--Advertisement--

भांडेड़ा में आग से चार बीघा जंगल हुआ राख

Bandikui News - बांदीकुई | शहर से लगते हुए भांडेड़ा के जंगलों में धुलंडी के दिन शुक्रवार को अचानक आग लग गई। आग की लपटे इतनी तेज थी कि...

Dainik Bhaskar

Mar 04, 2018, 02:20 AM IST
भांडेड़ा में आग से चार बीघा जंगल हुआ राख
बांदीकुई | शहर से लगते हुए भांडेड़ा के जंगलों में धुलंडी के दिन शुक्रवार को अचानक आग लग गई। आग की लपटे इतनी तेज थी कि करीब चार बीघा जंगल जलकर राख हो गया। मौके पर पहुंचे वनकर्मियों ने ग्रामीणों की मदद से तीन घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया।

दोपहर दो बजे करीब जंगल में धुआं उठता देख आसपास के ग्रामीणों ने इसकी सूचना वन विभाग को दी। मौके पर पहुंचे फोरेस्टर हजारी सिंह व केटल गोर्ड बाबूलाल सैनी जंगल के अंदर गए तो वहां आग की लपटे दिखाई दी। दोनों ने पहले आग को बुझाने का प्रयास किया लेकिन लपटे तेज होने के कारण सफलता नहीं मिली। मौके पर आसपास के ग्रामीण भी एकत्रित हो गए। उन्होंने भी आग बुझाने का प्रयास किया लेकिन आग तेज होने से वे भी सफल नहीं हो पाए। वनकर्मी व ग्रामीण आग बुझाने का प्रयास कर रहे थे लेकिन बार बार तेज हवा चलने के कारण आग तेजी के साथ जंगल में फैलना शुरु हो गई। फोरेस्टर हजारी सिंह ने इसकी सूचना उच्चाधिकारियों को दी। इस दौरान फोरेस्टर आग बुझाने के प्रयास में ग्रामीणों के साथ जुटे रहे। करीब दो घंटे बाद मौके पर आए अन्य वनकर्मियों ने ग्रामीणों की सहायता से शाम पांच बजे आग पर काबू पाया।

वनविभाग के पास नहीं संसाधन

भांडेड़ा के जंगलों में आग लगने के बाद उसे बुझाने के लिए वन विभाग के पास कोई संसाधन नजर नहीं आए। इस दौरान वनकर्मी हाथों में पेडों की टहनियां व मिट्‌टी डालकर आग बुझाने में जुटे रहे। वनकर्मियों ने बताया कि जंगल में रास्ते ऊबड़ खाबड़ होने के कारण यहां दमकल भी नहीं पहुंच सकती है। ऐसे में दमकल को नहीं बुलाया गया।

6 दिन पहले भी लगी थी आग

वन क्षेत्र बांदीकुई के अधीन आने वाले जंगलों में आगजनी की घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही है। 25 फरवरी को वनविभाग कार्यालय के पीछे जंगलों में आग लग गई थी। इससे करीब 40 हैक्टर जंगल जलकर राख हो गया था। इसके बाद 2 मार्च को भांडेड़ा के जंगलों में आग लग गई।

लोग पटक जाते हैं बीड़ी

इस संबंध में फोरेस्टर हजारी सिंह ने बताया कि जंगल से गुजरने वाले लोग संभवतया यहां जलती हुई बीड़ी या सिगरेट पटक जाते हैं। इस समय जंगल सूखा होने से इसमें आग लग जाती है।

X
भांडेड़ा में आग से चार बीघा जंगल हुआ राख
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..