• Home
  • Rajasthan News
  • Balotra News
  • होलिका दहन पर देखे शगुन, धुलंडी पर रंगों से सराबोर नजर आई सड़कें, ढूंढ़ोत्सव मनाया
--Advertisement--

होलिका दहन पर देखे शगुन, धुलंडी पर रंगों से सराबोर नजर आई सड़कें, ढूंढ़ोत्सव मनाया

भास्कर संवाददाता | बालोतरा (आंचलिक) होली का पर्व उपखंड मुख्यालय सहित कस्बों में धूमधाम से मनाया गया। होलिका दहन...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 02:20 AM IST
भास्कर संवाददाता | बालोतरा (आंचलिक)

होली का पर्व उपखंड मुख्यालय सहित कस्बों में धूमधाम से मनाया गया। होलिका दहन के बाद दूसरे दिन सुबह जमकर गुलाल होली खेली गई। धुलंडी पर कई परिवारों में ढूंढ़ महोत्सव का आयोजन हुआ। गांवों में कलाकाराें ने फाल्गुनी गीतों पर आंगी-बांगी गेर की प्रस्तुतियां दी। जगह-जगह पर्व की बधाइयां व दावतों का दौर जारी रहा। पुलिस थाने में शनिवार को जवानों ने जमकर होली खेली। होलिका दहन के दौरान ग्रामीण इलाकों में धान व गेंहूं की बालियां डालकर नई फसल के शगुन देखे गए। इसके दूसरे दिन शुक्रवार को धुलंडी पर्व पर अलसुबह से बच्चों के साथ बड़े भी होली खेलने में उत्साहित दिखे। एक-दूसरे के घर जाकर गुलाल व अबीर लगाकर होली की बधाइयां दी।

मायलावास . क्षेत्र के विभिन्न गांवों में रंगों का त्यौहार होली हर्षोल्लास से मनाया गया। गुरूवार को शाम मुहूर्त के अनुसार होलिका दहन किया गया। होलिका दहन के समय कई नवजात बच्चों को होली में ढूंढा गया। शुक्रवार को रंगोत्सव मनाया गया। लोगों ने एक-दूसरे को रंग लगाकर मुंह मीठा करवाकर पर्व मनाया। मायलावास, मोकलसर, मोतीसरा सहित कई गांवों में गेरियों ने गेर नृत्य किया।

रमणिया . क्षेत्र के रमणिया, काठाड़ी, भागवा, धरबला, तेलवाड़ा, धीरा, मांगी, जीनपुर, सैला, कुंडल सहित अन्य क्षेत्रों में धूमधाम से होली पर्व मनाया। गुरूवार रात्रि को होलिका दहन किया गया। धुलंडी के दिन नौनिहाल बालकों को होली के थान ले जाकर होली के चारों ओर फेरी लगाकर ढूंढ की रस्म निभाई गई। होली का थान सहित ग्राम के विभिन्न मंदिरों व रात्रि में आम चौहटों पर लूर नृत्य व गेर नृत्यों की प्रस्तुति दी गई।

पाटोदी . क्षेत्र में होली का पर्व उत्साह के साथ मनाया गया। दो दिवसीय होली पर्व पर पहले दिन होलिका दहन किया गया, तो धुलंडी के दिन लोग एक-दूसरे को बधाई देते नजर आए। टोलियां बनाकर कस्बे में भ्रमण किया गया। वहीं ढूंढ़ोत्सव भी मनाया गया। कई ग्रामीण इलाकों में गेर नृत्य का आयोजन हुआ।

कल्याणपुर . कस्बे के साथ ही घड़ोई चारणान, बागलोप, धर्मसर डोली, अराबा , गोदावास, सरवड़ी, देरिया में शांतिपूर्वक होलिका दहन किया गया। दूसरे दिन धुलंडी पर गुलाल व अबीर लगाकर बधाई दी। वहीं छोटे-छोटे बच्चों को ढूंढ कर उनके घरों में सभा कर बच्चों को आशीर्वाद दिया गया। अलग-अलग तरह से गेर नृत्य व फागण लूर का आनंद लिया गया। कल्याणपुर व्यवस्थापक खीमाराम चौधरी ने बताया कि मगरावटी व कोरणावटी क्षेत्र में यह सदियों से होली पर्व पर परंपरा चल रही है। इसमें जिन घरों में बच्चों को इस होली पर ढूंढा गया है, वहां पर उत्साह से परंपरा निभाई जाती है। गेरिए की ओर से नृत्य प्रस्तुति दी जाती है।

बालोतरा. धुलंडी के दिन गुलाल व अबीर से होली खेलते मौहल्ले के लोग।

बालोतरा. होलिका दहन में उमड़े लोग।

बालोतरा. गांधीपुरा मौहल्ले में फाल्गुनी गीतों पर लूर लेती महिलाएं।