--Advertisement--

मौसमी बीमारियों के मामले में बांसवाड़ा की स्थिति

1. मौसमी बीमािरयों में बांसवाड़ा की स्थिति अभी सामान्य है। 2. अितरिक्त मुख्य सचिव ने स्वास्थ्य दल आपके द्वार...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 04:20 AM IST
1. मौसमी बीमािरयों में बांसवाड़ा की स्थिति अभी सामान्य है।

2. अितरिक्त मुख्य सचिव ने स्वास्थ्य दल आपके द्वार अभियान चलवाया।

3. मौसमी बीमारी के सर्वे में 8 ब्लॉक से 3000 सैंपल लिए गए।

मलेरिया के लक्षण

रोगी को सर्दी और सिरदर्द के साथ बुखार आने लगता है। इसमें बुखार कभी कम और कभी ज्यादा हो जाता है। गंभीर मामलों में रोगी कोमा में चला जाता है। यह रोग मादा ऐनाफिलीज मच्छर के काटने से होता है। इधर, डायरिया का शरीर पर असर होने से पाचन तंत्र बिगड़ जाता है।

एक्सपर्ट व्यू : अधिक पानी का सेवन करें


3 माह में 755 मरीज उल्टी-दस्त के आए

बांसवाड़ा में मौसमी बीमारियों का असर फिलहाल ज्यादा नहीं दिख रहा है। इसलिए थोड़ी राहत है। जनवरी से मार्च तक की बात की जाए तो यहां मौसमी बीमारियों में महज मलेरिया के 8 मरीज सामने आए हैं। स्वाइन फ्लू के 4 सेंपल लिए लेकिन सभी नेगेटिव रहे। 3 माह में 755 मरीज उल्टी-दस्त के आए हैंं।

मलेरिया

08 मरीज पॉजिटिव

755 मरीज डायरिया के मिले।


चिकनगुनिया

00 मरीज पॉजिटिव

बचाव

कूलर और छत पर रखे बर्तनों को एक हफ्ते में साफ करें। खिड़कियों व दरवाजों पर पतली जाली लगाकर मच्छर आने से रोकें। रात को सोते समय शरीर को ढक कर सोयें।

स्क्रब टाइफस

00 मरीज