Hindi News »Rajasthan »Banswara» मंत्री की घोषणा के दो साल बाद भी नहीं बढ़ी बैड की संख्या

मंत्री की घोषणा के दो साल बाद भी नहीं बढ़ी बैड की संख्या

जिले के सबसे बड़े उपखंड मुख्यालय के जयचंद्र मोहिल रेफरल चिकित्सालय में सुविधाओं की कमी और विशेषज्ञों के अभाव में...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 18, 2018, 06:25 AM IST

  • मंत्री की घोषणा के दो साल बाद भी नहीं बढ़ी बैड की संख्या
    +2और स्लाइड देखें
    जिले के सबसे बड़े उपखंड मुख्यालय के जयचंद्र मोहिल रेफरल चिकित्सालय में सुविधाओं की कमी और विशेषज्ञों के अभाव में मरीज आए दिन रैफर हो रहे हैं। क्षेत्र के लोगों ने कई बार इस अस्पताल में बेड की संख्या और विशेषज्ञ चिकित्सक लगाने की मांग को लेकर मंत्रियों को ज्ञापन भी दिए। तत्कालीन चिकित्सा मंत्री राजेंद्र सिंह राठौड़ ने दो साल पूर्व इस अस्पताल में बैड की संख्या बढ़ाने की घोषणा भी की थी, लेकिन आज भी स्थिति जस की तस बनी हुई है। जिसका खमियाजा इस क्षेत्र के लोगों को भुगतना पड़ रहा है।

    छोटीसादड़ी के रैफरल अस्पताल में एक साल में डेढ़ लाख से अधिक मरीज अपना इलाज कराने आते हैं, लेकिन उनके चेहरे पर उस वक्त मायूसी छा जाती है, जब डॉक्टर उन्हें बीमारी का इलाज यहां नहीं होने की बात कहकर अन्यत्र अस्पताल में उपचार कराने की सलाह देते हैं। रात के समय तो यह चिकित्सालय राम भरोसे ही रहता है। रात में अगर गंभीर रोगी या हादसे में घायल यहां पहुंच जाता है, तो उसको डाक्टर के आने का इंतजार करना पड़ता है। डॉक्टर अगर पहुंच भी जाए तो घटना, दुर्घटना में घायल को यहां केवल प्राथमिक उपचार देकर रैफर कर दिया जाता है। वर्तमान में यह चिकित्सालय 30 बैड का है। यहां प्रतिदिन विभिन्न रोगों के निवारण के लिए 500 से ज्यादा मरीज आते हैं। साथ ही 150 से ज्यादा प्रसव भी होते हैं। मरीजों को यहां एनबीएसयू, एमटीसी, टेलीमेडिसीन, भामाशाह योजना का लाभ तो मिल रहा है, लेकिन यहां विशेषज्ञों की सेवाएं नहीं होने से घटना, दुर्घटना और अन्य गंभीर रोग के मरीजों को प्रतापगढ़, चितौडग़ढ़, उदयपुर या अन्य जगहों पर रैफर किया जाता है। जिससे उनको शारीरिक, आर्थिक और मानसिक परेशानी भी उठानी पड़ती है।

    छोटीसादड़ी. सरकारी अस्पताल में मरीजों से भरे हुए बैड।

    लंबे समय से हो रही मांग :पिछले वर्षों में क्षेत्र में हुए विभिन्न हादसों और घटनाओं के बाद नगर सहित क्षेत्र के लोगों ने चिकित्सालय में सुविधाओं को बढ़ाने, विशेषज्ञों को लगाने और इस चिकित्सालय को रेफरल चिकित्सालय से सेटेलाइट चिकित्सालय में बदलने की मांग की जा रही है। इस समस्या के निदान के लिये कई बार लोगों ने उच्चाधिकारियों और जनप्रतिनिधियों को भी ज्ञापन दिए, लेकिन अभी तक इस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई।

    मंत्री राठौड़ ने भी की थी घोषणा

    रेफरल अस्पताल में 18 दिसंबर 2015 को सोनोग्राफी मशीन और अन्य कार्यों का लोकार्पण करने पहुंचे तत्कालीन चिकित्सा मंत्री राजेंद्र राठौड़ ने लोगों की ओर से सौंपे गए विभिन्न ज्ञापनों के बाद अप्रैल 2016 तक इस चिकित्सालय को निंबाहेड़ा छोटीसादड़ी विधायक और वर्तमान में यूडीएच मंत्री श्रीचंद कृपलानी के सहयोग से सौ बैड का करवाने की घोषणा की थी, लेकिन दो साल गुजर जाने के बाद भी अभी तक यह पचास बेड का अस्पताल भी नहीं बन पाया है।

    वर्तमान में ये चिकित्सक दे रहे हैं सेवाएं

    चिकित्सालय में स्त्री रोग विशेषज्ञ, दंत चिकित्सक, वरिष्ठ सर्जन एवं मेडिसिन के वरिष्ठ चिकित्सक और चिकित्सक सेवाएं दे रहे हैं। यहां कोई पद रिक्त नहीं है। इसके अलावा 3 एएनएम, 4 नर्सिंग स्टॉफ, 2 प्रयोगशाला सहायक कार्यरत है। एक्सरे का पद रिक्त है। अगर सरकार इसको 50 बैड का चिकित्सालय क्रमोन्नत करती है, तो 4 एएनएम, 6 जीएनएम और अन्य स्टॉफ की पूर्ति हो जाएगी। इससे मरीजों को अन्य रैफर नहीं करना पड़ेगा।

    चार सौ से ज्यादा मरीज हुए रेफर :चिकित्सालय में एक साल के आंकड़ों पर नजर डाले तो एक साल में यहां विभिन्न रोगों और दुर्घटनाओं में चार हजार छह रोगी उपचार कराने पहुंचे थे। विशेषज्ञों के अभाव में वर्तमान में कार्यरत चिकित्सकों ने चार सौ ग्यारह मरीजों को अन्यत्र रैफर कर दिया। इनमें से कई मरीजों ने तो यहां से रैफर होने के बाद रास्ते में ही दम तोड़ दिया।

    सरकार ने विकास ही ओर ध्यान नहीं दिया

    छोटीसादड़ी क्षेत्र की प्रमुख आवश्यकता स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को 100 बिस्तरों का बना कर सेटेलाइट का दर्जा दिलाने को लेकर स्थानीय विधायक और राजस्थान सरकार के यूडीएच मंत्री उदासीन है। सरकार और विधायक ने छोटीसादड़ी के विकास की ओर ध्यान नहीं दिया है। केवल झूठी घोषणाएं कर स्वागत सत्कार करवाने में समय व्यतीत किया। क्षेत्र की मूलभूत और जन महत्व की आवश्यकताएं जस की तस हैं। ओमप्रकाश शर्मा, नगर कांग्रेस अध्यक्ष, छोटीसादड़ी

    छोटीसादड़ी चिकित्सालय रेफरल से 50 बैड में क्रमोन्नत हो जाता है तो इस क्षेत्र के लोगों को यहीं पर बेहतर इलाज मुहैया हो पाएगा। इससे विशेषज्ञ चिकित्सक उपलब्ध रहेगा। घायलों और मरीजों को अन्यत्र रैफर नहीं होना पड़ेगा। सुभाष पाटीदार, नगरवासी,

    मैंने क्षेत्र में करोड़ों के विकास के कार्य करवाए हैं। आप यह बात जानकारी में लाए हैं। चिकित्सा मंत्री से बात कर शीघ्र ही इसे 50 बैड में क्रमोन्नत करवाने का प्रयास किया जाएगा। श्रीचंद कृपलानी, यूडीएच मंत्री

    छोटीसादड़ी चिकित्सालय को 50 बैड में क्रमोन्नत करने को लेकर प्रस्ताव बनाकर आगे भेजा है। अभी स्वीकृति नहीं मिल पाई है। इसके लिए सरकार को फिर से अवगत कराया जाएगा। दिनेशचंद्र खराड़ी, सीएमएचओ, प्रतापगढ़

    एक साल का आउटडोर आंकड़ा

    अप्रैल 2017 में 421 भर्ती, 39 रैफर

    मई में 407 रैफर 40

    जून में 209 रैफर 41

    जुलाई में 250 रैफर 22

    अगस्त में 450 रैफर 40

    सितंबर में 382 रैफर 33

    अक्टूबर में 326 रैफर 43

    नवंबर में 219 रैफर 34

    दिसंबर में 211 रैफर 34

    जनवरी 2018 में 233 रैफर 30

    फरवरी में 340 रैफर 26

    मार्च में 468 रैफर 29

    प्रसूती ग्रह का यह है आंकड़ा

    मई में 109 रैफर 7

    जून में 103 रैफर 5

    जुलाई 95 रैफर 3

    अगस्त 128 रैफर 4

    सितंबर 99 रैफर 03

    अक्टूबर में 121 रैफर 5

    नवंबर 113 रैफर 3

    दिसंबर 103 रैफर 2

    जनवरी 2018,118 रैफर 3

    फरवरी 82 रैफर 2

    मार्च में 91 रेफर 1

    अप्रैल 00 रैफर 81 2

  • मंत्री की घोषणा के दो साल बाद भी नहीं बढ़ी बैड की संख्या
    +2और स्लाइड देखें
  • मंत्री की घोषणा के दो साल बाद भी नहीं बढ़ी बैड की संख्या
    +2और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
India Result 2018: Check BSEB 10th Result, BSEB 12th Result, RBSE 10th Result, RBSE 12th Result, UK Board 10th Result, UK Board 12th Result, JAC 10th Result, JAC 12th Result, CBSE 10th Result, CBSE 12th Result, Maharashtra Board SSC Result and Maharashtra Board HSC Result Online

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Banswara News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: मंत्री की घोषणा के दो साल बाद भी नहीं बढ़ी बैड की संख्या
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Banswara

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×