Hindi News »Rajasthan »Bandikui» चना खरीद नहीं होने से गुस्साए किसान, सरसों-गेहूं की तुलाई बंद कराई

चना खरीद नहीं होने से गुस्साए किसान, सरसों-गेहूं की तुलाई बंद कराई

कार्यालय संवाददाता | बांदीकुई सरकार द्वारा समर्थन मूल्य पर की जा रही कृषि जिंसों की खरीद में चने की खरीद में...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 01, 2018, 03:25 AM IST

चना खरीद नहीं होने से गुस्साए किसान, सरसों-गेहूं की तुलाई बंद कराई
कार्यालय संवाददाता | बांदीकुई

सरकार द्वारा समर्थन मूल्य पर की जा रही कृषि जिंसों की खरीद में चने की खरीद में प्रशासन द्वारा इंकार करने से सोमवार को गुस्साए किसानों ने यहां कृषि उपज मंडी में चल रही सरसों व गेहूं की तुलाई कार्य को कांटा घेरकर बंद करा दिया। इससे कर्मचारी तुलाई कार्य बंद कर इधर-उधर हो गए। बाद में मौके पर पहुंचे एसडीएम की समझाइश के बाद तुलाई कार्य शुरू हुआ।

कृषि उपज मंडी में क्रय-विक्रय सहकारी समिति के माध्यम से 2 अप्रैल से गेहूं, चना व सरसों की समर्थन मूल्य पर खरीद की जा रही है। इसके लिए सरकार ने गेहूं के लिए 1735, चना के लिए 4400 तथा सरसों के लिए 4000 रुपए क्विंटल के दर से समर्थन मूल्य तय कर रखा है। इसे लेकर सोमवार को चना लेकर पहुंचे किसानों के चने यहां नहीं तुलने से गुस्साए किसान अन्य जिंस तुलाई का कांटा घेरकर खड़े हो गए तथा यहां चल रही गेहूं व सरसों की तुलाई बंद करवा दी। इससे कांटे पर कार्य नहीं हुआ।

एसडीएम पहुंचे मौके पर

बाद में मौके पर पहुंचे एसडीएम सीएल मीना ने मंडी समिति कार्यालय में किसानों की समस्या सुनकर अधिकारियों से वार्ता कर किसानों को चने की खरीद शुरू कराने का आश्वासन दिया। इसके बाद अन्य जिंसों की खरीद शुरु हुई। दो बजे यहां चने की खरीद भी शुरू की गई।

किसानों को मैसेज देकर बुलाने के बाद भी खरीद नहीं करने से गुस्साए किसान, एसडीएम की समझाइश पर माने

बांदीकुई. समर्थन मूल्य खरीद केंद्र पर चने की खरीद नहीं होने का विरोध कर रहे किसानों को समझाते एसडीएम।

सेंपल होते हैं फेल : क्रय-विक्रय सहकारी समिति के प्रभारी लक्ष्मीकांत गुप्ता ने बताया कि चने के सैंपल बार-बार फेल होने से हमें परेशानी हो रही थी। इसलिए हमने चने की खरीद रोकी थी, लेकिन अधिकारियों के निर्देश के बाद हमने चने की भी खरीद शुरू कर दी।

मैसेज देकर बुलाया था किसानों को : यहां चने लेकर पहुंचे किसानों ने बताया कि उनके द्वारा ऑनलाइन आवेदन करने के बाद उनके मोबाइल पर गए मैसेज में सोमवार की तिथि दी गई थी। मैसेज में मिली तिथि के हिसाब से वे अपना माल लेकर कृषि उपज मंडी पहुंच गए तथा मंडी गेट पर पास भी बनवा लिया, लेकिन क्रय-विक्रय सहकारी समिति के कर्मचारी चने की खरीद के लिए इंकार कर रहे हैं। इससे उनका गुस्सा फूट पड़ा।

इधर-उधर हो गए कर्मचारी : किसानों ने मंडी में क्रय-विक्रय सहकारी समिति द्वारा चने की खरीद नहीं करने पर तुलाई कार्य बंद कराई तथा आक्रोश जताया तो यहां मौजूद समिति के कर्मचारी इधर-उधर हो गए। मौके पर कोई कर्मचारी नहीं मिला।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bandikui

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×