पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Banswara News Rajasthan News Government Should Pay Attention To This Despite All The Energy In Banswara Sb Jayshi

बांसवाड़ा में हर तरह की ऊर्जा माैजूद सरकार इस अाेर ध्यान दे-एसबी जाेशी

5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भारतीय परमाणु ऊर्जा िनगम के लिमिटेड के चीफ इंजीनियर व वैज्ञानिक एसबी जांशी ने कहा कि बांसवाड़ा में हर तरह की ऊर्जा के भंडार माैजूद हैं। यहां बायाेमास, बायाेडीजल, सूर्य ऊर्जा, पनबिजली, पवन ऊर्जा जैसे अक्षत ऊर्जा स्त्राैत प्रचुर मात्रा में उपलब्ध हैं। एेसे में राज्य सरकार काे इस अाेर विशेष ध्यान देना चाहिए। स्थानीय इंजीनियरिंग काॅलेज में अक्षय ऊर्जा पर अाधारित दाे दिवसीय अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन एपेक्स के दूसरे दिन शनिवार काे अायाेजित समापन समाराेह में मुख्य अतिथि पद से संबाेधित करते हुए कही।

कार्यक्रम की शुरूअात में डाॅ. वीरेश फुसकले ने दाे दिन चली इस कांफ्रेस का विश्लेषणात्मक विवरण पेश िकया। प्राचार्य डॉ शिवलाल ने बताया की यह कांफ्रेंस काफी सफल रही। इसमें अक्षय ऊर्जा के सभी आयामों और प्रकारों पर हो रहे शोधों पर चर्चा हुई। शोधार्थिओं ने अपने अपने शोध पत्र पढ़े। इस दाैरान यह तथ्य निकल कर अाए कि अभी हम 10 प्रतिशत तक अक्षय ऊर्जा का योगदान ले रहे हैं। कुछ ही वर्षों में यह 20 प्रतिशत हाे जाएगा। अक्षय ऊर्जा के उपयोग से हमारे बिजली के बिलाें में भी कटौती होगी। आज की बात करें तो रेस्को मोड से फोटोवोल्टाइक पावर प्लांट लगवाने पर सिर्फ 3 रूपये 19 पैसे प्रति यूनिट ही बिल आएगा और वो भी अगले 25 वर्षों तक। भविष्य में अक्षय ऊर्जा का ही जमाना आनेवाला है, जिसमें सभी को अपनी-अपनी भूमिका निभानी है। इससे आत्मनिर्भरता भी बनेगी और स्वरोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे। कांफ्रेंस के दूसरे दिन मुख्य रूप से डॉ हरेंद्र,शिव नादर यूनिवर्सिटी ग्रेटर नॉएडा, डॉ. नवनीत कुमार, डॉ संजीव कुमार,एमिटी यूनिवर्सिटी, डॉ इमरती भास्कर, डॉ राजेश अत्रि, डॉ ओमपाल सिंह, डॉ निखिल देव,वाई एम सी फरीदाबाद, डॉ अखिलेश चौधरी,एनआई टी हमीरपुर उपस्थित रहे।

डॉ हितेश भार्गव,बी वी ऍम विद्यानगर -जलवायु संकट बहुत गहरा रहा है। भविष्यवाणी की तुलना से भी जल्दी अपने दुष्प्रभाव दर्शा रहा है। उत्तरी ध्रुवीय आइस कैप के नीचे से गुजर रही नौसेना की पनडुब्बियों के डेटा तक पहुंच वाले वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि इस बात की 75 प्रतिशत संभावना है कि पांच साल के भीतर के भीतर गर्मियों के महिनाें में बर्फ की टोपी पूरी तरह से गायब हो जाएगी। यह ग्रीनलैंड पर पिघलने के दबाव को और बढ़ा देगा। विशेषज्ञों के अनुसार ग्रीनलैंड का सबसे बड़ाए जैकबशवन ग्लेशियर न्यूयॉर्क शहर के निवासियों द्वारा हर साल उपयोग किए जाने वाले पानी के बराबर हर दिन 20 मिलियन टन बर्फ खोने से पहले से कहीं अधिक तेज गति से आगे बढ़ रहा है। यह पृथ्वी पर हो रहे प्रदूषण के कारण यह भविष्यवाणी की तुलना में काफी जल्दी अपने दुष्प्रभाव दर्शा रहा है। प्रदूषण की प्रमुख वजह पावर प्लांटस है, क्योंकि विश्व में लगभग साठ प्रतिशत बिजली थर्मल प्लांट से बनती है। जाे कि प्रदूषण का बहुत बड़ा स्त्राैत है। जिसे अक्षय ऊर्जा स्रोतों से बिजली पैदा कर के और अक्षय ऊर्जा पर मानव मात्रा की निर्भरता बढ़ा कर कम किया जा सकता है। डॉ डी के पलवलिया,राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय कोटा ने सोलर ट्रैकिंग से सूर्य ऊर्जा के उन्नत उपयोगों की जानकारी देते हुए कहा कि हम लघु मध्यम उद्योग लगा कर अगर गांव-गांव में छोटे स्तर पर बिजली का उत्पादन शुरू करें। इसे ग्रिड से भी जोड़ दें तो बिजली की कीमत ताे कम होगी ही साथ ही रोजगार भी बढ़ेंगे। सरकाराें काे को इस अाेर ध्यान देना चाहिए ताकि ग्रामीण इलाकों में भी रोजगार के अवसर खुल सकें। प्रोफेसर मिथिलेश कुमार, राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय कोटा ने अपने उद्बाेधन में कहा कि सभी लोगों को अक्षय ऊर्जा का उपयोग करने की और ध्यान देना चाहिए। इससे ही जिले का, राज्य का और देश का नाम विश्व में उभर कर आगे आएगा। आज विश्व में रैंकिंग ऊर्जा के उपयोग करने की क्षमता पर निर्भर है, हमारे काम के सभी सामान और मशीनरी ऊर्जा से चलने वाली ही ज्यादा है जिनसे हम अाराम से काम कर सकते हैं।

बांसवाड़ा. अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में मौजूद इंजीनियर, तकनीकि विशेषज्ञ और छात्र-छात्राएं।

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- धार्मिक संस्थाओं में सेवा संबंधी कार्यों में आपका महत्वपूर्ण योगदान रहेगा। कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आने से राहत महसूस होगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा और कई प्रकार की गतिविधियों में आज व्यस्तता बनी...

और पढ़ें