2015 में हार के बाद इंग्लैंड ने पिच को 20 हिस्सों में बांटकर नई रणनीति बनाई

Banswara News - क्रिकेट वर्ल्ड कप-2019 के खिताबी मुकाबले में रविवार को इंग्लैंड और न्यूजीलैंड की टीमें आमने-सामने होंगी। 2015 वर्ल्ड...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 09:50 AM IST
Mor News - rajasthan news after the defeat in 2015 england created a new strategy by dividing the pitch into 20 parts
क्रिकेट वर्ल्ड कप-2019 के खिताबी मुकाबले में रविवार को इंग्लैंड और न्यूजीलैंड की टीमें आमने-सामने होंगी। 2015 वर्ल्ड कप के ग्रुप स्टेज से बाहर होने से लेकर इस बार फाइनल तक पहुंचने का इंग्लैंड का सफर दिलचस्प रहा है और इसका बड़ा हिस्सा रहा है- डेटा एनालिसिस। इसमें पिच का पार्ट एनालिसिस भी शामिल होता है, जिसमें पिच को 20 हिस्सों में बांटकर स्टडी की जाती है।

डेटा एनालिस्ट नाथन लीमन 2009 में टीम से जुड़े। लीमन ने पहला फोकस इस पर रखा कि वे नए-नए आए टी20 फॉर्मेट की बारीकियां टीम को बता सकें। इंग्लैंड ने 2010 में टी20 वर्ल्ड कप जीत लिया। लीमन ने टूर्नामेंट से पहले ही जेम्स एंडरसन की जगह रेयान साइडबॉटम को टीम में लेने का सुझाव दिया था, क्योंकि टी20 में राइट हैंड पेसर से ज्यादा सफलता लेफ्ट हैंड पेसर को मिल रही थी। ये दांव काम कर गया और साइडबॉटम ने टूर्नामेंट में 16 की औसत से 10 विकेट लिए। फाइनल में उन्होंने दो विकेट लिए। 2015 वर्ल्ड कप में हार के बाद लीमन ने और भी डीप एनालिसिस करने का फैसला किया। इसके लिए दो तरीके अपनाए...

 Telegraph Media Group Limited 2019.

दैनिक भास्कर से विशेष अनुबंध के तहत

नाथन लीमन

लीमन ने गणित के मेथड को क्रिकेट से जोड़कर गेमप्लान बनाना शुरू किया

पिच का पार्ट एनालिसिस: 22 गज नहीं, 100-100 सेमी के 20 टुकड़ों वाली पिच

लीमन ने खिलाड़ियों को समझाया कि वे पिच को 22 गज नहीं, बल्कि 100-100 सेमी के 20 टुकड़ों की नजर से देखें। जैसे- शॉर्ट लेंथ का टुकड़ा, यॉर्कर का टुकड़ा, गुड लेंथ का टुकड़ा। फिर कई टुकड़ों को और भी 2-2 हिस्सों में बांटा गया। हर मैच से पहले लीमन इन टुकड़ों का एनालिसिस कर टीम को पूरी रिपोर्ट देते हैं। इसी से तय होता है कि कौन सा गेंदबाज किस हिस्से में ज्यादा गेंदबाजी करेगा, टीम के बल्लेबाजों को किस हिस्से में टप्पा खाकर आ रही गेंदों पर कैसा खेलना है और विपक्षी टीम के किस बल्लेबाज को किस हिस्से में गेंदबाजी करनी है।

न्यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्ड कप फाइनल से पहले लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड पर प्रैक्टिस करती इंग्लैंड टीम।

लीमन के डेटा एनालिसिस से मिले 4 इनपुट, जिसने इंग्लैंड को बड़ी मदद दिलाई



मॉन्टे कार्लो एनालिसिस: मैच से पहले पता होता है कि कल जीतने के कितने % चांस हैं

मॉन्टे कार्लो एनालिसिस गणित का तरीका है, जिससे पता किया जाता है कि किसी काम के होने या ना होने की कितनी % संभावना है। लीमन इस मेथड को क्रिकेट में लाए और 2015 वर्ल्ड कप के बाद से इस्तेमाल शुरू किया। इंग्लैंड के बड़े मैचों से कई दिन पहले से ही लीमन मॉन्टे कार्लो के आधार पर उस मैच में इंग्लैंड के जीतने या हारने की संभावना टटोलना शुरू कर देते हैं। ये सिलसिला वर्ल्ड कप में भी जारी है। इससे मैच से पहले ही टीम को पता होता है कि उसके जीतने की कितनी उम्मीद है। मॉन्टे कार्लो से निकलने वाले नतीजे के आधार पर ही प्लानिंग होती है।


अगली प्लानिंग: बल्लेबाज के हेलमेट पर कैमरा लगाने की

लीमन की प्लानिंग है कि बल्लेबाजों के हेलमेट में एक छोटा कैमरा लगाया जा सके, जिसके रियल टाइम फुटेज ड्रेसिंग रूम में मिले। जब एक बल्लेबाज खेल रहा होगा, तो बाद में आने वाले बल्लेबाजों को ड्रेसिंग रूम में बैठे-बैठे ही पिच का रियल टाइम एक्सपीरियंस मिल सकेगा। इससे वो अपनी बल्लेबाजी आने से पहले ही पिच का बाउंस और स्विंग जैसी चीजें भांप लेगा। हालांकि ऐसे प्रयोग के लिए उन्हें आईसीसी से इजाजत लेनी होगी।


Mor News - rajasthan news after the defeat in 2015 england created a new strategy by dividing the pitch into 20 parts
X
Mor News - rajasthan news after the defeat in 2015 england created a new strategy by dividing the pitch into 20 parts
Mor News - rajasthan news after the defeat in 2015 england created a new strategy by dividing the pitch into 20 parts
COMMENT