• Hindi News
  • Rajya
  • Rajasthan
  • Banswara
  • Banswara News rajasthan news had to cut one hand due to the current but did not lose the spirit was getting education money by getting punctured

करंट लगने से एक हाथ काटना पड़ा, लेकिन होसला नहीं हारा, पंक्चर निकालकर जुटा रहा पढ़ाई के पैसे

Banswara News - मोटा गांव पंचायत के एक छोटे से गांव कनेला पाड़ा का रहने वाला राजकुमार जिसका बचपन में एक हाथ लाइट फिटिंग का काम करते...

Bhaskar News Network

Nov 11, 2019, 06:56 AM IST
Banswara News - rajasthan news had to cut one hand due to the current but did not lose the spirit was getting education money by getting punctured
मोटा गांव पंचायत के एक छोटे से गांव कनेला पाड़ा का रहने वाला राजकुमार जिसका बचपन में एक हाथ लाइट फिटिंग का काम करते हुए झुलस गया था।

हाथ इस कदर झुलस गया था कि उस हाथ को ही शरीर से अलग करना पड़ा। एक हाथ के चले जाने से राजकुमार की जिंदगी में एक निराशा ने अपना घर कर लिया था। राजकुमार अंदर से पूरी तरह टूट चुका था और वह मन ही मन उदास हो गया। निर्धन परिवार के राजकुमार पुत्र धुला डिंडोर का हाथ 11 साल पहले लाइट फिटिंग का काम करते समय जल गया था जिसके कारण हाथ को काटना पड़ा। राजकुमार तब महज आठवीं कक्षा में पढ़ रहा था। उसे पढ़ाई में ज्यादा रुचि थी और वह पढ़ लिख कर आगे बढ़ना चाहता था। लेकिन इस घटना ने उसे अंदर से झकझोर दिया और वह अपाहिज बनकर रह गया। राजकुमार के चार बहनें और एक भाई भी हैं और इन सबका पालन पोषण पिता की हैसियत से बाहर था। राजकुमार का महंगा इलाज नहीं हो सका और उसका एक हाथ मजबूरन काटना पड़ा। जब उसके साथ यह घटना हुई तब वह आठवीं कक्षा में पढ़ता था और 8वीं से लेकर 12वीं तक वह घर वालों पर आश्रित रहा। घर के लोग ही उसे पढ़ने के लिए मोटा गांव तक भेजते और उसका सारा खर्च वहन करते। लेकिन जब वह कॉलेज में दाखिला लेने गया तब पिता ने हिम्मत हार दी और कहा कि उनके पास पैसे नहीं है।

पिता की मजबूरी को देखते हुए पहले तो राजकुमार ने सोचा कि वह अब पढ़ाई छोड़ दे लेकिन दूसरे ही पल उसने सोचा कि जब ऊपर वाले ने उसे करंट लगने के बाद भी जिंदा रखा है तो क्यों न वह कुछ अलग करके दिखाए। उसने गांव में अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों से कुछ पैसे उधार लिए और उन पैसों से पंक्चर निकालने का सामान खरीद लाया। जब वह पंक्चर निकालने का सामान घर पर लाया तब घर वालों ने सोचा कि यह पागल हो गया है क्योंकि एक हाथ से भला कोई पंचर की दुकान चला सकता है। फिर राजकुमार ने धीरे-धीरे अपने दोस्तों की गाड़ी का टायर खोलना और उनका पंक्चर निकालना सीखा। शुरूआत में उसे इस काम में काफी तकलीफें आई। बहुत ही तकलीफ आई लेकिन जज्बे और पढ़ने की ललक ने उसे पैसे कमाने लायक बना दिया और अब वह आसानी से गाड़ियों के पंक्चर निकाल लेता है। पिछले 7 महीनों से राजकुमार ने अपने घर पर ही पंचर की दुकान खोली है तथा वहीं पर पास में एक चक्की भी डाली है। पंक्चर की दुकान से और चक्की से जो आमदनी होती है उसे राजकुमार ने अपनी कॉलेज की फीस भरी।

परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं इसलिए कनेला पाड़ा के राजकुमार ने महज 11 साल की उम्र में सीख लिया था लाइट फिटिंग करना

गनाेड़ा. पंक्चर निकालता दिव्यांग राजकुमार।

पढ़ लिखकर शिक्षक बनने का सपना

राजकुमार के जीवन में भले ही विधाता ने कुछ तकलीफें डाली हो लेकिन उन तकलीफों का राजकुमार ने बड़े ही हौसले के साथ सामना किया और औजारों का दामन थाम कर उसने कलम का रास्ता आसान किया। पंक्चर की दुकान एवं चक्की में मेहनत करके उसने अपने पढ़ाई का खर्चा खुद उठाने की जिद ठानी और वह उसमें सफल भी हुआ। अब कॉलेज की फीस भरने के अलावा उसके पास दो पैसे बचत भी हो रही है जिसका वह उपयोग एसटीसी या बीएड करने में करेगा। राजकुमार का सपना है कि वह अपने एक हाथ को ही हथियार बनाकर दुनिया में आगे बढ़ेगा और पढ़ाई पूरी करके शिक्षक बनकर समाज और जिले का नाम रोशन करेगा। राजकुमार के दोस्त भी पहले राजकुमार को तवज्जो नहीं देते थे लेकिन उसकी हिम्मत और हौसले को देख कर अब सारे दोस्त मिलकर उसकी मदद करते हैं।

X
Banswara News - rajasthan news had to cut one hand due to the current but did not lose the spirit was getting education money by getting punctured
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना