Hindi News »Rajasthan »Banswara» सीएम प्रतापगढ़ में, नहीं मिलने दिया लोगों को

सीएम प्रतापगढ़ में, नहीं मिलने दिया लोगों को

मुख्यमंत्री वसुंधराराजे सोमवार को अल्प प्रवास पर दोपहर 12.15 बजे प्रतापगढ़ पहुंची। यहां अंबामाता में तैयार किए गए...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 17, 2018, 06:50 AM IST

मुख्यमंत्री वसुंधराराजे सोमवार को अल्प प्रवास पर दोपहर 12.15 बजे प्रतापगढ़ पहुंची। यहां अंबामाता में तैयार किए गए अस्थायी हेलीपेड से जनजाति क्षेत्रीय विकास मंत्री नंदलाल मीणा के पैतृक निवास पर पहुंचकर शोक संतप्त परिवारजनों को सांत्वना दी। इसके बाद मुख्यमंत्री ने मंत्री मीणा की प|ी और पूर्व चित्तौड़गढ़ जिला प्रमुख सुमित्रा मीणा की तस्वीर पर पुष्पाजंलि अर्पित की। इस मौके पर मुख्यमंत्री राजे ने जनजाति क्षेत्रीय विकास मंत्री नंदलाल मीणा की पुत्रवधु जिला प्रमुख सारिका मीणा, पुत्र जिला परिषद सदस्य हेमंत मीणा से बातचीत की। यहां कुछ देर रुकने के बाद मुख्यमंत्री 12.40 बजे हेलिकॉप्टर से निंबाहेड़ा के लिए रवाना हो गई।

ज्ञापन देने वालों को पुलिस ने मुख्यमंत्री के पास भी नहीं फटकने दिया

प्रतापगढ़ विधायक और जनजाति क्षेत्रीय विकास मंत्री नंदलाल मीणा की प|ी के निधन के बाद सोमवार को शोक संवेदना व्यक्त करने पहुंची मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे महज 30 मिनिट में ही रवाना हो गई। मुख्यमंत्री की यात्रा को लेकर प्रशासनिक अमला पिछले तीन दिन से तैयारियों में लगा था। शनिवार और रविवार के अवकाश के बाद भी कई सरकारी कार्यालयों में आमदिनों की तरह कार्य चला। वहीं मुख्यमंत्री के प्रतापगढ़ पहुंचने को लेकर कई संगठनों के पदाधिकारी अपनी समस्याओं का ज्ञापन देने अंबामाता पहुंचे थे, लेकिन पुलिस और प्रशासनिक अमले ने उन्हें सीएम के पास भी नहीं फटकने दिया। प्रशासनिक अमले ने मुख्यमंत्री के प्रतापगढ़ दौरे को लेकर उनके स्वागत की तैयारियां की थी, लेकिन आधे घंटे के लिए प्रतापगढ़ आई मुख्यमंत्री जिले का हाल जाने बिना ही रवाना हो गई।

प्रतापगढ़. मंत्री नंदलाल मीणा के पैतृृक निवास पर परिवारजनाें को सांत्वना देती मुख्यमंत्री वसुंधराराजे।

शहर कोतवाल भी नहीं रहे पीछे

प्रतापगढ़ शहर कोतवाल बाबूलाल मुरारिया भी मुख्यमंत्री की सुरक्षा व्यवस्था में हेलीपेड के पास तैनात थे। इस दौरान वे भी प्रशासनिक अधिकारियों, मीडियाकर्मियों को भी सीएम के पास नहीं जाने दिया गया। इस दौरान नगर परिषद आयुक्त को भी एक बार रोक दिया गया। बाद में एक पुलिसकर्मी के उनका परिचय देने पर उन्हें अंदर जाने दिया गया। यहां तक मीडिया को भी सीएम तक नहीं जाने दिया गया। मुख्यमंत्री की सुरक्षा के लिए एसपी शिवराज मीना, एएसपी रतनलाल भार्गव, डीएसपी प्रतापगढ़ शैतान सिंह, पीपलखूंट जगराम मीना सहित 3 इंस्पेक्टर, 8 सब इंस्पेक्टर व 150 पुलिस के जवान तैनात किए गए।

ज्ञापन देना हो तो निंबाहेड़ा जाएं : थानाधिकारी मुरारिया

गमी के माहौल को देखते हुए मुख्यमंत्री को गार्ड ऑफ आॅनर भी नहीं दिया गया। इसके साथ ही स्वागत भी नहीं किया गया। ज्ञापन के लिए सभी को निंबाहेड़ा जाने के लिए कहा गया। बाबूलाल मुरारिया, थानाधिकारी, प्रतापगढ़

महिला रोती रही, पुलिस ने नहीं मिलने दिया सीएम से

प्रतापगढ़. मुख्यमंत्री को ज्ञापन नहीं दे पाने पर रोती महिला।

मुख्यमंत्री के दौरे को लेकर कई लोग, संगठनों के कार्यकर्ता ज्ञापन देने के लिए अंबामाता पहुंचे। यहां मुख्यमंत्री की सुरक्षा में लगे पुलिस अधिकारी और कर्मचारियों को इस बारे में पता चला तो उन्हें मुख्यमंत्री के यात्रा-मार्ग से दूर कर दिया। ज्ञापन देने पहुंचे राजस्थान राज्य पूर्व प्राथमिक शिक्षक संघ की तीन महिला सदस्यों के पुलिस के आला अधिकारी को मुख्यमंत्री को ज्ञापन देने की बात कहने पर पुलिस के आला अधिकारी ने उन्हें निंबाहेड़ा जाकर ज्ञापन देने की बात कही। इसके बाद एक महिला कांस्टेबल को उनके पास तैनात कर उन पर नजर रखने के निर्देश दिए। इस दौरान एक और महिला अपनी समस्या को लेकर पहुंची, लेकिन वहां मौजूद महिला पुलिसकर्मी ने उसे रोक दिया। इस दौरान महिला काफी देर तक रोती रही, लेकिन वहां मौजूद किसी भी अधिकारी ने उसकी समस्या मुख्यमंत्री तक नहीं पहुंचने दी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Banswara

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×