पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Mor News Rajasthan News Hail Over The Expectations Of The Farmers Destroying Crops In One Lakh Hectare

किसानाें की उम्मीदों पर ओले, एक लाख हेक्टेयर में खड़ी फसल तबाह

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

ग्वालियर-चंबल संभाग के भिंड आैर मुरैना में शुक्रवार को गिरे आेले खेतों में खड़ी फसलों पर कहर बनकर बरसे। दोनों जिलों में 250 गांवों में बारिश के साथ कहीं बेर तो कहीं उसे बड़े आकार के ओले गिरे। इससे एक लाख हेक्टेयर में खड़ी गेहूं-सरसों की फसल चौपट हो गई। भिंड के गोहद में एक गाय आैर एक मोर की मौत हुई है। श्योपुर में बारिश होने के बाद रात का पारा 11 डिग्री पर आने से प्रदेश में सबसे ठंडी रात रही। ग्वालियर में आधी रात के बाद तड़के भी बारिश हुई लेकिन दोपहर में धूप निलने से बीते रोज की तुलना में पारा चढ़ा रहा। यहां दोपहर में भी बूंदाबांदी हुई।

भिंड में सुबह से ही बारिश और ओलावृष्टि का दौर शुरू हो गया था। पहले सुबह अटेर क्षेत्र में ओले गिरे। इसके बाद दोपहर में अटेर, गोहद, मेहगांव, अटेर और भिंड में करीब 25 से 30 मिनट तेज बारिश के साथ ओले गिरे। गोहद के बकनासा में एक गाय और इसी क्षेत्र के भीकमपुरा में एक मोर की मौत हो गई। इस ओलावृष्टि से गेहूं और सरसों की फसल को भारी नुकसान बताया जा रहा है। वहीं देर शाम लहार क्षेत्र में भी बारिश शुरू हो गई थी। ओले गिरने से जिले के 200 गांव में 80 हजार हेक्टेयर में खड़ी फसल खराब होना बताया जा रहा है।

मुरैना जिले के मुरैना, पोरसा, सिहोनियां ब्लॉक में बेर से बड़े ओले गिरे। तकरीबन 3 मिनट की ओलावष्टि की वजह से 50 गांवों की 20 हजार हेक्टेयर में खड़ी गेहूं, सरसों की फसल पूरी तरह से तबाह हो गई। ओलों की रफ्तार इतनी थी कि फसल तने से कटकर खेतों में बिछ गई।

अफीम के साथ गेंहू की फसल झुकी, लहसुन-प्याज को नुकसान

नीमच/मोरवन, पालसोड़ा | गुरुवार रात मौसम में बदलाव से 12.30 बजे से अचानक बारिश, बिजली की चमक व गड़गड़ाहट के साथ तेज हवा चली। करीब आधा घंटा तक नीमच सहित जिले में कहीं तेज तो कहीं बूंदाबांदी हुई। सबसे ज्यादा असर नीमच, रतनगढ़, मोरवन, सिंगोली क्षेत्र में देखने को मिला है। जहां तेज हवा से खेतों में खड़ी फसलों को नुकसान हुआ।नीमच सहित मोरवन, दड़ौली, पालसोड़ा, दारू, दूदरसी, जाट, धारड़ी, कदवासा, रतनगढ़, सिंगोली क्षेत्र में अफीम के साथ गेंहू, सरसों की फसलें झुक गई। चना, ईसबगोल, लहसुन, प्याज की फसलों को पानी से नुकसान हुआ है

खबरें और भी हैं...