--Advertisement--

2 अप्रैल को बंद को लेकर जिलेभर में बैठक

बानसूर | एससी/एसटी अत्याचार निवारण अधिनियम को हटाने के विरोध में 2 अप्रैल को भारत बंद के आह्वान पर बानसूर बंद को सफल...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 02:20 AM IST
बानसूर | एससी/एसटी अत्याचार निवारण अधिनियम को हटाने के विरोध में 2 अप्रैल को भारत बंद के आह्वान पर बानसूर बंद को सफल बनाने के लिए एससी/एसटी समाज द्वारा बैठक का आयोजन किया गया तथा बानसूर कस्बे में व्यापारियों व दुकानदारों से मिलकर भारत बंद में सहयोग की अपील की गई। साथ ही 2 अप्रैल को बानसूर बंद हेतु बानसूर संघर्ष समिति का गठन किया गया। जिसमें सर्वसम्मति से सरपंच संघ अध्यक्ष मोतीलाल मीणा को संघर्ष समिति अध्यक्ष मनोनीत किया गया।

नारायणपुर : 2 अप्रैल को भारत बंद के साथ नारायणपुर बंद को लेकर संघर्ष समिति द्वारा एससी- एसटी समुदाय के लोगों को पीले चावल बांटे गए। कस्बा स्थित रामदेव महाराज के मंदिर पर एससी- एसटी समाज के लोगों की बैठक हुई।

राजगढ़ : कस्बे के गंगा बाग में एससी, एसटी अधिकार मंच की बैठक आयोजित हुई। बैठक में 2 अप्रैल को भारत बंद के तहत राजगढ़ बंद का आह्वान किया। इस मौके पर अमरसिंह वर्मा, दुलीचंद मीना, सुंदरलाल बैरवा, प्रवीण बैरवा आदि मौजूद रहे।

कठूमर : कस्बे के अंबेडकर पार्क में संविधान बचाओ संघर्ष समिति की बैठक आयोजित की गई। जिसमें शेरसिंह मीना को अध्यक्ष चुना गया। अध्यक्ष ने बताया दो अप्रेल को भारत बंद के तहत कठूमर कस्बा बंद कराने का निर्णय लिया गया। बैठक में महेंद्र मसारी, शैतान गोडवाल, प्रकाश कोली, झम्मन जाटव ने अपने विचार व्यक्त किए।

हरसौली : कस्बे की मेघवाल धर्मशाला मे जनजाति संघर्ष समिति की बैठक समिति अध्यक्ष रामशरण बाबूजी की अध्यक्षता मे आयोजित हुई। इस दौरान हरिसिंह, ताराचंद, पूर्ण मल, नेकीराम, घासीराम, रवींद्र, चेलाराम, मुकेश मीना सहित अनेक लोग मौजूद थे।

लक्ष्मणगढ़ : राजस्थान आदिवासी जनजाति समिति के प्रदेशाध्यक्ष सुरेश मीणा टोडा की अध्यक्षता में एक बैठक शनिवार को टोडा में आयोजित की गई। बैठक में 2 अप्रेल 2018 को भारत बंद के दौरान सभी संस्थाओं एवं संगठनों से सहयोग करने की अपील की है।

नौगांवा. कस्बे में दलित समाज की बैठक का आयोजन हुआ। बैठक में 2 अप्रैल को कस्बा में सर्व दलित समाज द्वारा रैली निकाली जाएगी। रैली उपरांत रामगढ़ एसडीएम को ज्ञापन सौंपा जाएगा। बैठक में खेमचंद हवलदार, भीम सेना अध्यक्ष नवल सिंह, हरिसिंह, जितेन्द्र सांवरिया, नेतराम एवं अध्यापक मंगतूराम सहित समाज के अन्य लोग उपस्थित थे।