• Home
  • Rajasthan News
  • Banswara News
  • परीक्षा सिस्टम में बदलाव, उत्तरपुस्तिका का नहीं कटेगा प्लेप
--Advertisement--

परीक्षा सिस्टम में बदलाव, उत्तरपुस्तिका का नहीं कटेगा प्लेप

परीक्षा सिस्टम में बदलाव, उत्तरपुस्तिका का नहीं कटेगा प्लेप भास्कर संवाददाता | बांसवाड़ा गोविंद गुरु...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 07:30 AM IST
परीक्षा सिस्टम में बदलाव, उत्तरपुस्तिका का नहीं कटेगा प्लेप

भास्कर संवाददाता | बांसवाड़ा

गोविंद गुरु जनजातीय विश्वविद्यालय की ओर से पहली दफा अपने अधीन 110 कॉलेजों के सोमवार से शुरू किए जा रहे इम्तिहान के बंदोबस्त में गोपनीयता की दृष्टि से खास बदलाव किया गया है। इसमें परीक्षा के दौरान केंद्रों पर उत्तपुस्तिकाओं का फ्लेप अलग नहीं होगा और कॉपियां विश्वविद्यालय पहुंचने के बाद गोपनीय शाखा में खास कोड डाला जाएगा।

दरअसल, सुखाड़िया विश्वविद्यालय की परीक्षाओं के दौरान अब तक यही व्यवस्था रही कि उत्तरपुस्तिकाओं पर सबसे पहले फ्लेप पर रोलनंबर समेत अपने संबंधित डिटेल विद्यार्थी लिखते थे, जिसे केंद्र पर गोपनीयता की दृष्टि से अलग किया जाता था, जिससे परीक्षक तक पहुंचने पर यह मालूम नहीं पड़े कि अमूक कॉपी किस विद्यार्थी की है।

गोविंद गुरु विश्वविद्यालय ने इस पर भी नया प्रयोग किया है, जिसमें परीक्षा केंद्रों से कॉपियां ज्यों की त्यों विश्वविद्यालय आएंगी। यहां गोपनीय शाखा में कॉपियों पर बदलाव होगा और उससे पहले गोपनीय कोड डाले जाएंगे। उसके बाद कॉपियां जांचने के लिए भेजी जाएंगी, जिससे परीक्षक को कुछ पता नहीं चलेगा।

आखिरी एक घंटे तक मिलेगा हार्ड कॉपी जमा करवाकर रोल नंबर हासिल करने का मौका : विश्वविद्यालय ने परीक्षा के लिए प्रवेश पत्र ऑनलाइन उपलब्ध करवा दिए हैं, जिससे छात्र आसानी से हासिल कर सकते हैं। 600 से ज्यादा ऐसे छात्र बच गए हैं, जिन्होंने ऑनलाइन आवेदन के बाद हार्ड कॉपी जमा नहीं करवाई है।

इन विद्यार्थियों के पास सोमवार को इम्तिहान शुरू होने से घंटेभर पहले तक भी अवसर रहेगा कि वे विश्वविद्यालय में आवेदन की हार्ड कॉपी जमा करवाकर रोलनंबर हासिल कर लें। दरअसल, इनके आवेदनों का सत्यापन ही नहीं हो पाया है कि किस कॉलेज से आवेदन किया। ऐसे में इन्हें रोल नंबर आवंटित नहीं किए गए हैं।

गोविंद गुरु जनजातीय विश्वविद्यालय ने गोपनीयता की दृष्टि से किया नया प्रयोग

70 में से 14 केंद्रों पर लगाए अलग से ऑब्जर्वर

विश्वविद्यालय ने बांसवाड़ा, डूंगरपुर और प्रतापगढ़ तीनों जिलों के लिए अलग-अलग उड़नदस्ते गठित किए हैं, जो इम्तिहान के दौरान अचानक केंद्रों का मुआयना करंगे। परीक्षा नियंत्रक डॉ. नरेंद्र पानेरी के अनुसार विश्वविद्यालय ने तकरीबन सभी पुराने परीक्षा केंद्र बदल दिए हैं, फिर भी 14 केंद्र ऐसे हैं, जहां उसी कॉलेज के विद्यार्थी इम्तिहान देंगे। ऐसे में इन कॉलेजों के लिए खास ऑब्जर्वर लगाए गए हैं। गौरतलब है कि सोमवार से तीनों जिलों में 65 स्नातक स्तर के और 5 स्नातकोत्तर स्तर के कॉलेजों में विश्वविद्यालय की ओर से परीक्षाओं का आयोजन किया जा रहा है। इसमें स्नातक के 33 हजार और स्नातकोत्तर के करीब 8 हजार छात्र-छात्राएं परीक्षा देंगे।