बाद बढ़ी मांग पर अब माफिया लूणी नदी के साथ नालों के बहाव क्षेत्र से खनन कर रहे हैं। खेड़, पचपदरा व कलावा सरहद में दिन में बड़े स्तर पर खनन कार्य हो रहा है। इससे वाकिफ होने के बावजूद प्रशासन, पुलिस व खनन विभाग कार्रवाई नहीं कर रहा है। बिना पर्यावरण अनुमति के हो रहे खनन पर सुप्रीम कोर्ट ने 16 नवंबर को प्रदेश में बजरी खनन पर रोक लगा दी है।

आदेश के शुरूआती दौर में तो एकबारगी खनन कार्य पूरी तरह से बंद हो गया था, लेकिन प्रशासन व खनन विभाग के लचर रवैये के चलते माफियाओं ने लूणी नदी में खनन शुरू कर दिया। अब तो यह आलम है कि रात में आस-पास के गांवों में जेसीबी मशीनें लगाकर जोर-शोर से खनन कार्य चल रहा है। वहीं दिन में भी खुलेआम खनन कर बजरी परिवहन कर रहे हैं। कार्रवाई के नाम पर खनन विभाग सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के बाद से ही मूकदर्शक रवैया अपनाए हुए है, इसी बेपरवाही के चलते हाल ही में खनन विभाग के एमई हरसुखराम विश्नोई को एपीओ किया था।

बालोतरा . खेड़ गांव के समीप नाले के बहाव क्षेत्र से बजरी भरते श्रमिक।

नालों के बहाव क्षेत्र में हो रहा खनन

लूणी नदी के बाद अब माफिया नदी-नालों के बहाव क्षेत्र में बजरी का खनन कर रहे हैं। खेड़, पचपदरा, कलावा, सांभरा क्षेत्र में स्थित नाले व जोजरी के बहाव क्षेत्र में दिन में भी बजरी का खनन हो रहा है। यहां से खनन कर माफिया जेरला, खेड़, तिलवाड़ा, औद्योगिक क्षेत्र सहित आस-पास के गांवों में सप्लाई करते हैं। बजरी के भरे वाहन दिन भर सड़कों पर भागते देखे जा सकते हैं, लेकिन कार्रवाई नहीं की जा रही है।

पुलिस कार्रवाई के बाद पहुंचता है खनन विभाग

क्षेत्र से होकर गुजर रही लूणी नदी में सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के बावजूद धड़ल्ले से हो रहे कार्य पर जिला कलक्टर के निर्देश व सख्ती अपनाने के बाद गत कुछ दिनों में समदड़ी व पचपदरा पुलिस ने गोल, दूदवा, जानियाना, रानीदेशीपुरा मार्ग सहित कई स्थानों पर कार्रवाई की। बजरी खनन बंद की ढाई माह की समयावधि में खनन विभाग ने स्वयं के स्तर पर न के बराबर ही कार्रवाई की। पुलिस की कार्रवाई के बाद खनन विभाग जुर्माना राशि वसूली के लिए जरूर पहुंचता है।

सिर्फ आम आदमी की जेब पर भार

लूणी नदी में बजरी खनन सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के बावजूद पहले के तर्ज पर ही हो रहा है। रोक के बाद दुगुने-तिगुने दामों पर बजरी बेचने से माफियाओं की चांदी बनी हुई है, जबकि आम आदमी की जेब पर अधिक भार पड़ रहा है। पूर्व में बजरी आसानी से उपलब्ध होने पर लोगों को कम दाम चुकाने पड़ते थे, लेकिन अब ज्यादा दाम चुकाकर खरीद करना मजबूरी बना हुआ है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Balotra

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×