ईश्वर को समझना है तो विचारों का श्रवण नहीं, सेवन करें : उत्तम स्वामी

Banswara News - भास्कर संवाददाता| बांसवाड़ा ईश्वर को समझना है तो विचारों का श्रवण नहीं सेवन करें। उक्त आह्वान ध्यान योगी...

Dec 10, 2019, 07:00 AM IST
Banswara News - rajasthan news if you want to understand god do not listen to thoughts consume them uttam swamy
भास्कर संवाददाता| बांसवाड़ा

ईश्वर को समझना है तो विचारों का श्रवण नहीं सेवन करें। उक्त आह्वान ध्यान योगी महर्षि उत्तम स्वामी ने रवींद्र ध्यान आश्रम उत्तम सेवा धाम में गीता जयंती के उपलक्ष में आयोजित व्याख्यानमाला में व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि गीता आत्मा के दर्शन कराती है और समस्या से संघर्ष करना गीता सिखाती है। उन्होंने बताया कि सूर्य की किरणों को परिवर्तित नहीं कर सकते लेकिन उससे संरक्षण कर सकते हैं यही काम गीता कर सकती है। हमें शांति के लिए गीता की छाया में जाना पड़ेगा गीता मार्गदर्शक पथ प्रदर्शक है। दुर्गुणयुक्त लोगों का संग्रह शीघ्र हो जाता है लेकिन सदाचारी का संगठन नहीं बन पाता है। ऐसे में हर सप्ताह विचारों का आदान-प्रदान होना चाहिए। उद्घाटन सत्र की अध्यक्षता करते हुए महात्मा गांधी बीएड कॉलेज की प्राचार्य डॉ. मधु उपाध्याय ने कहा कि गीता भगवान श्री कृष्ण के मुख वाणी से गाया गीत है। उन्होंने बताया कि ईश्वर की कृपा वाले ही गीता की ओर मुड़ते हैं। कैसे सोचें, क्या करें, आत्मा-परमात्मा क्या है? इन सभी का उत्तर गीता में मिलता है। उन्होंने बताया कि निर्देशन और परामर्श भी गीता से मिलता है। महात्मा गांधी बीएड कॉलेज में गुरु शिष्य के संबंध का ज्ञान भी गीता के माध्यम से कराने की जानकारी दी। कार्यक्रम के प्रारंभ में ख्यात गायिका रिया उपाध्याय भारत में फिर गूंजे गीता गीत की प्रस्तुति दी। हरिदेव जोशी राजकीय कन्या महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. सर्वजीत दुबे ने कृष्ण और कृष्णा के संबंध पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि कृष्ण और कृष्णा का संबंध मैत्री भाव का रहा है। उन्होंने भारत देश को स्त्री प्रधान देश बताते हुए कहा कि सत्य प्रेम और अहिंसा से चरित्र निर्माण हो सकता है। इस अवसर पर घोटिया आंबा धाम के मंहत हिरागिरी, मौनी बाबा, लालशंकर पारगी, कालीहेल धाम और गायत्री मठ के महंत आशापूर्ण महाराज आदि मौजूद रहे। इस अवसर पर महेश उपाध्याय, निखिल त्रिवेदी, भारत भूषण गांधी, शांताराम शर्मा आदि मौजूद रहे। कार्यक्रम में दो दर्जन से अधिक धुणी-धामों से आए संत-महंत मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन शुची जोशी और दीपक श्रीमाल ने किया। आभार भुवन पंड्या ने जताया।

धर्म समाज संस्था

बांसवाड़ा. गीता जयंती के उपलक्ष्य में आयोजित कार्यक्रम में मौजूद उत्तम स्वामी महाराज समेत संत और श्रद्धालु।

महाविद्यालय छात्रों ने दी बेबाक अभिव्यक्तियां

कार्यक्रम के दौरान महाविद्यालय विद्यार्थियों ने अपनी बेबाक अभिव्यक्ति दी। जनजाति विश्वविद्यालय से एमबीए कर रहे विकास चौधरी ने गीता को प्रबंधन का गुरु बताया। इसी तरह बीवीबी पराग शुक्ला ने संस्कृत में श्लोक एवं चेतना कंवर ने दूसरे अध्याय पर प्रकाश डाला। धनेश कलाल ने श्लोकों की प्रस्तुति दी। इस अवसर पर महात्मा गांधी बीएड कॉलेज के अनंत व्यास, अनामिका व्यास एवं भावना जोशी ने अपनी अभिव्यक्ति दी। वाद्य यंत्र पर सना रजा ने गीतो पर संगत दी। भारतीय विद्या मंदिर संस्थान की रजनी चौधरी, पूर्वा कंसारा एवं पूजा यादव ने गीत की प्रस्तुति दी।

X
Banswara News - rajasthan news if you want to understand god do not listen to thoughts consume them uttam swamy
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना