पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Banswara News Rajasthan News Amalia Ganesh Swings In Cradle Like Krishna Birthday Celebration In Talwara

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

तलवाड़ा में कृष्ण जन्मोत्सव की तरह पालने में झूले आमलिया गणेशजी

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कस्बे में सोमवार को सिद्धि विनायक गणेश मंदिर में गणेश चतुर्थी का पर्व श्रद्धा और उल्लास से मनाया गया। सिद्धि विनायक आमलिया गणेश मंदिर में विशेष पूजा-अर्चना की गई। श्रद्धालुओं ने गजानंद को मोदक का भोग लगाया गया। प्रसिद्ध सिद्धि विनायक गणेश मंदिर में सुबह मस्ताभिषेक किया। दोपहर में जमोत्सव मनाया गया। महापूजा यजमान अशोक पुत्र कचरूभाई जोशी एवं परिवारजनों के द्वारा की गई। कस्बे व आसपास के गावों में गणपति की सैंकड़ों प्रतिमाओं की स्थापना विधि विधान से वैदिक मंत्रोच्चार के साथ शुभ मूहुर्त में की गई की गई। श्रद्धालुओं ने अपने घरों में भी गणेश प्रतिमाओं की विधि विधान के साथ पूजा-अर्चना कर गुड़ और बेसन के लड्‌डुओं का भोग लगाया। शाम को महाआरती में श्रद्धालुओं का जनसैलाब उमड़ पड़ा। प्रसिद्ध सिद्धि विनायक गणेश में दो क्विंटल से भी ज्यादा लड्‌डुओं का भोग लगाया। समिति के अध्यक्ष महेश त्रिवेदी ने बताया कि गणेश विकास एवं व्यवस्था समिति, लक्ष्मीनारायण ट्रस्ट मंडल एवं वैष्णव समाजजनों के तत्वाधान में सोमवार को दोपहर 12 बजे गणेश का जन्मोत्सव श्रद्धा से मनाया गया। इस मौके पर मंदिर परिसर में भगवान गणेश को झूले में बिठाया गया और भक्तों के द्वारा दिनभर झुलाया गया। सिद्धि विनायक गणेश का मनोहारी शृंगार प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी सोनी परिवार के अनिल सोनी एवं परिवारजनों के द्वारा करवाया गया। मुख्य यजमान अशोक जोशी ने पंडित शेलेन्द्र व्यास के आचार्यत्व में विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना की। इससे पूर्व सुबह 5.30 बजे से भगवान गणेश का मस्ताभिषेक किया गया। 7 बजे मंगला आरती आरती की गई।

तलवाड़ा. कस्बे में सिद्धि विनायक गणेश मंदिर में पालने में झूलते गणेशजी

शहर में धातु की गणेश मूर्तियां स्थापित कर शुरू की पूजा
बांसवाड़ा. भावसार समाज के नोहरे में वर्ष 2001 में लाई गई धातु से निर्मित गणेश मूर्ति की विधिवत पूजा अर्चना करते कृष्णमदन भावसार।

बांसवाड़ा| पर्यावरण और जलाशयों के संरक्षण के उद्देश्य से शहर में भावसार समाज, पंचाल समाज और कंसारा समाजजनों ने धातु से निर्मित गणेश मूर्तियों की स्थापना की। इन समाजों के श्रद्धालु वर्ष दर वर्ष धातु की मूर्ति को स्थापित कर दस दिनों तक पूजा अर्चना करते हैं और अनंत चतुर्दशी के दिन शोभायात्रा के साथ जलाशय तक जाकर पूजा अभिषेक और आरती करने के बाद मूर्ति को यथा स्थान स्थापित कर देते हैं। वहीं भावसार समाज में वर्ष 2001 से ये परंपरा बन चुकी है कि धातु की गणेश मूर्ति एक साल तक जिसके घर में रखी जाती है, वही व्यक्ति गणेश चतुर्थी के दिन पूजा अर्चना कर गणेश मूर्ति की स्थापना करता है। वहीं दिन भर श्रद्धालु मनपसंद मूर्तियों को अपने-अपने मोहल्लों, गांवों, कस्बों को गाजे बाजों के साथ नाचते गाते ले गए, जहां उन्होंने गणेश मूर्तियों की स्थापना की।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपने अपनी दिनचर्या से संबंधित जो योजनाएं बनाई है, उन्हें किसी से भी शेयर ना करें। तथा चुपचाप शांतिपूर्ण तरीके से कार्य करने से आपको अवश्य ही सफलता मिलेगी। परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थल पर ज...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser