क्रेडिट को-ऑपरेटिव ने लगाया बैंक का बोर्ड, ग्राहकों से कहा अब यह बैंक, आरबीआई से मिलने पर दे देंंगे आपके रुपए

Balotra News - बाड़मेर में क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटियों ने लुभावने वादों के साथ ग्राहक जोड़े और दिहाड़ी मजदूरी करने वाले ऐसे गरीब...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 06:26 AM IST
Balotra News - rajasthan news credit co operative put bank39s board told customers that now this bank will give your money on meeting rbi
बाड़मेर में क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटियों ने लुभावने वादों के साथ ग्राहक जोड़े और दिहाड़ी मजदूरी करने वाले ऐसे गरीब मजदूरों और किसानों को जाल में फंसाया जो रोज की कमाई से कुछ राशि बचत कर इन सोसायटियों में जमा करवा देते थे ताकि जरूरत पड़ने पर वो इस बचत की पूंजी को जरूरी काम के लिए खर्च कर सके। ये कहे कि बाड़मेर में पांच साल में क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटियों की बाढ़ सी आ गई।

2009 से 2014 तक 45 क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटियों ने उप रजिस्ट्रार समितियां बाड़मेर में रजिस्ट्रेशन करवा दिया। यह दौर भी ऐसा था कि बाड़मेर के हर क्षेत्र में बूम थी। तेल-गैस खोज से लेकर लिग्नाइट और पॉवर प्लांट, भूमि अधिग्रहण से किसानों और गरीबों के पास भी जमीन बिकने से करोड़ों रुपए आ गए। ये ही वजह है कि इन पांच साल में चार दर्जन क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटियां खुल गई। जब 2014 के बाद मंदी का दौर शुरू हुआ और क्रूड तेल के दाम 130 प्रति डॉलर से गिरने शुरू हुए तो इन क्रेडिट सोसायटियों पर भी असर आया। जनता की जमा पूंजी को लेकर कई सोसायटियों ने दफ्तरों पर ताले लगा दिए। हाल यह हुआ कि अब बाड़मेर में मात्र 2-3 गिनी चुनी क्रेडिट सोसायटियां ही अस्तित्व में है।

अब नाम बदलकर धोखाधड़ी शुरू, सहकारिता विभाग में सोसायटी रजिस्टर्ड, लिख दिया बैंक

स्वरूप क्रेडिट सोसायटी ने लिखा बैंक, पदाधिकारी कर रहे ग्राहकों को भ्रमित

शहर के अंबेडकर चौराहे के पास स्वरूप क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटी का कार्यालय है। कार्यालय उप रजिस्ट्रार समितियां बाड़मेर से बचत एवं साख समितियां से 19 अक्टूबर 2012 को स्वरूप क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटी का रजिस्ट्रेशन करवाया था। इसके रजिस्ट्रेशन नंबर 1587/सी है। सहकारी के रिकार्ड में यह क्रेडिट सोसायटी बंद है, लेकिन अभी भी मां संतोषी टॉवर में प्रधान कार्यालय चल रहा है। दिहाड़ी मजदूरी करने वाले सब्जी ठेला संचालक, सड़कों पर थड़ी लगाकर सामान बेचने वाले लोग, किराणा, मोबाइल व अन्य छोटे दुकानदार जिनकी रोज की कमाई में से कुछ बचत कर इस सोसायटी में जमा करवाई। जब दुगुने-तिगुने के लालच में लोगों ने रकम तो जमा करवा दी, लेकिन अब वापस देने का समय आया तो सोसायटी को बंद कर दिया। क्रेडिट सोसायटी की शाखा के बाहर बैंक का बोर्ड लगा दिया। बोर्ड पर ‘स्वरूप अरबन को-ऑपरेटिव बैंक लि.’ लिख दिया। ग्राहकों को भ्रमित किया जा रहा है कि अब सोसायटी बैंक बन गई है। बोर्ड लग गया है, आरबीआई से बैंक को लोन मिलने वाला है, जल्द ही निवेशकों के पैसे वापस लौटा देंगे। जब इस संबंध में रजिस्ट्रार समितियां ऑफिस में पता किया ताे पता चला कि एक क्रेडिट काे-अाॅपरेटिव सोसायटी के नाम के अागे बैंक लगा इस्तेमाल किया जा रहा है। जबकि काेई भी क्रेडिट सोसायटी बैंक के नाम का इस्तेमाल ही नहीं कर सकती है।

पांच साल में 45 सोसायटियों का रजिस्ट्रेशन

सबसे पहले 25 मई 2009 को मातेश्वरी क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटी ने रजिस्ट्रेशन करवाया। इसके बाद मारवाड़, नवदुर्गा, एवन, स्वराज, किसान, महालक्ष्मी, आईजी, बालोतरा, मेवाड़, विश्वकर्मा, साईनाथ, श्री, अमृत, शुभ निवेश, वसुंधरा, आशापुरी, ओमश्री कृपा, मरुधर, मयूर, दी थार, सत्यम, प्रभात, महावीर, महाद्वीप, श्री कृष्णा, हर सिद्धि, सिद्धि, एसएमबी, मां भवानी, एनश्री कृपा, आशापूर्णा, स्वरुप, विरात्रा, महाविजय, हितकारी, विसांत, कल्पना, अराधना, अष्ट विनायक, आशीर्वाद, संकल्प, विश्वास, महिपाल, नवोदय क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटी ने रजिस्ट्रेशन करवाया। 18 जुलाई 2014 के बाद उप रजिस्ट्रार कार्यालय में काेई क्रेडिट सोसायटी का रजिस्ट्रेशन नहीं हुआ है। रजिस्ट्रार की माने तो अभी भी 45 में से 12 क्रेडिट सोसायटी चालू है, जबकि 33 बंद है। संजीवनी क्रेडिट, नवजीवन, मारवाड़ अरबन ये तीनों मल्टीस्टेट सोसायटी है और इन्होंने भारत सरकार के कृषि मंत्रालय से रजिस्ट्रेशन करवा रखा है।

सोसायटी का बैंक लिखना गंभीर मामला


X
Balotra News - rajasthan news credit co operative put bank39s board told customers that now this bank will give your money on meeting rbi
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना