बांसवाड़ा

--Advertisement--

3 साल पहले सिपाही को गोली मारकर भागे 2 आरोपियों को 12 साल की कैद

चोरी करने आए बदमाशों के चारों ओर से घिर जाने से सिपाही पर गोली चलाकर फरार होने के 34 महीने पुराने चर्चित केस में अपर...

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 03:30 AM IST
चोरी करने आए बदमाशों के चारों ओर से घिर जाने से सिपाही पर गोली चलाकर फरार होने के 34 महीने पुराने चर्चित केस में अपर जिला एवं सेशन कोर्ट ने सोमवार को फैसला सुनाया। कोर्ट ने 2 आरोपियों गुजरात के अरवल्ली ढूंढा गांव का भाती पुत्र जीवा डामोर और उत्तर प्रदेश के औरेखी क्षेत्र का रामजी उर्फ रामसिंह पुत्र रामलखन कांची कछवाहा को दोषी मानते हुए 12 साल कठोर कारावास और 12 हजार जुर्माने की सजा सुनाई। आरोपी रामसिंह खुद को सरपंच भी बता चुका है। मामले में एक आरोपी की पहले ही मौत हो चुकी है जबकि एक को संदेह का लाभ होने पर बरी किया गया। इस घटनाक्रम में पड़ोसी ने ही साजिश रचकर चोरी करवाई थी लेकिन एनवक्त पर पुलिस आने पर चोरों और पुलिस में मुठभेड़ हुई। इस दौरान गोली लगने से एक सिपाही घायल हो गया था। जिसे बाद में पुलिस विभाग ने गैलेंट्री अवार्ड से नवाजा था। अरथूना के बुजुर्ग जीतमल सोनी चांदी के जेवर बनाने का काम करते है। उनके दो बेटे है। घटना 21 जून, 2015 की रात 1 बजे की है। एक बेटा परतापुर में था और दूसरा हरिद्वार यात्रा पर गया था। रात को चोर मकान में घुस आए। खड़खड़ाहट की आवाज से जीतमल की नींद खुली गई। शक हुआ तो जीतमल ने पड़ोसियों को बुलाया। इसी बीच गश्त कर रहे हैड कांस्टेबल गजराजसिंह और कांस्टेबल अमृतलाल जीप लेकर आए। चोरों के छत पर छिपे होने की शंका पर पुलिस टॉर्च लेकर तलाशने ऊपर गई। टॉर्च की रोशनी में पड़ोसी रमणलाल सोनी की छत पर दो चोर छिपे नजर आए। हैड कांस्टेबल गजराजसिंह ने जैसे ही टॉर्च चोरों की तरफ घुमाई, तो उनमें से एक ने फायरिंग कर दी। जिससे गोली लगने से सिपाही अमृतलाल जख्मी हो गया। लेकिन हड़बड़ाहट में बदमाश एक बाइक मौके पर छोड़ गए। जिससे पुलिस को इनका सुराग हाथ लगा।

X
Click to listen..