--Advertisement--

सबसे बड़ा गुरु है ग्रंथ- शैलेश भाई

बांसवाड़ा| श्री राधा कृष्ण शंख मंदिर का सप्तम पाटोत्सव के प्रथम दिवस पर मंगलाचरण और भागवत पर व्याख्यान करते हुए...

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 03:30 AM IST
सबसे बड़ा गुरु है ग्रंथ- शैलेश भाई
बांसवाड़ा| श्री राधा कृष्ण शंख मंदिर का सप्तम पाटोत्सव के प्रथम दिवस पर मंगलाचरण और भागवत पर व्याख्यान करते हुए शास्त्री शैलेश भाई महाराज ने बताया कि भगवान का जो 92 स्वरुप है, वह श्रीमदभागवत है। श्रीमद्भागवत क्या है और भगवत प्राप्ति कैसे हो इसकी चर्चा स्कंद पुराण में महत्व के रूप में की गई जिसमें प्रधान दो कथाएं हैं । समिति के प्रवक्ता राजेश भावसार ने बताया कि आज के मुख्य यजमान पौथी पूजन ,पोथी यात्रा, और आरती के मातोश्री कमला देवी देवारा, महेंद्र कुमार सरोज देवी देवारा, महेश संगीता, कृष्णकांत ललिता देवारा, जयेश प्रीति देवारा, मिलन ,प्रतीक, इशिता ,हिमानी प्रीतेश, सेजल, मोहित आदि रहे। कथा के प्रथम दिन समिति के सभी सदस्यों द्वारा महाराज का स्वागत और अभिनंदन किया गया। अनुष्ठान शास्त्री पंडित नवनीत पंड्या के आचार्यत्व में होंगे। भागवत कथा का आयोजन 6 मई को शाम 4:00 से 8:00 बजे तक रहेगा।

X
सबसे बड़ा गुरु है ग्रंथ- शैलेश भाई
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..